Friday, September 2, 2011

फ़िज़ूल हैं अब...

फ़िज़ूल हैं अब...

*******

फ़िज़ूल हैं अब
इसलिए नहीं कि सब जान लिया
इसलिए कि जीवन
बेमकसद लगता,
जैसे कि चलती हुई सांसें
या फिर बहती हुई हवा
रात की तन्हाई
या फिर दिन का उजाला,
दरकार नहीं
पर ये रहते
अनवरत
मेरे साथ चलते,
मैं और ये
सब
फ़िज़ूल हैं
अब !

- जेन्नी शबनम ( अगस्त 28, 2011)

_____________________________________________