शुक्रवार, 11 नवंबर 2011

300. अल्फ़ाज़ उगा दूँ (क्षणिका)

अल्फ़ाज़ उगा दूँ

*******

सोचती हूँ
कुछ अल्फ़ाज़ उगा दूँ,
तितर-बितर कर
हर तरफ पसार दूँ,
चुक गए हैं
मेरे अंतस से सभी,
शायद किसी निर्मोही पल में
उनकी ज़रुरत पड़ जाए !

- जेन्नी शबनम (नवम्बर 11, 2011)

___________________________________