Wednesday, March 31, 2010

131. अब इंतज़ार है.../ ab intzaar hai...

अब इंतज़ार है...

*******

क्यों है ये संवादहीनता
या फिर है संवेदनहीनता,
पर जज़्बात तो अब भी वही
जाने क्यों मुखरित होते नहीं !

बेवक्त खींचा आता था मन
बेसबब खिल उठता था पल,
हर वक़्त हवाओ में तैरते थे
एहसास जो मन में मचलते थे !

यकीन है लौट आयेंगे शब्द मेरे
बस थोड़े रूठ गये हैं लफ्ज़ मेरे,
प्रवासी पखेरू की तरह छोड़ गये हैं
मौसम के आने का मुझे अब इंतज़ार है !

- जेन्नी शबनम (30. 3. 2010)

__________________________________

ab intzaar hai...

*******

kyon hai ye samvaadheenta
ya hai ye samvedanheenta,
par jazbaat to ab bhi wahi
jaane kyon mukhrit hote nahin !

bewaqt kheencha aata thaa mann
besabab khil uthta tha pal,
har waqt hawaaon mein tairte they
ehsaas jo mann mein machalte they !

yakeen hai laut aayenge shabd mere
bas thode rooth gaye hain lafz mere,
prawaasi pakheru ki tarah chhod gaye hain
mausam ke aane ka mujhe ab intzaar hai !

- jenny shabnam (30. 3. 2010)

___________________________________________

Monday, March 29, 2010

130. निशानी... / nishaani...

निशानी...

*******

वक़्त के सीने पर
हम अपनी कहानी लिख जाएँगे
किसी की यादों में
हम अपनी निशानी छोड़ जाएँगे
याद करोगे तो होठों की
ख़ामोश हँसी में लिपट जाएँगे
कभी आँखों से
बूँद बन बरस जाएँगे
कभी सपनों में कभी ख्यालों में
आ तड़पा जाएँगे
न चाहो फिर भी
हम तन्हाइयों में आ जाएँगे
भूल न जाओ कहीं
हम लहू बन नस-नस में समा जाएँगे
मेरी निशानी ढूँढ़े जो कोई
तुम्हारी आँखों में हम दिख जाएँगे !

- जेन्नी शबनम (जुलाई 21, 2007)

___________________________________

nishaani...

*******

waqt ke seene par
hum apni kahaani likh jaayenge
kisi ki yaadon mein
hum apni nishaani chhod jaayenge
yaad karoge to hothon ki
khaamosh hansi mein lipat jaayeng
kabhi aankhon se
boond ban baras jaayenge
kabhi sapnon mein kabhi khayaalon mein
aa tadpaa jaayenge
na chaaho fir bhi
hum tanhaaiyon mein aa jaayenge
bhool na jaao kahin
hum lahoo ban nun-nus mein sama jaayenge
meri nishaani dhundhe jo koi
tumhaari aankhon mein hum dikh jaayenge.

- Jenny Shabnam (July 21, 2007)

___________________________________________

Friday, March 26, 2010

129. हमसाया मिल गया / humsaaya mil gaya

हमसाया मिल गया

*******

ख़्यालों में एक अजनबी, ले मेरा दिल गया
सूरत तो न दिखी मगर, हमसाया मिल गया !

उसकी तलब में अज़ब सी मनहूसी छा गई
यों नूरानी चेहरे से, ज्यों चोरी में तिल गया !

उसकी हथेलियों के दायरे में सिमटा चेहरा
धरती थरथराई, और आसमान भी हिल गया !

मिली दर्द से राहत जब उसने थाम लिया
उम्र की हर राह कँटीली, पाँव था छिल गया !

हयात की तल्खियाँ मुमकिन तो नहीं भूलना
जब साथ चल पड़ा वो, हर ज़ख़्म सिल गया !

सेहरा की कड़ी दोपहरी में उससे मिली छाँव
अब कैसी थकन, उसका कंधा जो मिल गया !

