Monday, January 18, 2010

117. ताजमहल वीराना भी देखना / tajmahal veeraana bhi dekhna

ताजमहल वीराना भी देखना

*******

फुर्सत में इक रोज़ कभी ये ज़माना भी देखना
इक शाहजहाँ का ताजमहल वीराना भी देखना । 

न कहना यूँ चुपके से अपने मन की दुश्वारियाँ
क्यों बदनामियों से डरते ये फ़साना भी देखना । 

करते वही मिज़ाजपुर्सी जो देते हैं बड़ा ज़खम
है अज़ब दस्तूर दुनिया का दीवाना भी देखना । 

ज्योतिषों ने बाँचा कलियुग का होगा ऐसा अंत
ढ़ोंगी बने धर्मात्मा ख़ुदा का निशाना भी देखना । 

क़यामत की थी क्रूर घड़ी क्या राजा क्या रंक
मिट गया है एक वतन ज़रा ठिकाना भी देखना । 

किससे बाँटे कोई आसमान भूखे ठिठुरे हैं सवाल
मर गए नौनिहाल बाप का छटपटाना भी देखना । 

गुज़रना था गुज़र गया वक़्त से क्या शिकवा
नए दोस्त बहुत मिलेंगे साथी पुराना भी देखना । 

पूछना जग से क्या खोया क्या पाया 'शब' ने
कैसे पथराया मन और वक़्त बीताना भी देखना । 

- जेन्नी शबनम (जनवरी 17, 2010)

______________________________________

tajmahal veeraana bhi dekhna

*******

fursat mein ik roz kabhi ye zamana bhi dekhna
ik shaahjahan ka taajmahal veeraana bhi dekhna.

na kahna yun chupke se apne man ki dushwaariyaan
kyon badnaamiyon se darte ye fasaana bhi dekhna.

karte wahi mizaajpursi jo dete hain bada zakham
hai ajab dastoor duniya ka deewaana bhi dekhna.

jyotishon ne baancha kaliyug ka hoga aisa ant
dhongi bane dharamaatma khuda ka nishaana bhi dekhna.

kayaamat ki thi krur ghadi kya raja kya rank
mit gaya hai ek watan zara thikana bhi dekhna.

kisase baante koi aasmaan bhookhe thithure hain sawal
mar gaye naunihaal baap ka chhatpataana bhi dekhna.

guzarna tha guzar gaya waqt se kya shikwa
naye dost bahut milenge saathi purana bhi dekhna.

puchhna jag se kya khoya kya paaya 'shab' ne
kaise pathraaya mann aur waqt beetaana bhi dekhna.

- Jenny Shabnam (January 17, 2010)

__________________________________________________