रविवार, 30 दिसंबर 2018

598. वृद्ध जीवन (वृद्धावस्था पर 20 हाइकु)

वृद्ध जीवन 

*******   

1.   
उम्र की साँझ   
बेहद डरावनी   
टूटती आस।   

2.   
अटकी साँस   
बुढापे की थकान   
मन बेहाल।   

3.   
वृद्ध की कथा   
कोई न सुने व्यथा   
घर है भरा।   

4.   
दवा की भीड़   
वृद्ध मन अकेला   
टूटता नीड़।   

5.   
अकेलापन   
सबसे बड़ी पीर   
वृद्ध जीवन।   

6.   
उम्र जो हारी   
एक पेट है भारी   
सब अपने।   

7.
धन के नाते   
मन से हैं बेगाने   
वृद्ध बेचारे।   

8.   
वृद्ध से नाता   
अपनों ने था छोड़ा   
धन ने जोड़ा।   

9.   
बदले कौन   
मखमली चादर   
बुढ़ापा मौन।   

10.   
बहता नीर   
यही जीवन रीत   
बुढ़ापा भारी।   

11.   
उम्र का चूल्हा   
आजीवन सुलगा   
अब बुझता।   

12.   
किससे कहें?   
जीवन-साथी छूटा   
ढेरों शिकवा।   

13.   
बुढ़ापा खोट   
अपने भी भागते   
कोई न ओट।   

14.   
वृद्ध की आस   
शायद कोई आए   
टूटती साँस।   

15.   
ग़म का साया   
बुजुर्ग का अपना   
यही है सच।   

16.   
जीवन खिले   
बुजुर्गों के आशीष   
खूब जो मिले।   

17.   
टूटा सपना   
कौन सुने दुखड़ा   
वृद्ध अकेला।   

18.   
वक्त ने कहा -   
याद करो जवानी   
भूल अपनी।   

19.   
वक्त है लौटा   
बुजुर्ग का सपना   
सब हैं साथ।   

20.
वृद्ध की लाठी
बस गया विदेश
भूला वो माटी। 

- जेन्नी शबनम (24. 12. 2018)

_________________________

मंगलवार, 25 दिसंबर 2018

597. बातें (क्षणिका)

बातें 

*******   

रात के अँधेरे में   
मैं ढेरों बातें करती हूँ 
जानती हूँ मेरे साथ 
तुम कहीं नहीं थे   
तुम कभी नहीं थे 
पर सोचती रहती हूँ 
तुम सुन रहे हो 
और खुद से बातें करती हूँ।   

- जेन्नी शबनम (25. 12. 2018)   

______________________________

बुधवार, 19 दिसंबर 2018

596. दुःख (दुःख पर 10 हाइकु)

दुःख (10 हाइकु)   

*******

1.   
दुःख का पारा 
सातवें आसमाँ पे   
मन झुलसा !   

2.   
दुःख का लड्डु   
रोज-रोज यूँ खाना   
बड़ा ही भारी !   

3.   
दुःख की नदी 
बेखटके दौड़ती   
बे रोक-टोक !   

4.   
साथी है दुःख   
साथ है हरदम 
छूटे न दम !   

5.   
दुःख की वेला 
कभी तो गुजरेगी   
मन में आस !   

6.   
दुःख की रोटी 
भरपेट है खाई   
फिर भी बची !   

7.   
दुःख अतिथि 
जाने की नहीं तिथि   
बड़ा बेहया !   

8.   
दुख की माला 
काश ये टूट जाती   
सुकून पाती !   

9.   
मस्त झूमता 
बड़ा ही मतवाला   
दुःख है योगी !   