ऐ हमकदम आओ आज साथ-साथ जलें हम
देखो 'शब' अँधियारा, चाँदनी सा खिल गया !

- जेन्नी शबनम (मार्च 25, 2010)

___________________________________________

humsaaya mil gaya

*******

khayaalon mein ek ajnabi, le mera dil gaya
soorat to na dikhi magar, hamsaaya mil gaya.

uski talab mein ajab si manhoosi chhaa gai
yun nooraani chehre se, jyon chori mein til gaya.

uski hatheliyon ke daayare mein simta cehra
dharti thartharaai, aur aasamaan bhi hil gaya.

mili dard se raahat jab usne thaam liya
umra ki har raah kantili, paaon tha chhil gaya.

hayaat ki talkhiyaan mumkin to nahin bhoolna
jab saath chal pada wo, har zakham sil gaya.

sehra ki kadi dopahari mein usase mili chhanw
ab kaisi thakan, uska kaandha jo mil gaya.

ae humkadam aao aaj saath saath jale hum
dekho 'shab' andhiyaara, chaandni sa khil gaya.

- Jenny Shabnam (March 25, 2010)

__________________________________________________

Sunday, March 21, 2010

128. सपना मँगाती है / sapna mangaati hai

सपना मँगाती है

*******

कुछ यादें सिमटी मुस्काती हैं
कुछ बातें अनकही शर्माती हैं !

ओ मीत पूछना कली से तुम
क्यों खुशबू पर यूँ इतराती है !

बावरे भौरे से भी पूछना तुम
खिलती कली क्यों लुभाती है !

ओ साथी पास आ जाओ मेरे
ज़ालिम हवा बड़ी मदमाती है !

झिझक नहीं सुन मेरे हमदम
आज याद तुम्हारी तड़पाती है !

'शब' का सपना आसमान में
आसमान से सपना मँगाती है !

- जेन्नी शबनम (मार्च 21, 2010)

________________________________

aasmaan se sapna mangaati hai

*******

kuchh yaaden simti muskaati hain
kuchh baaten ankahi sharmaati hain.

o meet puchhna kalee se tum
kyon khushboo par yun itaraati hai.

baaware bhounre se bhi puchhna tum
khilti kalee kyon lubhaati hai.

o saathi paas aa jaao mere
zaalim hawa badi madmaati hai.

jhijhak nahin sun mere humdum
aaj yaad tumhaari tadpaati hai.

''shab'' ka sapna aasmaan men
aasmaan se sapna mangaati hai.

- Jenny Shabnam (March 21, 2010)

_____________________________________

127. धूप के बूटे... / dhoop ke boote...

धूप के बूटे...

*******

सफ़ेद चादर पर
सुनहरे धूप के कुछ बूटे टँके थे,
जाने कौन सी पीड़ा थी
क्यों धूप के बूटे ठिठके थे ?
नहीं मालूम
ये परी-देश का पहनावा था
या कि कफ़न,
कुछ बूटे हँसते
कुछ खिलखिलाते थे
कुछ बूटों की आँखें नम थीं
कुछ बूटे सूनी आँखों से
कुछ तलाशते थे,
जाने क्या निहारते थे ?
नहीं मालूम धूप के ये बूटे
जीवन-सन्देश थे
या किसी के जीवन की अधूरी ख़्वाहिश
या ज़िन्दगी जीने की उत्कंठा,
धूप के बूटे शायाद
जीवन की अंतिम घड़ियाँ गिन रहे थे !

- जेन्नी शबनम (मार्च 19, 2010)

________________________________________

dhoop ke boote...

