Friday, October 30, 2009

93. नज़्म तुम्हारी बनते हैं... / nazm tumhaari bante hain...

नज़्म तुम्हारी बनते हैं...

*******

चलो ऐसा कुछ करते हैं
एक दर्द अपना रोज़ कहते हैं,
तुम सुनते जाना मेरा अफ़साना
एक नज़्म तुम्हारी हम रोज़ बनते हैं !

फूल खिलेंगे नज़्मों के
दर्द की दास्ताँ जब पूरी होगी,
समेट लेना नज्मों का हर गुच्छा
मेरे दर्द की निशानी है उन फूलों में !

ऐसा कुछ करना तुम
रूह छोड़ जाए मुझको जब,
अपनी नज़्मों का एक गुलदस्ता
रोज़ मेरी मज़ार पे चढ़ा देना सनम !

- जेन्नी शबनम (अक्टूबर 30, 2009)

__________________________________

nazm tumhaari bante hain...

*******

chalo aisa kuchh karte hain
ek dard apna roz sunaate hain,
tum sunte jaanaa mera afsaanaa
ek nazm tumhaaree hum roz bante hain.

phool khilenge nazmon ke
dard kee daastaan jab poori hogi,
samet lenaa nazm ka har guchchha
mere dard kee nishaanee hai un phoolon mein.

aisa kuchh karna tum
ruh chhod jaaye mujhko jab,
apnee nazmon ka ek guldasta
roz meree mazaar pe chadhaa denaa sanam.

- jenny shabnam (october 30, 2009)

________________________________________________

Thursday, October 29, 2009

92. ये बस मेरा मन है... / ye bas mera mann hai...

ये बस मेरा मन है...

*******

ज़िन्दगी के अर्थ मिलते नहीं
खो से गए हैं जैसे सब कहीं
ब्रह्माण्ड की असीम शून्यता में,
अधर में लटके हैं शब्द
एहसासों का अधैर्य स्पंदन
क्यों नहीं दौड़े चले आते पास मेरे ?
हर उस दौर से तो गुजरती हूँ
जहाँ रंगीन खूबसूरत धरती है
सपनीला सा सुन्दर आसमान है 
आह! ये कैसा शोर है...
अरे! वहाँ तो सन्नाटा है...
उफ़! नहीं ये बस मेरा मन है !

- जेन्नी शबनम (अक्टूबर 29, 2009)

___________________________________

ye bas mera mann hai...

*******

zindgi ke arth milte nahin
kho se gaye hain jaise, sab kahin
brahmaand kee aseem shunyata mein,
adhar mein latke hain shabd
ehsaason ka adhairya spandan
kyun nahin daude chale aate paas mere ?
har us daur se to gujarti hun
jahan rangeen khubsurat dharti hai
sapneela sa sundar aasmaan hai.
aah ! ye kaisa shor hai...
are ! wahan to sannata hai...
uff ! nahin ye bas mera mann hai !

- jenny shabnam (october 29, 2009)

______________________________________

91. पैगाम चाँद को सुना जाना / paigaam chaand ko suna jaanaa

पैगाम चाँद को सुना जाना

*******

चाँद खिले तो छत पर आ जाना, मुहूरत हमें भी बता जाना
पैगाम हम चाँद से पूछेंगे, अपना पैगाम चाँद को सुना जाना 

इबादत की वो पाक घड़ी, जब साथ एक युग हम जी आए
मुकम्मल सफ़र उम्र भर का, वो पल मेरा हमें दिला जाना 

वक़्त के घाव थे बहुत, तुम्हारे ज़ख्मों को हम कैसे छुपाएँगे
एक निशानी मेरी पेशानी पे, जो तुमने दिए वो मिटा जाना 

वक़्त ने दिए थे इतने ही लम्हे, वादा था कि बिछड़ जाना है
मिटने का दर्द हम सह लेंगे, अपनी दुनिया में हमें छुपा जाना 

न चाह कोई न माँग तुम्हारी, कम्बख्त ये दिल समझता नहीं
उस जहाँ में ढूँढ़ेंगे, मेरे अंतिम पल में अपनी छवि दिखा जाना 

