Tuesday, September 27, 2011

अपशगुन...

अपशगुन...

*******

उस दिन तुम जा रहे थे
कई बार आवाज़ दी
कि तुम मुड़ो और
मैं हाथ हिला कर तुम्हें विदा करूँ,
लौटने पर तुम कितना नाराज़ हुए
जाते हुए को आवाज़ नहीं देते
अपशगुन होता है,
कितना भी ज़रूरी हो
न पुकारा करूँ तुम्हें !
देखो न
सच में अपशगुन हो गया
पर तुम्हारे लिए नहीं मेरे लिए,
सोचती हूँ
मेरे लिए अपशगुन क्यों हुआ?
तुमने तो कभी भी आवाज़ नहीं दी मुझे !
तुम उस दिन आये थे
अंतिम बार मिलने,
अलविदा कहने के बाद मुड़े नहीं
ज़रा देर को भी रुके नहीं,
जैसे हमेशा जाते हो
चले गए
जैसे कुछ हुआ हीं नहीं!
मैं जानती थी कि
तुम्हारे पास
मेरे लिए
कोई जगह नहीं,
फिर भी एक कोशिश थी
कि शायद...
जानती थी कि ये मुमकिन नहीं
फिर भी...
तुम मेरी ज़िन्दगी से जा रहे थे
कहीं और ज़िन्दगी बसाने,
मन किया कि तुमको आवाज़ दूँ
तुम रूक जाओ
शायद वापस आ जाओ,
पर
आवाज़ नहीं दे सकती थी
तुम्हारा अपशगुन हो जाता !

- जेन्नी शबनम ( अगस्त 27, 2011)

____________________________________________________

Saturday, September 24, 2011

ज़िन्दगी शिकवा करती नहीं...

ज़िन्दगी शिकवा करती नहीं...

*******

चलते चलते मैं चलती रही
ज़िन्दगी कभी ठहरी नहीं,
ख़ुद को जब रोक के देखा
ज़िन्दगी तो बढ़ी हीं नहीं !

किस्मत को कैसा रोग लगा
ज़िन्दगी कभी हँसती नहीं,
वक़्त ने कैसा ज़ख़्म दिया
ज़िन्दगी शिकवा करती नहीं !

कई भ्रम पाले जीने के वास्ते
ज़िन्दगी भ्रम से गुजरती नहीं,
रोज़ रोज़ तड़पती है मगर
ज़िन्दगी मरना चाहती नहीं !

थक थक गई चल चल कर
ज़िन्दगी चलती पर बढ़ती नहीं,
दम टूट टूट जाता है मगर
ज़िन्दगी हारती पर मरती नहीं !

क्यों न करूँ सवाल तुझसे ख़ुदा
ज़िन्दगी क्या सिर्फ मेरी नहीं?
'शब' मगरूर बेवफ़ा हीं सही
ज़िन्दगी क्या सिर्फ उसकी नहीं?

- जेन्नी शबनम (सितम्बर 23 , 2011)

__________________________________________

Wednesday, September 21, 2011

मैं तेरी सूरजमुखी...

मैं तेरी सूरजमुखी...

*******

ओ मेरे सूरज
मैं तेरी सूरजमुखी (सूर्यमुखी)
बाट जोहते जोहते मुर्झाने लगी,
कई दिनों से तू आया नहीं
जाने कौन सी राह पकड़ ली तूने
कौन ले गया तुझे?
क्या ये भी बिसर गया
कि सारा दिन तुझे हीं तो निहारती हूँ
जीवन ऐसे हीं तेरे संग बिताती हूँ,
तुम चाहो न चाहो
तेरे बिना रह नहीं सकती
चाहूँ फिर भी तुम बिन खिल नहीं सकती,
जानती हूँ तुम्हारा साथ बस दिन भर का है
फिर तू अपनी राह मैं अपनी राह
अगली सुबह फिर तेरी राह,
लड़ लिया करो न, बादलों से मेरे लिए
ओ मेरे सूरज
मैं तेरी सूरजमुखी !

- जेन्नी शबनम (सितम्बर 17, 2011)

_____________________________________________________

Thursday, September 15, 2011

चाँद-सितारे.../ chaand-sitaare...