- जेन्नी शबनम (28. 9. 2018)   

_________________________________

बुधवार, 5 दिसंबर 2018

595. अर्थ ढूँढ़ता (10 हाइकु)

अर्थ ढूँढ़ता 
(10 हाइकु)   

*******   

1.   
मन सोचता -   
जीवन है क्या ?   
अर्थ ढूँढता।   

2.   
बसंत आया   
रिश्तों में रंग भरा   
मिठास लाया।   

3.   
याद-चाशनी   
सुख की है मिठाई   
मन को भायी।   

4.   
फिक्र व चिन्ता   
बना गए दुश्मन,   
रोगी है काया।   

5.   
वक्त की धूप   
शोला बन बरसी   
झुलसा मन।   

6.   
सुख व दुख   
यादों का झुरमुट   
अटका मन।   

7.   
खामोश बही   
गुमनाम हवाएँ   
ज्यों मेरा मन।   

8.   
मैं सूर्यमुखी   
तुम्हें ही निहारती   
तुम सूरज।   

9.   
मेरी वेदना   
सर टिकाए पड़ी   
मौन की छाती।   

10.   
छटपटाती   
साँस लेने को   
बीमार हवा।   

- जेन्नी शबनम (23. 11. 2018)   

________________________________

गुरुवार, 22 नवंबर 2018

594. रूठना (क्षणिका)

रूठना   

*******   

जब भी रूठी   
खो देने के भय से   
खुद ही मान गई,   
रूठने की आदत तो
बिदाई के वक्त   
खोइँछा से निकाल   
नईहर छोड़ आई। 

- जेन्नी शबनम (22. 11. 18)   

_______________________ 

शनिवार, 17 नवंबर 2018

593. लौट जाऊँगी...

लौट जाऊँगी...   

*******   

कब कहाँ खो आई ख़ुद को   
कब से तलाश रही हूँ ख़ुद को   
बात-बात पर कभी रूठती थी   
अब रूठूँ तो मनाएगा कौन   
बार-बार पुकारेगा कौन   
माँ की पुकार में दुलार का नाम   
अब भी आँखों में ला देता नमी   
ठहर गई है मन में कुछ कमी,   
अब तो यूँ जैसे मैं बेनाम हो गई   
अपने रिश्तों के परवान चढ़ गई   
कोई पुकारे तो यूँ महसूस होता है   
गर्म सीसे का ग़ुब्बारा ज़ोर से मारा है   
कभी मेरी हँसी और ठहाके गूँजते थे   
अब ख़ुद से ही बतियाते मौसम बदलते हैं   
टी वी की शौक़ीन कृषि दर्शन तक देखती थी   
अब टी वी तो चलता है मगर क्या देखा याद नहीं   
वक्त ने एक-एक कर मुझसे मुझको छीन लिया   
ख़ुद को तलाशते-तलाशते वक्त यूँ ही गुज़र गया   
सारे शिकवे शिकायत गंगा से कह आती हूँ   
आँखों का पानी सिर्फ़ गंगा ही देखती है   
वह भी ढाढ़स बँधाने बदली को भेज देती है   
मेरी आँखों-सी बदली भी जब तब बरसती है   
वो मंज़र जाने कब आएगा   
वो सुखद पल जाने कब आएगा   
सारे नातों से घिरी हुई मैं   
एक झूठ के चादर से लिपटी मैं   
सबको ख़ुशामदीद कह जाऊँगी   
तन्हा सफ़र पर लौट जाऊँगी   
खो आई थी कभी ख़ुद को   
ख़ुद से मिल कर   
ख़ुद के साथ चली जाऊँगी   
ख़ुद के साथ लौट जाऊँगी। 

- जेन्नी शबनम (16. 11. 2018)   

_______________________

बुधवार, 7 नवंबर 2018

592. रंगीली दिवाली (दिवाली पर 10 हाइकु)

रंगीली दिवाली
(दिवाली पर 10 हाइकु)

*******

1.
छबीला दीया
ये रंगीली दिवाली
बिखेरे छटा। 

2.
साँझ के दीप
अँधेरे से लड़ते
वीर सिपाही।

3.
दीये नाचते
ये गुलाबी मौसम
खूब सुहाते। 

4.
झूमती धरा
अमावस की रात
खूब सुहाती। 

5.
दीप-शिखाएँ
जगमग चमके
दीप मालाएँ। 

6.
धूम धड़ाका
बेजुबान है डरा
चीखे पटाखा। 

7.
ज्योत फैलाता
नन्हा बना सूरज
दिवाली रात। 

8.
धरती ने ओढ़ी
जुगनुओं की चुन्नी
रात है खिली। 

9.
सत्य की जीत
दिवाली देती सीख
समझो जरा। 

10.
पेट है भूखा
गरीब की कुटिया,
कैसी दिवाली?