हँसने की कसम देते हो सदा, इतने ज़ालिम क्यों हो प्रियतम
आज एक कसम है तुमको मेरी, हर कसम से हमें छुड़ा जाना 

तुम कृष्ण हो किसी राधा के, एक मीरा भी तुममे रहती है
देव अराध्य हो तुम मेरे, इस 'शब' को न तुम भुला जाना 

- जेन्नी शबनम (अक्टूबर 28, 2009)

______________________________________________________

paigaam chaand ko suna jaana

*******

chaand khile to chhat par aa jaanaa, muhurat hamein bhi bata jaanaa,
paigaam hum chaand se puchhenge, apnaa paigaam chaand ko sunaa jaanaa.

ibaadat kee wo paak ghadee, jab saath ek yug hum jee aaye,
mukammal safar umra bhar ka, wo pal mera hamein dilaa jaanaa.

waqt ke ghaaw theye bahut, tumhaare zakhmon ko hum kaise chhupayenge,
ek nishaanee meree peshaani pe, jo tumne diye wo mita jaanaa.

waqt ne diye theye itne hin lamhe, waadaa thaa ki bichhad jaanaa hai,
mitne ka dard hum sah lenge, apnee duniya mein hamein chhupaa jaanaa.

na chaah koi na maang tumhaari, kambakht ye dil samajhta nahin,
us jahaan mein dhundhenge, mere antim pal mein apnee chhavi dikha jaanaa.

hansne kee kasam dete ho sadaa, itne zaalim kyu ho priyatam,
aaj ek kasam hai tumko meree, har kasam se hamein chhudaa jaanaa.

tum krishna ho kisi raadha ke, ek meera bhi tumamein rahtee hai,
dev araadhya ho tum mere, is 'shab' ko na tum bhula jaanaa.

- jenny shabnam (october 28, 2009)

__________________________________________________________

Sunday, October 25, 2009

90. भागलपुर दंगा (24. 10. 1989) / Bhagalpur danga (24. 10. 1989)

भागलपुर दंगा (24. 10. 1989)

*******

आज से 20 साल पहले 1989 में आज ही के दिन बिहार में साम्प्रदायिक दंगा शुरू हुआ था  भागलपुर शहर में कई दिनों तक कत्ले-आम जारी रहा, शहर के कई मोहल्ले उजड़ गए, कई गाँवों के नामोनिशान मिट गए, हज़ारों लोग मारे गए  उन दहशत भरे दिनों की याद आज फिर ताज़ा हो आई  आप सभी से उस वक़्त के गहरे ज़ख्मों को बाँट रही हूँ, ये कविता नहीं है, दुखद सत्य है ...

*******

हैरान नहीं, अब तक बिसरा न पाई, वो अतीत
आहत कर देता है, आज भी, जिसका क्रूर दंश 
लाल फूल, लाल तितली, लाल परिधान, लाल रंग
लाल-रक्तिम आकाश, देख चहक उठता था मन 
शायद वक़्त के, क्रूरतम ज़ख्मी रंगों में खो गया
वो लाल रंग, जो होता था कभी, मेरा मनपसंद रंग 

कैसे भूल जाऊँ, वो थर्राती-काँपती हवा, जो बहती रही
हर कोने से चीख़ और खौफ़ से दिन-रात काँपती रही 
बेटा-भैया-चाचा सारे रिश्ते, जो बनते पीढ़ियों से पड़ोसी
अपनों से कैसा डर, थे बेखौफ़, और कत्ल हो गई ज़िन्दगी 
तीन दिन तीन युग सा बीता, पर न आया, मसीहा कोई
औरत बच्चे जवान बूढ़े, चढ़ गए सब, धर्म के आगे बली 

इंसान के, चिथड़े-चिथड़े बदन से, बहता लाल रक्त
बदन यूँ कटता, जैसे बूचड़खाने का हो, निरीह जीव 
राम-हनुमान का जाप, अल्लाह की करुण पुकार
टुकड़ा-टुकड़ा जिस्म, और माँगते रहे, रहम की भीख 
एक घूँट पानी की तड़प लिए, मर गए बेबस प्राण
मानवता के साथ ही, मर गया, हर ख़ुदा और इंसान 