चाँद-सितारे...

*******

बचपन में जब चाँद-सितारों के लिए मचलती थी
अम्मा फ़्राक में ज़री-गोटे से, चाँद-तारे टाँक देती थी।
बाबा चाँद सी गोल चौअन्नी, बड़े लाड़ से देते थे
मैं चाँद-सितारे पा लेने के भ्रम में, खूब इतराती थी।

अम्मा बाबा चुपके से, एक-एक चौअन्नी का हिसाब लगाते थे
दो चौअन्नी में कितने दिन, चाँद सी रोटी पक सकती थी।
दो वक़्त की भूख़ भूल जाते, जब लाड़ली उनकी इठलाती थी
एक चौअन्नी का ज़री-गोटा, एक चौअन्नी गुल्लक में भरती थी।

अब भैया ने, चाँद-सितारों वाला घर, ढूँढ दिया
चाँद-सितारों की खनक में, खिल जायेगी बहना।
अम्मा बाबा हार गए, दे न पाए, नकली वाला चाँद-सितारा
भैया ने ढूँढ दिया, जहाँ चंदा सी चमकेगी बहना।

आज देखो, अब भी रेखाएँ नहीं बनीं, मेरी ख़ाली हथेली पर
रोज़-रोज़ देख तरसती हूँ, पा लूँ चाँद-तारे अपनी हथेली पर।
तुम्हारा वादा था, भर दोगे दामन मेरा, चाँद-सितारों से
सात फ़ेरों सात वचनों बाद, मुझसे पहली बार आलिंगन पर।

अम्मा बाबा, चौअन्नी और ज़री-गोटे से, मुझे भ्रम देते थे
भैया, तुम्हारे घर की झिलमिल रौशनी से, भ्रम देता रहता।
तुम, चाँद-सितारों की जगह, उपकृत कर मुझको ही जड़ दिए
अपने घर के झूमर में, बेमियाद चमकाऊँ, तुम्हारा घर-अँगना।

कब तक मन को तसल्ली दूँ, हुई बेनूर, चाँद-सितारों का भ्रम पालूँ
उन बेजान फ़्राक में टंके, ज़री-गोटे की तरह।
कब तक झिलमिल चमकती रहूँ, पथराई आँखें, घर गुलज़ार करूँ
तुम्हारे घर में सजे, झाड़-फ़ानूस की तरह।

बोलो, कब ला दोगे मुझे ज़मीन पर, अब इस भ्रम से मन नहीं बहलता
क्या भर दोगे मेरी अंजुरी में, कुछ चाँद-सितारों-सा पल तुम्हारा।
बोलो, लौटा दोगे वो वक़्त, जब निढ़ाल ताकती रही, असली वाला चाँद-सितारा
क्या भर दोगे हथेली की लकीरों में, तक़दीर का सच्चा चाँद-सितारा।

आसमान के चाँद-सितारे, अब कब माँगती हूँ तुमसे
बस चाँद-सितारों-सा कुछ पल, माँगती हूँ तुमसे।
भर दो दामन में मेरे, अपने कुछ चाँद-सितारे
बस कुछ पल तुम्हारे हैं, मेरे अपने चाँद-सितारे।

- जेन्नी शबनम (नवम्बर, 2008)

_______________________________________________________

chaand-sitaare...

bachpan mein jab chaand-sitaaron ke liye machaltee thee
amma frock mein zari-gote se, chaand-taare taank detee thee.
baaba chaand see gol chauanni, bade laad se dete they
main chaand-sitaare paa lene ke bhrum mein, khub itraatee thee.

amma baba chupke se, ek-ek chauanni ka hisaab lagaate they
do chauanni mein kitne din, chaand see roti pak saktee thee.
do waqt kee bhookh bhool jate, jab laadli unki ithlaatee thee
ek chauanni ka zari-gota, ek chauanni gullak mein bhartee thee.

ab bhaiya ne, chaand-sitaaron wala ghar, dhundh diya
chaand-sitaaron kee khanak mein, khil jaayegi bahna.
amaa baba haar gaye, de na paaye, nakli wala chaand-sitaara
bhaiya ne dhundh diya, jahaan chanda see chamkegi bahna.

