Friday, July 24, 2009

75. काश ! कोई ज़ंजीर होती (क्षणिका) / kaash ! koi zanjeer hotee (kshanika)

काश ! कोई ज़ंजीर होती (क्षणिका)

*******

वीरान राहों पर
तन्हा, ख़ामोश चल रही हूँ
थक गई हूँ, टूट गई हूँ
न जाने कैसी राह है
ख़त्म नहीं होती,
समय की कैसी बेबसी है
एक पल को थम नहीं पाती,
काश ! कोई ज़ंजीर होती
वक़्त और ज़िन्दगी के पाँव जकड़ देती !

- जेन्नी शबनम (जुलाई 24, 2009)

_________________________________

kaash ! koi zanjeer hotee (kshanika)

*******

veeraan raahon par
tanha, khaamosh chal rahee hoon
thak gaee hoon, toot gaee hoon
na jaane kaisee raah hai
khatm nahin hoti,
samay kee kaisee bebasi hai
ek pal ko tham nahin paatee,
kaash ! koi zanjeer hotee
waqt aur zindagi ke paanv jakad detee !

- Jenny Shabnam (July 24, 2009)

_______________________________________