*******

safed chaadar par
sunahre dhoop ke kuchh boote tanke they,
jaane kaun see peeda thee
kyun dhoop ke boote thithke they ?
nahin maaloom
ye paree-desh ka pahnaawa thaa
ya ki kafan,
kuchh boote hanste
kuchh khilkhilaate they
kuchh booton kee aankhein num theen
kuchh boote sooni aankhon se
kuchh talaashte they,
jaane kya nihaarte they ?
nahin maaloom dhoop ke ye boote
jiwan-sandesh they
ya kisi ke jiwan kee adhuri khwaahish
ya zindagi jine kee utkantha,
dhoop ke boote shaayad
jiwan kee antim ghadiyan gin rahe they.

- Jenny Shabnam (March 19, 2010)

________________________________________

Monday, March 8, 2010

126. नाइंसाफी क्यों... / naainsaafi kyon...

नाइंसाफी क्यों...

*******

ख़ुदा से रूबरू पूछा मैंने -
मर्द और औरत का ईज़ाद किया तुमने
ख़ुद पत्थर में बसते हो
क्या पत्थर की कठोरता नहीं जानते ?
फिर ऐसी नाइंसाफी क्यों ?

मर्द को आदमी बनाया
और पाषाण का दिल भी लगा दिया,
औरत को बस औरत बनाया
साथ ही दिल में जज़्बात भी भर दिया,
मर्द के दिल में
ज़रा सा तो जज़्बात भर दिया होता !
औरत के दिल में
ज़रा सा तो पत्थर लगा दिया होता !

मर्द बन गया पाषाण हृदयी
भला दर्द कैसे हो ?
औरत हो गई जज़्बाती
भला दर्द कैसे न हो ?
आख़िर ऐसी नाइंसाफी क्यों ?

ख़ुदा भी चौंक गया
अपनी नाइंसाफी को मान गया,
फिर गैरवाज़िब तर्क कुछ सोचा वो
ठहरा आख़िर तो मर्द जात वो,
औरत से कमतर कैसे हो
ख़ुदा है बेजवाब कैसे हो !

उसने कहा -
ग़र बराबरी जो होती
मर्द और औरत की पहचान कैसे होती ?
फासले की वजह कहाँ से मिलती ?
सब इंसान होते तो दुनिया कैसे चलती ?
दुःख दर्द का एहसास कैसे होता ?
विपरीत के आकर्षण का भान कैसे होता ?

हे मूर्ख नारी
सुनो !
इसलिए कुछ औरत और कुछ आदमी बनाया
तभी तो चलायमान है ये सारी दुनिया !

मैंने भी आज जान लिया
ख़ुदा का तर्क मान लिया,
अपनी बेवकूफी के सवालों से नाता तोड़ लिया
आज इस नाइंसाफी का राज़ जान लिया !

अब समझ आया कि ये नाइंसाफी क्यों ?
मेरे सभी सवाल नादान जज़्बाती क्यों ?
क्योंकि ये जवाब ख़ुदा ने नहीं दिया था
ख़ुदा रुपी पाषण हृदयी मर्द जात ने दिया था !
इसीलिए मर्द पत्थर दिल आदमी है
और औरत कमजोर दिल इंसान है !

- जेन्नी शबनम (मार्च 8, 2010)

(अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर)
____________________________________

naainsaafi kyon...

*******

khuda se rubaru puchha maine -
mard aur aurat ka izaad kiya tumne
khud patthar mein baste ho
kya patthar ki kathorta nahin jante ?
fir aisi naainsaafi kyon ?

mard ko aadmi banaya
aur paashaan ka dil bhi laga diya,
aurat ko bas aurat banaya
sath hi dil mein jazbaat bhi bhar diya,
mard ke dil mein
zara sa to jazbaat bhar diya hota !
aurat ke dil mein
zara sa to patthar laga diya hota !

mard ban gaya paashaan hridayee
bhala dard kaise ho ?
aurat ho gayee jazbaati
bhala dard kaise na ho ?
aakhir aisi naainsaafi kyon ?

khuda bhi chaunk gaya
apni naainsaafi ko maan gaya,
fir gairwaazib tark kuchh socha wo
thahra aakhir to mard jaat wo,
aurat se kamtar kaise ho
khuda hai bejawaab kaise ho !