aaj dekho, ab bhi rekhaayen nahin bani, meri khaali hatheli par
roz-roz dekh tarasti hun, paa lun chaand-taaren apni hatheli par.
tumhara wada thaa, bhar doge daaman mera, chaand-sitaaron se
saat feron saat wachanon baad, mujhse pahli baar aalingan par.

amma baba, chauanni aur zari-gote se, mujhe bhrum dete they
bhaiya, tumhare ghar kee jhilmilati raushni se, bhrum deta rahta.
tum, chaand-sitaaron kee jagah, upakrit kar mujhko hi jad diye,
apne ghar ke jhumar mein, bemiyaad chamkaaun, tumhaara ghar-angna.

kab tak man ko tasalli doon, hui benoor, chaand-sitaaron ka bhrum paaloon
un bejaan frock mein tanke, zari-gote kee tarah.
kab tak jhilmil chamakti rahun, pathraai aahkhen, ghar gulzaar karoon
tumhaare ghar mein saje, jhaad-fanoos kee tarah.

bolo, kab laa doge mujhe zameen par, ab is bhrum se man nahi bahalta
kya bhar doge meri anjuri mein, kuchh chaand-sitaaron-sa pal tumhaara.
bolo, lauta doge wo waqt, jab nidhaal taakti rahee, asli wala chaand-sitaara
kya bhar doge hatheli kee lakiron mein, takdir ka sachcha chaand-sitaara.

aasmaan ka chaand-sitaara, ab kab maangti hun tumse
bas chaand-sitaaron-sa kuchh pal, maangti hun tumse.
bhar do daaman mein mere, apna kuchh chaand-sitaara
bas kuchh pal tumhara hai, mera apnaa chaand-sitaara.

- jenny shabnam (november, 2008)

_____________________________________________________________

Tuesday, September 13, 2011

अभिवादन की औपचारिकता...

अभिवादन की औपचारिकता...

*******

अभिवादन में पूछते हैं आप...
कैसी हो? क्या हाल है? सब ठीक है ?
करती हूँ मैं, निःसंवेदित अविलम्बित रटा-रटाया उल्लासित अभिनंदन...
अच्छी हूँ ! सब कुशल मंगल है ! आप कैसे हैं?

क्या सचमुच, कोई जानने को उत्सुक है, किसी का हाल?
क्या सचमुच, हम सभी बता सकते, किसी को अपना हाल?
ये प्रचलित औपचारिकता के शब्द हैं, नहीं चाहता सुनना कोई किसी का हाल !
फिर भी पूछ्तें हैं सभी, मैं भी पूछती हूँ, मन में समझते हुए भी दूसरे का हाल !

क्या सुनना चाहेंगे मेरा हाल? क्या दूसरों की पीड़ा जानना चाहेंगे? क्या सुन सकेंगे मेरा सच?
मेरा कुंठित अतीत और व्याकुल वर्तमान, मेरा सम्पूर्ण हाल, जो शायद आपका भी हो थोड़ा सच ?
मैं तो जुटा पाई हूँ, आप भी कहाँ कर पाए हैं, अनौपचारिक बन सच बताने की हिम्मत !
आज बता हीं देती हूँ अपनी सारी सच्चाई, कर हीं देती हूँ हमारे बीच की औपचारिकता का अंत !

बताऊँ कैसे, मेरा वो दर्द, वो अवसाद, वो दंश, जो पल पल मेरे मन को खंडित करता है !
बताऊँ कैसे, मेरा वो सच, जो मेरे अंतर्मन की जागीर है, मन के तहखाने में दफ़न है !
जानती हूँ, मेरा सच सुनकर, आप रुखी हँसी हँस देंगे, हमारे बीच के रहस्यमय आवरण हट जायेंगे !
आप भूले से भी हाल पूछेंगे, अच्छा हीं होगा, अब आप कभी मुझसे औपचारिकता नहीं निभाएंगे !

कैसे बताऊँ कि, मेरे मन में कितनी टीस है, शारीर में कितनी पीर है !
उम्र और वक़्त का एक एक ज़ख्म, मुझसे मुझको छीनता है !
अपनों की ख़्वाहिश को पालने में, ख़ुद को पल पल कितना मारना होता है !
एक विफलता संबंधों की, एक लाचारगी जीने की, मन कितना तड़पता है !

