शनिवार, 9 अप्रैल 2011

अजनबियों-सा सलाम...

अजनबियों-सा सलाम...

*******

मुलाक़ात भी होगी
नज़रों से एहतराम भी होगा,
दो अजनबियों-सा कोई सलाम तो होगा!

- जेन्नी शबनम (6. 4. 2011)

______________________________________