Wednesday, August 26, 2009

80. आँखों में इश्क भर क्यों नहीं देते हो

आँखों में इश्क भर क्यों नहीं देते हो

*******

दावा करते तुम, आँखों को मेरी पढ़ लेते हो
फिर दर्द मेरा तुम, समझ क्यों नहीं लेते हो !

बारहा करते सवाल, मेरी आँखों में नमी क्यों है
माहिर हो, जवाब ख़ुद से पूछ क्यों नहीं लेते हो !

कहते हो कि समंदर-सी, मेरी आँखें गहरी है
लम्हा भर उतर कर, नाप क्यों नहीं लेते हो !

तुम्हारे इश्क की तड़प, मेरी आँखों में बहती है
आकर लबों से अपने, थाम क्यों नहीं लेते हो !

हम रह न सकेंगे तुम बिन, जानते तो हो
फिर आँखों में मेरी, ठहर क्यों नहीं जाते हो !

ज़ाहिर करती मेरी आँखें, तुमसे इश्क है
बड़े बेरहम हो, कुबूल कर क्यों नहीं लेते हो !

मेरे दर्द की तासीर, सिर्फ तुम ही बदल सकते हो
फिर मेरी आँखों में इश्क, भर क्यों नहीं देते हो !

वक़्त का हिसाब न लगाओ, कहते हो सदा
'शब' की आँखों से, कह क्यों नहीं देते हो !

- जेन्नी शबनम (अगस्त 19, 2009)

_____________________________________________

Tuesday, August 18, 2009

79. हम दुनियादारी निभा रहे

हम दुनियादारी निभा रहे

*******

एक दुनिया, तुम अपनी चला रहे
एक दुनिया, हम अपनी चला रहे !

ख़ुदा तुम सँवारो दुनिया, बहिश्त-सा
महज़ इंसान हम, दुनियादारी निभा रहे !

हवन-कुंड में कर अर्पित, प्रेम-स्वप्न
रिश्तों से, घर हम अपना सजा रहे !

समाज के कायदे से, बगावत ही सही
एक अलग जहां, हम अपना बसा रहे !

अपने कारनामे को देखते, दीवार में टँगे
जाने किस युग से, हम वक़्त बीता रहे !

सरहद की लकीरें बँटी, रूह इंसानी है मगर
तुम सँभलो, पतवार हम अपनी चला रहे !

शब्द ख़ामोश हुए या ख़त्म, कौन समझे
'शब' से दुनिया का, हम फ़ासला बढ़ा रहे !

______________

बहिश्त - स्वर्ग
______________

- जेन्नी शबनम (अगस्त 17, 2009)

______________________________________

Tuesday, August 11, 2009

78. यही अर्ज़ होता है

यही अर्ज़ होता है

*******

मजरूह सही, ये दर्द-ए-इश्क का तर्ज़ होता है
तजवीज़ न कीजिए, इंसान बड़ा ख़ुदगर्ज़ होता है !

आप कहते हैं कि हर मर्ज़ की दवा, है मुमकिन
इश्क में मिट जाने का जुनून, भी मर्ज़ होता है !

दोस्त न सही, दुश्मन ही समझ लीजिए हमको
दुश्मनी निभाना भी, दुनिया का एक फर्ज़ होता है !

आप मनाएँ हम रूठें, बड़ा भला लगता हमको
आप जो ख़फा हो जाएँ तो, बड़ा हर्ज़ होता है !

खुशियाँ मिलती हैं ज़िन्दगी सी, किश्तों में मगर
हँस कर उधार साँसे लेना भी, एक कर्ज़ होता है !

वो करते हैं हर लम्हा, हज़ार गुनाह मगर
मेरी एक गुस्ताखी का, हिसाब भी दर्ज़ होता है !

इश्क से महरूम कर, दर्द बेहिसाब न देना 'शब' को
हर दुश्वारी में साथ दे ख़ुदा, बस यही अर्ज़ होता है !
___________________

मजरूह _ घायल / ज़ख्मी
___________________

- जेन्नी शबनम (अगस्त 11, 2009)

________________________________________________

Thursday, August 6, 2009

77. काश ! हम ज़ंजीर बने न होते...

काश ! हम ज़ंजीर बने न होते...

*******

नहीं मालूम कब, मैं और तुम
प्रेम पथिक से, लौह-ज़ंजीर बनते चले गए
वक़्त और ज़िन्दगी की भट्ठी में
हमारे प्रेम की अक्षुण्ण सम्पदा  
जल गई
और ज़ंजीर की एक-एक कड़ी की तरह
हम जुड़ते चले गए ।  

कभी जिस्म और रूह का कुँवारापन
तो कभी हमारा मौन प्रखर-प्रेम
कड़ी बना
कभी रिश्ते की गाँठ और हमारा अनुबंध
कभी हमारी मान-मर्यादा और रीति-नीति
तो कभी समाज और कानून
कड़ी बना ।  

कभी हम फूलों से, एक दूसरे का दामन सजाते रहे
और उसकी ख़ुशबू में हमारा कस्तूरी देह-गंध
कड़ी बना
कभी हम कटु वचन-बाणों से एक दूसरे को बेधते रहे
कि ज़ख्मी कदम परिधि से बाहर जाने का साहस न कर सके
और आनंद की समस्त संभावनाओं का मिटना
एक कड़ी बना 

वक़्त और ज़िन्दगी के साथ, हम तो न चल सके
मगर हमारी कड़ियों की गिनती रोज़-रोज़ बढ़ती गई,
मैं और तुम, दोनों छोर की कड़ी को मज़बूती से थामे रहे
हर रोज़ एक-एक कड़ी जोड़ते रहे, और दूर होते रहे
ये छोटी-छोटी कड़ियाँ मिलकर
बड़ी ज़ंजीर बनती गई 

काश ! हम ज़ंजीर बने न होते
हमारे बीच कड़ियों के टूटने का
भय न होता
मन, यूँ लौह-सा कठोर न बनता
हमारा जीवन, यूँ सख्त कफ़स न बनता
बदनुमाई का इल्ज़ाम, एक दूसरे पर न होता 

प्रेम के धागे से बँधे सिमटे होते
एक दूसरे की बाहों में संबल पाते
उन्मुक्त गगन में उड़ते फिरते
हम वक़्त के साथ कदम मिलाते
उम्र का पड़ाव वक़्त की थकान बना न होता 

ख़ुशी यूँ बेमानी नहीं, इश्क बन गया होता
हम बेपरवाह, बेइंतेहा मोहब्बत के गीत गाते
ज़िन्दगी का फ़लसफा, रूमानी बन गया होता
हम इश्क के हर इम्तहान से गुज़र गए होते
काश ! हम जंजीर बने न होते !

_____________________
कफ़स - पिंजड़ा
बदनुमाई - कुरूपता
_____________________

- जेन्नी शबनम (अगस्त 3, 2009)

______________________________________________