- जेन्ना शबनम (7. 11. 2018)

_________________________

बुधवार, 24 अक्तूबर 2018

591. चाँद की पूरनमासी...

चाँद की पूरनमासी...   

*******

चाँद तेरे रूप में अब किसको निहारूँ?   
वो जो बचपन में दूर का खिलौना था 
या फिर सफेद बालों वाली बुढ़िया 
जो चरखे से रूई कातती रहती थी 
या फिर वो साथी जिससे बतकही करते हुए 
न जाने कितनी पूरनमासी की रातें बीतीं थीं 
इश्क के जाने कितने किस्से गढ़े गए थे 
जीवन के फलसफे जवान हुए थे 
किस्से कहानियों से तुम्हें निकालकर 
अपने वजूद में शामिल कर 
जाने कितना इतराया करती थी 
कितने सपनों को गूना करती थी 
अब यह सब बीते जीवन का हिस्सा-सा लगता है 
सीखों और अनुभवों का बोध कथा-सा लगता है 
हर पूरनमासी की रात जब तुम खिलखिलाओगे 
अपने रूप पर इठलाओगे 
मेरी बतकही अब मत सुनना 
मेरी विनती सुन लेना 
धरती पर चुपके से उतर जाना 
अँधेरे घरों में उजाला भर देना 
हो सके तो गोल-गोल रोटी बन जाना 
भूखों को एक-एक टुकड़ा खिला जाना 
ऐ चाँद, अब तुमसे अपना नाता बदलती हूँ 
तुम्हें अपना गुरू मान 
तुममें अपने गुरू का रूप मढ़ देती हूँ 
मुझे जो पाठ सिखाया जीवन का 
जग को भी सिखला देना 
हर पूरनमासी को आकर 
यूँ ही उजाला कर जाना ! 

- जेन्नी शबनम (24. 10. 2018)   

___________________________________ 

रविवार, 14 अक्तूबर 2018

590. वर्षा (5 ताँका)

वर्षा (ताँका)   

*******   

1.   
वर्षा की बूँदें   
उछलती-गिरती   
ठौर न पाती   
मौसम बरसाती   
माटी को तलाशती।   

2.   
ओ रे बदरा   
इतना क्यों बरसे   
सब डरते   
अन्न-पानी दूभर   
मन रोए जीभर।   

3.   
मेघ दानव   
निगल गया खेत,   
आया अकाल   
लहू से लथपथ   
खेत व खलिहान।   

4.   
बरखा रानी   
झम-झम बरसी   
मस्ती में गाती   
खिल उठा है मन   
नाचता उपवन।   

5.   
प्यासी धरती   
अमृत है चखती   
सोंधी-सी खूश्बू   
मन को लुभाती   
बरखा तू है रानी।   

- जेन्नी शबनम (9. 9. 2018)   

_________________________

सोमवार, 8 अक्तूबर 2018

589. अनुभूतियाँ

अनुभूतियाँ   

*******   

कुछ अनुभूतियाँ   
आकाश के माथे का चुम्बन है   
कुछ अनुभूतियाँ   
सूरज की ऊर्जा का आलिंगन है   
हर चाहना हर कामना   
अद्भूत अनोखा अँसुवन है   
न क्षीण न स्थाई कुछ   
मगर ये भाव   
सहज अनोखा बन्धन है।   

- जेन्नी शबनम (8. 10. 2018)   

____________________________   

मंगलवार, 2 अक्तूबर 2018

588. बापू (चोका - 9)

बापू (चोका)   