कैसे बताऊँ कि तमाम कोशिशों के बावज़ूद, समाज की कसौटी पर, मैं खरी नहीं उतरी हूँ !
घर के बिखराव को बचाने में, क्षण क्षण कितना मैं ढहती बिखरती हूँ !
वक़्त की कमी या फ़ुर्सत की कमी, एक बहाना सा बना, सब से मैं छिपती हूँ !
त्रासदी सा जीवन-सफ़र मेरा, पर घर का सम्मान... सदा उल्लासित दिखती हूँ !

कैसे बताऊँ कि क्यों संबंधों की भीड़ में, मैं एक अपना तलाशती हूँ?
क्यों दुनिया की रंगीनियों में खोकर भी, मैं रंगहीन हूँ?
क्यों छप्पन व्यंजनो के सामार्थ्य के बाद भी, मैं भूखी-प्यासी हूँ?
क्यों जीवन से, सहर्ष पलायान को, सदैव तत्पर रहती हूँ?

नहीं-नहीं, नहीं बता पाऊँगी सम्पूर्ण सत्य, मंज़ूर है मुखौटा ओढ़ना !
हमारी रीति-संस्कृति ने सिखाया है... कटु सत्य नहीं बोलना !
हमारी तहज़ीब है, आँसुओं को छुपा दूसरों के सामने मुस्कुराना !
सलीका यूँ भी अच्छा होता नहीं, यूँ अपना भेद खोलना !

अभिवादन की औपचारिकता है, किसी का हाल पूछना,
ज़ज्बात की बात नहीं, महज चलन है ये पूछना,
जान-पहचान की चिर-स्थाई है ये परंपरा,
औपचारिकता हीं सही... बस यूँ हीं, हाल पूछते रहना !

- जेन्नी शबनम (मई, 2009)

______________________________________________________

Monday, September 12, 2011

लौट चलते हैं अपने गाँव...

लौट चलते हैं अपने गाँव...

*******

मन उचट गया है
शहर के सूनेपन से,
अब डर लगने लगा है
भीड़ की बस्ती में
अपने ठहरेपन से।  
चलो!
लौट चलते हैं
अपने गाँव,
अपने घर चलते हैं।  
जहाँ अजोर होने से पहले
पहरू के जगाते ही
हर घर उठ जाता है।  
चटाई बीनती
हुक्का गुड़गुड़ाती
बुढ़िया दादी धूप सेंकती है,
गाँती बाँधे नन्हकी
सिलेट पे पेंसिल घिसती है,
अजोर हुए अब तो देर हुई
बड़का बऊआ अपना बोरा-बस्ता ले कर
स्कूल न जाने की ज़िद में खड़ा है,
गाँव के मास्टर साहब
आज ले ही जाने को अड़े हैं,
क्या गज़ब नज़ारा है
बड़ा अज़ब माजरा है।  
अँगने में रोज़ अनाज पसरता है
जाँता में रोज़ दाल दराता है,
गेहूँ पीसने की अब बारी है
भोर होते ही रोटी भी तो पकानी है,
सामने दौनी-ओसौनी भी जारी है
ढेंकी से धान कूटने की आवाज़ लयबद्ध आती है।  
खेत से अभी-अभी तोड़ी
घिउरा और उसके फूल की तरकारी
ज़माना बीता पर स्वाद आज भी वही है,
दोपहर में जन सब के साथ पनपियाई
अलुआ नमक और अचार का स्वाद
मन में आज भी ताज़ा है।  
पगहा छुड़ाते धीरे-धीरे चलते
बैलों की टोली
खेत जोतने की तैयारी है,  
भैंसी पर
नन्हका लोटता है
जब दोपहर बाद
घर लौटता है।  
गोड़ में माटी की गंध
घूर तापते चचा की कहानी,
सपनों सी रातें
अब मुझे बुलाती है।  
चलो!
लौट चलते हैं
अपने गाँव
अपने घर चलते हैं 
________________________________

