Thursday, July 15, 2010

155. फिर नहीं लिख पाई ख़ुद पर कविता... / fir nahin likh paai khud par kavita...

फिर नहीं लिख पाई ख़ुद पर कविता...

*******

सहमती झिझकती वो आई
फूलती साँसें, पर अविलम्ब बोली -
आज मुझपर भी कुछ लिखो
सब पर तो कविता लिखती हो !
मैं बोली साँसों को ज़रा राहत दो
फिर आराम से अपनी कथा सुनाओ !
जिए हर एहसास बता दिया उसने
हर पहलू जीवन का सुना दिया उसने !

सोचने लगी
उसके किस पहलू को उतारूँ कागज़ पर
उसके छलनी एहसास और टूटते विश्वास को
या उसकी चमकती आँखों में छलक आए आसुओं को !
उसकी खनकती हँसी में छुपी कहानी लिखूँ
मर-मर कर जीने की व्यथा लिखूँ
उसकी उदास ज़िन्दगी की परेशानी लिखूँ
या काम्याब ज़िन्दगी की नाकामी लिखूँ !
कैसे लिखूँ
उसके मन का सन्नाटा
उसकी आरज़ू का बिखरना
अपनों के बीच वो अकेली
जो बनी गैरों के लिए एक पहेली !

मैंने उससे कहा -
तुम्हारे जीवन के हर पल पर
एक नहीं कई कविताएँ रच जाएँगी,
तुम बताओ किस मनोदशा पर लिखूँ
जो तुम कहो उसी पल को अभिव्यक्त करूँ !

फिर फफक कर रो पड़ी वो
हर राज़ खोल गई वो,
अश्रु-बाँध टूट गया उसका
ज़माने से होगा जो उसने छुपाया !

उसकी कहानी पूर्ण हुई
पर मेरी उलझन बढ़ गई,
मैं अवाक् उसे देखती रही
हतप्रभ उसे समझती रही !

जाने वो कौन थी
किसकी कहानी दोहरा रही थी,
मुझको मेरी ही कहानी सुना गई
या फिर मैं भ्रमित हो गई,
सबकी कहानी एक-सी तो होती है
किसके जीवन में सिर्फ खुशियाँ होती हैं ?

मैंने पूछा -
तुम कौन हो
मेरी कहानी को अपना क्यों कह रही हो ?
अचानक हँस पड़ी वो
मुस्कुरा कर उठ चली वो,
अब वो शांत थी और मैं उदिग्न
बाँह पकड़ उसे बैठाई खींच !
मैं बोली -
बताओ परिचय तुम अपना
कैसे जाना हर राज़ मेरा,
मेरी कोई सहेली नहीं न कोई अपना
फिर किसने कहा तुमसे मेरा अफसाना ?

कहा उसने -
पहले ख़ुद को जानो
याद करो ख़ुद को फिर मुझे पहचानो,
शुरू से एक मात्र मैं ही राज़दार हूँ तुम्हारी
जिससे ही तुम अपनी व्यथा हो छुपाती,
अब तो पहचान जाओ मैं कौन हूँ
ए सखी !
मैं तुम्हारी छाया हूँ !
सब पर इतनी बेबाकी से लिखती हो
अपनी ज़िन्दगी क्यों छुपाती हो,
न कोई अपना है न पराया
फिर किस बात से है मन घबड़ाता,
ख़ुद पर तो कभी लिखती नहीं तुम
आज मेरी ज़ुबानी सुन ली अपनी कहानी
अब तो खुद पे लिखो !

मैं बोली -
हे सखी !
तुम मेरी साया और मुझको समझ न सकी
जब तुमसे नहीं कहती तो कैसे लिखूँ
अपनी ही व्यथा कह किससे आस जोहूँ,
कई बार प्रयास की पर विफल रही
नहीं लिख सकी ख़ुद पर कभी,
सुनाओ किसी और की अन्तःकथा
ख़ुद पर नहीं लिख पाऊँगी कभी
मैं कविता !

- जेन्नी शबनम (11. 7. 2010)
________________________________________

fir nahin likh paai khud par kavita...

*******

sahamti jhijhakti vo aai
phoolti saansein, par avilamb boli,
aaj mujhpar bhi kuchh likho
sab par to kavita likhti ho !
main boli saanson ko zara raahat do
fir aaraam se apni katha sunaao !
jiye har yehsaas bata diya usne
har pahloo jivan ka suna diya usne !

sochne lagi
uske kis pahaloo ko utaarun kaagaz par
uske chhalni ehsaas aur tootate vishvaas ko
ya uski chamakti aankhon mein chhalak aaye aansuon ko !
uski khanakti hansi mein chhupi kahaani likhun
mar-mar kar jine ki vyatha likhun
uski udaas zindagi ki pareshaani likhun
ya kamyaab zindagi ki naakaami likhun !
kaise likhun
uske mann ka sannaata
uski aarzoo ka bikharna
apnon ke bich wo akeli
jo bani gairon ke liye ek paheli !

maine usase kaha -
tumhaare jivan ke har pal par
ek nahin kai kavitaayen rach jaayengi,
tum bataao kis manodasha par likhun
jo tum kaho usi pal ko abhivyakt karun !

fir phaphak kar ro padi vo
har raaz khol gai vo,
ashru-baandh toot gaya uska
zamaane se hoga jo usane chhupaaya !

uski kahaani purn hui
par meri uljhan badh gai,
main avaak usey dekhti rahi
hatprabh usey samajhti rahi !

jaane wo koun thi
kiski kahaani dohara rahi thi,
mujhko meri hi kahaani suna gai
ya fir main bhramit ho gai,
sabki kahaani ek-si to hoti hai
kiske jivan mein sirf khushiyaan hoti hain ?

maine puchha -
tum koun ho
meri kahaani ko apna kyon kah rahi ho ?
achaanak hans padi vo
muskura kar uth chali vo,
ab vo shaant thi aur main udign
baanh pakad usey baithaai khinch !
main boli -
bataao parichay tum apana
kaise jana har raaz mera,
meri koi saheli nahin na koi apana
fir kisane kaha tumse mera afsaana ?

kaha usne -
pehle khud ko jaano
yaad karo khud ko fir mujhe pahchaano,
shuru se ek maatrr main hi raazdar hun tumhaari
jisase hi tum apni vyatha ho chhupaati,
ab to pehchaan jaao main koun hun
ae sakhi !
main tumhaari chhaaya hun !
sab par itni bebaaki se likhti ho
apni zindgi kyon chhupaati ho,
na koi apna hai na paraaya
fir kis baat se hai mann ghabdaata,
khud par to kabhi likhti nahin tum
aaj meri zubaani sun li apnee kahaanee
ab to likho !

main boli -
hey sakhi !
tum meri saaya aur mujhko samajh na saki
jab tumse nahin kahti to kaise likhun
apni hin vyatha kah kisase aas johun,
kai baar prayaas ki par vifal rahi
nahin likh saki khud par kabhi,
sunaao kisi aur ki antah-kathaa
khud par nahin likh paaungi kabhi
main kavita !

- jenny shabnam (11. 7. 2010)

_____________________________________________