Thursday, June 9, 2011

ग्रीष्म (ग्रीष्म के 10 हाइकु)

ग्रीष्म
(ग्रीष्म के 10 हाइकु)

*******

1.
तपती गर्मी
अब तो बरस जा
ओ रे बदरा !

2.
उसका ताप
जल उठे जो हम
सूरज हँसा !

3.
सह न सके
उड़ चले पखेरू
बावड़ी सूखी !

4.
गगरी खाली
सूख गई धरती
प्यासी तड़पूँ !

5.
सूर्य कठोर
अगन बरसाए
कहीं न छाँव !

6.
झुलस गई
धधकती धूप में
मेरी बगिया !

7.
खेलते बच्चे
बरगद की छाँव
कभी था गाँव !

8.
सूर्य उगले
आग का है दरिया
तन झुलसा !

9.
सूरज जला
तपता जेठ मास
आ जा आषाढ़ !

10.
तपता जेठ
मन को अलसाए
पौधे मुर्झाए !

- जेन्नी शबनम (अप्रैल 2, 2011)

______________________________