अजोर - रोशनी
पहरू - रात्रि में पहरेदारी करने वाला
चटाई बीनती - चटाई बुनना
गाँती - ठण्ड से बचाव के लिए बच्चों को एक विशेष तरीके से चादर / शॉल से लपेटना
बड़का - बड़ा
बऊआ - बच्चा
बोरा-बस्ता - बैठने के लिए बोरा और किताब का झोला
जाँता - पत्थर से बना हाथ से चला कर अनाज पीसने का यंत्र
दराता - दरना
भोर - सुबह
दौनी - पौधों से धान को निकालने के लिए इसे काटकर इकत्रित कर उसपर बैल चलाया जाता है
ओसौनी - दौनी होने के बाद धान को अलग करने की क्रिया
ढेंकी - लकड़ी से बना यंत्र जिसे पैर द्वारा चलाया जाता है और अनाज कूटा जाता है
घिउरा - नेनुआ
तरकारी - सब्ज़ी
जन - काम करने वाले मज़दूर / किसान
पनपियाई - दोपहर से पहले का खाना
अलुआ - शकरकंद
पगहा - जानवरों के गले में बँधी रस्सी
गोड़ - पैर
घूर - अलाव
चचा - चाचा
_________

- जेन्नी शबनम ( जुलाई 2003)

_________________________________________

Wednesday, September 7, 2011

अनुबंध...

अनुबंध...

*******

एक अनुबंध है जन्म और मृत्यु के बीच,
कभी साथ-साथ घटित न होना !
एक अनुबंध है प्रेम और घृणा के बीच,
कभी साथ-साथ फलित न होना !
एक अनुबंध है स्वप्न और यथार्थ के बीच,
कभी सम्पूर्ण सत्य न होना !
एक अनुबंध है धरा और गगन के बीच,
कभी किसी बिंदु पर साथ न होना !
एक अनुबंध है आकांक्षा और जीवन के बीच,
कभी सम्पूर्ण प्राप्य न होना !
एक अनुबंध है मेरे मैं और मेरे बीच,
कभी एकात्म न होना !

- जेन्नी शबनम (जनवरी 27, 2009)

_______________________________________________

Tuesday, September 6, 2011

जब भी तन्हा ख़ुद को पाती हूँ ...

जब भी तन्हा ख़ुद को पाती हूँ ...

*******

मन में कुछ दरक सा जाता है,
जब क्षितिज पर अस्त होता सूरज देखती हूँ,
ज़िन्दगी बार बार डराती है,
जब भी तन्हा ख़ुद को पाती हूँ !

सपने ध्वस्त हो रहे
हवाएं मेरी सारी निशानियाँ मिटा रही है,
वुज़ूद घुटता सा है
जेहन में मवाद की तरह यादें रिसती हैं,
अपेक्षाओं की मुराद दम तोड़ती है
जब भी तन्हा ख़ुद को पाती हूँ !

सहेजे सपनों की विफलता का मलाल
धराशायी अरमान,
मन की विक्षिप्तता
असह्य हो रहा अब ये संताप,
मन डर जाता जीवन के इस रीत से
जब भी तन्हा ख़ुद को पाती हूँ !

हूँ अब खामोश
मूक - बधिर,
निहार रही अपने जीवन का
अरूप अवशेष !

- जेन्नी शबनम (सितम्बर 11, 2008)
____________________________________

Saturday, September 3, 2011

दर्द की मियाद और कितनी है...

दर्द की मियाद और कितनी है...

*******

कोई भी दर्द उम्र से पहले ख़त्म नहीं होता
किससे पूछूँ कि
दर्द की मियाद और कितनी है?

- जेन्नी शबनम ( सितम्बर 2, 2011)

___________________________________________

Friday, September 2, 2011

फ़िज़ूल हैं अब...

फ़िज़ूल हैं अब...

*******

फ़िज़ूल हैं अब
इसलिए नहीं कि सब जान लिया
इसलिए कि जीवन
बेमकसद लगता,
जैसे कि चलती हुई सांसें
या फिर बहती हुई हवा
रात की तन्हाई
या फिर दिन का उजाला,
दरकार नहीं
पर ये रहते
अनवरत
मेरे साथ चलते,
मैं और ये
सब
फ़िज़ूल हैं
अब !

- जेन्नी शबनम ( अगस्त 28, 2011)

_____________________________________________