*******   

जन्म तुम्हारा   
सौभाग्य है हमारा   
तुमने दिया   
जग को नया ज्ञान   
हारे-पिछड़े   
वक्त ने जो थे मारे   
दुख उनका   
सह न पाए तुम   
तुमने किया   
अहिंसात्मक जंग   
तुमने कहा -   
सत्य और अहिंसा   
सच्चे विचार   
स्वयं पर विजय   
यही था बस   
तुम्हारा हथियार   
तुम महान   
लाए नया विहान   
दूर भगाया   
विदेशी सरमाया   
मगर देखो   
तुम्हारा उपकार   
भूला संसार   
छल से किया वार   
दिया आघात   
जो अपने तुम्हारे   
सीना छलनी   
हुई लहूलुहान   
तुम्हारी भूमि   
प्रण पखेरू उड़े   
तुम निष्प्राण   
जग में कोहराम   
ओह! हे राम!   
यह क्या हुआ राम!   
हिंसा से हारा   
अहिंसा का पुजारी   
तुम तो चले गए   
अच्छा ही हुआ   
न देखा यह सब   
देख न पाते   
तुम्हारी कर्मभूमि   
खंडों में टूटी   
तुम्हारा बलिदान   
हुआ है व्यर्थ   
तुम्हारे अपने ही   
छलते रहे   
खंजर भोंक रहे   
अपनों को ही   
तुम्हारी शिक्षा भूल   
तुम्हारा दर्शन   
तुम्हारे विचार त्याग   
घिनौने कार्य   
तुम्हारे नाम पर   
ओह! दुःखद!   
हम नहीं भूलेंगे   
अपनाएँगे   
तुमसे सीखा पाठ   
नमन बापू   
पूजनीय हो तुम   
अमर रहो तुम!   

- जेन्नी शबनम (2. 10. 2018)

___________________________

शुक्रवार, 14 सितंबर 2018

587. मीठी-सी बोली (हिन्दी दिवस पर 10 हाइकु)

मीठी-सी बोली 
(हिन्दी दिवस पर 10 हाइकु)   

*******   

1.   
मीठी-सी बोली   
मातृभाषा हमारी   
ज्यों मिश्री घुली!   

2.   
हिन्दी है रोती   
बेबस व लाचार   
बेघर होती!   

3.   
प्यार चाहती   
अपमानित हिन्दी   
दुखड़ा रोती!   

4.   
अंग्रेज़ी भाषा   
सर चढ़ के बोले   
हिन्दी ग़ुलाम!   

5.   
विजय-गीत   
कभी गाएगी हिन्दी   
आस न टूटी!   

6.   
भाषा लड़ती   
अंग्रेज़ी और हिन्दी   
कोई न जीती!   

7.   
जन्मी दो जात   
अंग्रेज़ी और हिन्दी   
भारत देश!   

8.   
मन की पीर   
किससे कहे हिन्दी   
है बेवतन!   

9.   
हिन्दी से नाता   
नौकरी मिले कैसे   
बड़ी है बाधा!   

10.   
हमारी हिन्दी   
पहचान मिलेगी   
आस में बैठी!   

- जेन्नी शबनम (14. 9. 2018)   

_______________________________   


सोमवार, 10 सितंबर 2018

586. चाँद रोज़ जलता है

चाँद रोज़ जलता है   

*******   

तूने ज़ख़्म दिया तूने कूरेदा है   
अब मत कहना क़हर कैसा दिखता है।   

राख में चिंगारी तूने ही दबाई   
अब देख तेरा घर खुद कैसे जलता है।   

तू हँसता है करके बरबादी गैरों की   
गुनाह का हिसाब खुदा रखता है।   

पैसे के परों से तू कब तक उड़ेगा   
तेज़ बारिशों में काग़ज़ कब टिकता है।   

तू न माने 'शब' के दिल को सूरज जाने   
उसके कहे से चाँद रोज़ जलता है।   

- जेन्नी शबनम (10. 9. 2018)   

__________________________________

शनिवार, 1 सितंबर 2018

585. फ़ॉर्मूला...

फ़ॉर्मूला...   

