Thursday, April 16, 2009

53. क्या बात करें

क्या बात करें

*******

सफ़र ज़िन्दगी का कटता नहीं
एक रात की, क्या बात करें !

हाल पूछा नहीं, कभी किसी ने
गमे दिल की, क्या बात करें !

दर्द का सैलाब है उमड़ता
एक आँसू की, क्या बात करें !

इक पल ही सही, करीब तो आओ
तमाम उम्र की, क्या बात करें !

मिल जाओ कभी राहों में कहीं
तुम्हारी सही, अपनी क्या बात करें !

एक उम्र तो नाकाफ़ी है
जीवन-पार की, क्या बात करें !

तुम आ जाओ या कि ख़ुदा
फ़रियाद है इतनी, और क्या बात करें !

- जेन्नी शबनम (मई, 1998)

_____________________________________