usne kaha -
gar baraabari jo hoti
mard aur aurat ki pahchaan kaise hoti ?
faasle ki wajah kahan se milti ?
sab insaan hote to duniya kaise chalti ?
dukh dard ka ehsaas kaise hota ?
wipreet ka aakarshan ka bhaan kaise hota ?

hey murkh naari
suno !
isliye kuchh aurat aur kuchh aadmi banaaya
tabhi to chalaayemaan hai ye saari duniya !

maine bhi aaj jaan liya
khuda ka tark maan liya,
apni bewakufi ke sawaalon se naata tod liya
aaj is naainsaafi ka raaz jaan liya !

ab samajh aaya ki ye nainsaafi kyon ?
mere sabhi sawaal naadaan jazbaati kyon ?
kyonki ye jawaab khuda ne nahin diya tha
khuda roopi paashan hridayee mard jaat ne diya tha !
isiliye mard patthar dil aadmi hai
aur aurat kamjor dil insaan hai !

- Jenny Shabnam (March 8, 2010)
(antarrashtriy mahila diwas par)
________________________________________________

Friday, March 5, 2010

125. क्या तुम दे सकोगे जवाब... / kya tum de sakoge jawaab...

क्या तुम दे सकोगे जवाब...

*******

किससे माँगूँ मेरे रिसते आँसुओं का हिसाब
मेरी काली रातों और धुँधले दिन का हिसाब
कौन देगा मेरी अकथ्य अंतःव्यथा का जवाब
क्या तुम दे सकोगे मेरे असंख्य सवालों का जवाब ?

जब जीवन के जद्दोज़हद के साथ
हमारे रिश्तों की लम्बी बहस होती रही,
प्रेम-विश्वास की कुम्हलाई छाया के साथ
शब्द-युद्ध का दंश अनवरत झेलती रही,
जीवन एक समझौता मात्र है मान
हर निराधार आरोप निःशब्द ओढ़ती रही,
तुम्हारे हर एक शब्द-वाण से पाकर घात
अपने मन और अस्तित्व को लताड़ती रही । 

मेरे डर को मेरी बेवफाई कहते हो
मेरी मज़बूरी को मेरी संग-दिली कहते हो,
जब तुम ही नहीं समझते मुझे
बताओ कैसे कोई समझेगा मुझे ?
अगर मैं हूँ निर्मम-नासमझ-निःसंवेदी
फिर कैसे समझती हूँ तुम्हारी हर रचना ?
कैसे डूब कर खो जाती हूँ हर एक शब्द में ?
कैसे आत्मसात करती हूँ तुम्हारी भावना ?

- जेन्नी शबनम (मार्च 5, 2010)

________________________________________

kya tum de sakoge jawaab...

*******

kisase maangoon mere riste aansuon ka hisaab
meri kaali raaton aur dhundhle din ka hisaab
kaun dega meri akathya antahvyatha ka jawaab
kya tum de sakoge mere asankhya sawaalon ka jawaab ?

jab jiwan ke jaddozehad ke saath
hamaare rishton ki lambi bahas hoti rahi,
prem-vishwaas ki kumhlaai chhaaya ke sath
shabd-yuddh ka dansh anwarat jhelti rahi,
jiwan ek samjhauta maatra hai maan
har niraadhar aarop nihshabd odhti rahi,
tumhare har ek shabd-waan se paakar ghaat
apne mann aur astitva ko lataadti rahi.

mere dar ko meri bewafai kahte ho
meri mazboori ko meri sang-dili kahte ho,
jab tum nahin samajhte mujhe
bataao kaise koi samjhega mujhe ?
agar main hun nirmam-naasamajh-nihsamvedi
fir kaise samajhti hun tumhaari har rachna ?
kaise doob kar kho jaati hun har ek shabd mein ?
kaise aatmsaat karti hun tumhari bhaawna ?

- Jenny Shabnam (March 5, 2010)

_____________________________________________