*******   

मत पूछो ऐसे सवाल   
जिसके जवाब से तुम अपरिचित हो   
तुम स्त्री-से नहीं हो   
समझ न सकोगे स्त्री के जवाब   
तुम समझ न पाओगे   
स्त्री के जवाब में   
जो मुस्कुराहट है   
जो आँसू है   
आखिर क्यों है,   
पुरूष के जीवन का गणित और विज्ञान   
सीधा और सहज है   
जिसका एक निर्धारित फॉर्मूला है   
मगर स्त्रियों के जीवन का गणित और विज्ञान   
बिल्कुल उलट है   
बिना किसी तर्क का   
बिना किसी फॉर्मूले का,   
उनके आँसुओं के ढ़ेरों विज्ञान हैं    
उनकी मुस्कुराहटों के ढ़ेरों गणित हैं   
माँ, पत्नी, पुत्री या प्रेमिका   
किसी का भी जवाब तुम नहीं समझ सकोगे   
क्योंकि उनके जवाब में अपना फॉर्मूला फिट करोगे,   
तुम्हारे सवाल और जवाब   
दोनों सरल हैं   
पर स्त्री का मन   
देवताओं के भी समझ से परे है   
तुम तो महज मानव हो   
छोड़ दो इन बातों को   
मत विश्लेषण करो स्त्रियों का   
समय और समझ से दूर   
एक अलग दुनिया है स्त्रियों की   
जहाँ किसी का प्रवेश प्रतिबंधित नहीं   
न ही वर्जित है   
परन्तु शर्त एक ही है   
तुम महज मानव नहीं   
इंसान बन कर प्रवेश करो   
फिर तुम भी जान जाओगे   
स्त्रियों का गणित   
स्त्रियों का विज्ञान   
स्त्रियों के जीवन का फ़ॉर्मूला   
फिर सारे सवाल मिट जाएँगे   
और जवाब तुम्हें मिल जाएगा।   

- जेन्नी शबनम (1. 9. 2018)   

_______________________________

मंगलवार, 28 अगस्त 2018

584. कम्फर्ट ज़ोन

कम्फर्ट ज़ोन...   

*******   

कम्फर्ट ज़ोन के अंदर   
तमाम सुविधाओं के बीच   
तमाम विडम्बनाओं के बीच   
सुख का मुखौटा ओढ़े   
शनै-शनै   
बीत जाता है   
रसहीन जीवन   
हासिल होता है   
महज   
रोटी, कपड़ा, मकान   
बेरंग मौसम   
और रिश्तों की भरमार   
कम्फर्ट जोन के अंदर   
नहीं होती है कोई मंजिल   
अगर है भी तो   
पराई है मंजिल।   
कम्फर्ट जोन से बाहर   
अथाह परेशानियाँ   
मगर असीम संभावनाएँ   
अनेक पराजय   
मगर स्व-अनुभव   
अबूझ डगर   
मगर रंगीन मौसम   
असह्य संग्राम   
मगर अक्षुण्ण आशाएँ   
अपरिचित दुनिया   
मगर बेपनाह मुहब्बत   
अँधेरी राहें   
मगर स्पष्ट मंजिल।   
बेहद कठिन है   
फैसला लेना   
क्या उचित है -   
अपनी मंज़िल या   
कम्फर्ट ज़ोन !   

- जेन्नी शबनम (28. 8. 2018)   

_______________________________

शनिवार, 18 अगस्त 2018

583. खिड़की स्तब्ध है...

खिड़की स्तब्ध है...

*******   

खिड़की, महज़ एक खिड़की नहीं   
वह एक एहसास है, संभावना है   
भीतर और बाहर के बीच का भेद   
वह बखूबी जानती है   
इस पार छुपा हुआ संसार है   
जहाँ की आवोहवा मौन है   
उस पार विस्तृत संसार है   
जहाँ बहुत कुछ मन भावन है   
खिड़की असमंजस में है   
खिड़की सशंकित है   
कैसे पाट सकेगी   
कैसे भाँप सकेगी   
दोनों संसार को   
एक जानदार है   
एक बेजान है,   
खिड़की स्तब्ध है!   

- जेन्नी शबनम (18. 8. 2018)

__________________________

बुधवार, 15 अगस्त 2018

582. सिंहनाद करो

सिंहनाद करो...   

