Tuesday, September 18, 2012

371. फ़र्ज़ की किश्त...

फ़र्ज़ की किश्त...

*******

लाल पीले गुलाबी 
सपने बोना चाहती थी
जिन्हें तुम्हारे साथ 
उन पलों में तोडूँगी 
जब सारे सपने खिल जाएँ 
और जिन्दगी से हारे हुए हम 
इसके बेहद ज़रूरतमंद हों !
पल-पल जिंदगी बाँटना चाहती थी
सिर्फ तुम्हारे साथ
जिन्हें तब जियूँगी   
जब सारे फ़र्ज़ पूरे कर 
हम थक चुके हों
और हम दूसरों के लिए 
बेकाम हो चुके हों !

हर तजुर्बे बतलाना चाहती थी
ताकि समझ सकूँ दुनिया को 
तुम्हारी नज़रों से 
जब मुश्किल घड़ी में 
कोई राह न सूझे 
हार से पहले एक कोशिश कर सकूँ
जिससे जीत न पाने का मलाल न हो !

जानती हूँ 
चाहने से कुछ नहीं होता 
तकदीर में विफलता हो तो 
न सपने पलते हैं 
न ज़िंदगी सँवरती है 
न ही तजुर्बे काम आते हैं !

निढ़ाल होती मेरी ज़िंदगी   
फ़र्ज़ अदा करने के क़र्ज़ में 
डूबती जा रही है
और अपनी सारी चाहतों से 
फ़र्ज़ की किश्त 
मैं तन्हा चुका रही हूँ !

- जेन्नी शबनम (सितम्बर 18, 2012)

_____________________________