Thursday, August 2, 2012

361. रक्षा बंधन (राखी पर10 ताँका)

रक्षा बंधन (राखी पर 10 ताँका)

*******

1.
पावन पर्व 
दुलारा भैया आया 
रक्षा बंधन 
बहन ने दी दुआ 
बाँध रेशमी राखी !

2.
राखी त्योहार  
सुरक्षा का वचन 
भाई ने दिया 
बहना चहकती 
उपहार माँगती !

3.
राखी का पर्व 
सावन का महीना 
पीहर आई 
नन्हे भाई की दीदी 
बाँधा स्नेह का धागा !

4.
आँखों में पानी 
बहन है पराई 
सूनी कलाई
कौन सजाये अब 
भाई के माथे रोली !

5.
पूरनमासी 
सावन का महीना 
राखी त्योहार 
रक्षा-सूत्र ने बाँधा 
भाई-बहन नेह ! 

6.
घर परिवार
स्वागत में तल्लीन 
मंगल पर्व
राखी-रोली-मिठाई 
बहनों ने सजाई !  

7.
शोभित राखी 
भाई की कलाई पे
बहन बाँधी  
नेह जो बरसाती 
नेग भी है माँगती !

8.
प्यारा बंधन 
अनोखा है स्पंदन 
भाई-बहन
खुशियाँ हैं अपार
आया राखी त्योहार ! 

9.
चाँद चिंहुका 
सावन का महीना 
पूरा जो खिला
भैया दीदी के साथ 
राखी मनाने आया !

10.
बहन भाई 
बड़े ही आनंदित 
नेग जो पाया
बहन से भाई ने     
राखी जो बँधवाई !

- जेन्नी शबनम (अगस्त 2, 2012)

________________________________ 

360. राखी पर्व (राखी पर 15 हाइकु)

राखी पर्व
(राखी पर 15 हाइकु)

*******

1.
भैया न जाओ
मेरी बलाएँ ले लो 
राखी बँधा लो !

2.
बाट जोहते
अक्षत, धागे, टीका 
राखी जो आई ! 

3.
बहन देती 
हाथों पे बाँध राखी  
भाई को दुआ !

4.
राखी का सूत
बहनों ने माना 
रक्षा कवच !

5.
बहना खिली
रखिया बँधवाने   
भैया जो आया !

6.
रंग-बिरंगी 
कतारबद्ध-राखी 
दूकानें सजी !

7.
पावन पर्व
ये बहन भाई का  
रक्षा बंधन !

8.
भूले त्योहार 
आपसी व्यवहार  
बढ़ा व्यापार ! 

9.
चुलबुली-सी
कुदकती बहना 
राखी जो आई !  

10.
बहन का प्यार
राखी-पर्व जो आता  
याद दिलाता !

11.
मन भी सूना  
किसको बाँधे राखी 
भाई पीहर !

12.
नहीं सुहाता 
सब नाता जो टूटा  
रक्षा बंधन !

13,
नन्ही कलाई 
बहना ने सजाई 
देती दुहाई !

14.
भाई है आया 
ये धागा खींच लाया  
है मज़बूत !

15.
राखी जो आई  
भाई को खींच लाई  
बहना-घर !

- जेन्नी शबनम (अगस्त 1, 2012)

___________________________________