*******   

व्यर्थ लगता है   
शब्दों में समेटकर 
हिम्मत में लपेटकर 
अपनी संवेदनाओं को 
अभिव्यक्त करना, 
हम जिसे अपनी आजादी कहते हैं 
हम जिसे अपना अधिकार मानते हैं 
सुकून से दरवाजे के भीतर 
देश की दुर्व्यवस्था पर 
देश और सरकार को कोसते हैं 
अपनी खुशनसीबी पर 
अभिमान करते हैं कि 
हम सकुशल हैं, 
यह भ्रम जाने किस वक्त टूटे 
जाने कब धड़धड़ाता हुआ आए 
असंवेदनशीलता का कहर 
और हमारे शरीर और आत्मा को 
छिन्न-भिन्न कर जाए, 
ज्ञानी-महात्मा कहते हैं 
सब व्यर्थ है 
जग मोह है माया है 
क्षणभंगूर है 
फिर तो व्यर्थ है हमारी सोच 
व्यर्थ है हमारी अभिलाषाएँ 
जो हो रहा है होने दो 
नदी के साथ बहते जाओ 
आजादी हमारा अधिकार नहीं 
बस जीते जाओ जीते जाओ!   
यही वक़्त है   
खुद से अब साक्षात्कार करो 
सारे कहर आत्मसात करो 
या फिर सिंहनाद करो! 

- जेन्नी शबनम (15. 8. 2018)   

____________________________   

________________________

रविवार, 5 अगस्त 2018

581. अनछुई-सी नज़्म...

अनछुई-सी नज़्म...   

*******   

कुछ कहो कि   
सन्नाटा भाग जाए   
चुप्पियों को लाज आ जाए   
अँधेरों की तक़दीर में   
भर दो रोशनाई से रंग   
कि छप जाए रंगों भरी ग़ज़ल   
और सदके में झुक जाए   
मेरी अनछुई-सी नज़्म !   

- जेन्नी शबनम (5. 8. 2018)

______________________________

शुक्रवार, 27 जुलाई 2018

580. गुमसुम प्रकृति (प्रकृति पर 10 सेदोका)

गुमसुम प्रकृति
(प्रकृति पर 10 सेदोका)   

*******   

1.   
अपनी व्यथा   
गुमसुम प्रकृति   
किससे वो कहती   
बेपरवाह   
कौन समझे दर्द   
सब स्वयं में व्यस्त।   

2.   
वन, पर्वत   
सूरज, नदी, पवन   
सब हुए बेहाल   
लड़खड़ाती   
साँसें सबकी डरी   
प्रकृति है लाचार।   

3.   
कौन है दोषी?   
काट दिए हैं वन   
उगा कंक्रीट-वन   
मानव दोषी   
मगर है कहता -   
प्रकृति अपराधी।   

4.   
दोषारोपण   
जग की यही रीत   
कोई न जाने प्रीत   
प्रकृति तन्हा   
किस-किस से लड़े   
कैसे ज़खम सिले।   

5.   
नदियाँ प्यासी   
दुनिया ने छीनी है   
उसका मीठा पानी,   
करो विचार   
प्रकृति है लाचार   
कैसे बुझाए प्यास।   

6.   
बाँझ निगोड़ी   
कुम्हलाई धरती   
नि:संतान मरती   
सूखा व बाढ़   
प्रकृति का प्रकोप   
धरा बेचारी।   

7.   
सब रोएँगे   
साँसें जब घुटेंगी   
प्रकृति भी रोएगी,   
वक्त है अभी   
प्रकृति को बचा लो   
दुनिया को बसा लो।   

8.   
विषैले नाग   
ये कल कारखाना   
ज़हर उगलते   
साँसें उखड़ी   
ज़हर पी-पी कर   
प्रकृति है मरती।   

9.   
लहूलुहान   
खेत व खलिहान   
माँगता बलिदान   
रक्त पिपासु   
खुद मानव बना   
धरा का खून पिया।   

10.   
प्यासी नदियाँ   
प्यासी तड़पे धरा   
प्रकृति भी है प्यासी,   
छाई उदासी,   
अभिमानी मानव   
विध्वंस को आतूर।   

- जेन्नी शबनम (23. 5. 2018)

_______________________