दीवारों पर खून के छीटें, बिस्तर और फर्श हुआ लहुलुहान
लाशों की ढ़ेर में, छुपा इकलौता बच्चा, भी हो गया कुर्बान 
क्षत-विक्षत मांस के लोथड़े, छटपटाती बेबस अधमरी जान
जंग लगे हाथियारों से, बना फिर एक जलियाँ-वाला बाग़ 
बेघर होकर भटकते रहे, जाने कितने ज़ख्म, मन पर लिए
बिछड़ गए जो अपने, कैसे भरपाई करेगा, ख़ुदा या भगवान् 

- जेन्नी शबनम (अक्टूबर 24, 2009)

___________________________________________________

Bhagalpur danga (24. 10. 1989)

*******

aaj se 20 saal pahle 1989 mein aaj hin ke din Bihar mein saampradaayik dangaa huaa thaa. Bhagalpur shahar mein kai dinon tak katle-aam jaari raha, shahar ke kai mohalle ujad gaye, kai jaanwo ke naamonishaan mit gaye, hazaaron log maare gaye, aaj un dahshat bhare dinon kee yaad fir taazaa ho aai. aap sabhi se us waqt ke gahre zakhmon ko baant rahi hun, ye kavita nahi hai, dukhad satya hai...

*******

hairaan nahin, ab tak bisraa na paai, wo ateet
aahat kar deta hai, aaj bhi, jiskaa krur dansh.
laal phool, laal titalee, laal paridhaan, laal rang
laal-raktim aakaash, dekh chahak utha.ta tha mann.
shaayad waqt ke, krurtam zakhmee rangon mein kho gaya
wo laal rang, jo hota tha kabhi, mera manpasand rang.

kaise bhool jaaun, wo tharrati-kaanpti hawaa, jo bahti rahee
har kone se chhekh aur khauff se din-raat kaanpti rahee.
beta-bhaiya-chacha saare rishte, jo bante peedhiyon se padosi
apno se kaisa darr, they bekhauff, aur katl ho gai zindagi.
teen din teen yug sa beeta, par na aayaa, maseehaa koi
aurat bachche jawaan budhe, chadh gaye sab, dharm ke aage balee.

insaan ke, chithde-chithde badan se, bahta laal rakt
badan yun kat.ta, jaise buchadkhaane ka ho, nireeh jiv.
raam-hanumaan ka jaap, allah kee karun pukaar
tukdaa-tukdaa jism, aur maangte rahe, raham kee bheekh.
ek ghunt paani kee tadap liye, mar gaye bebas praan
maanawtaa ke sath hin, mar gayaa, har khudaa aur insaan.

deewaaron per khoon ke chheeten, bistar aur farsh hua lahuloohaan
laashon kee dher mein, chhupaa eklautaa bachchaa, bhi ho gaya kurbaan.
kshat-vikashat maans ke lothde, chhatpatati bebas adhmaree jaan
jung lage hathiyaaron se, banaa fir ek jaaliyan-walaa baag.
beghar hokar bhatakte rahe, jaane kitne zakham, man par liye
bichhad gaye jo apne, kaise bharpaai karega, khudaa ya bhagwaan.

- jenny shabnam (october 24, 2009)

__________________________________________________________________

Friday, October 23, 2009

89. शब को दूर जाने दो / shab ko door jaane do

शब को दूर जाने दो...

*******

ज़िन्दगी को टूट जाने दो, कलम भी छूट जाने दो
उसको जाने का बहाना चाहिए, रूठा है रूठ जाने दो 

साझे एहसासों से बना था, कल मन का एक घरौंदा
अब कहता है मुझको, तसव्वुर से भी दूर जाने दो 

दस्तूर मालुम है उसे भी, उम्र की नादानियों की
फ़ासले उम्र के हों या मन के, भ्रम टूट जाने दो 

जितनी मोहब्बत की उसने, उतनी ही नफ़रत भी
कब किसका पलड़ा भारी, अब मुझे भूल जाने दो 

शिकवा बहुत किया है ज़िन्दगी से, अब न करेंगे
गम और मिले इससे पहले, ज़िन्दगी छूट जाने दो 

ख्वाहिशें तो मिटी नहीं कभी, जिन्हें पाला हमने वर्षों
थम सी गई है ज़िन्दगी, अब साँसों को टूट जाने दो 

रूह से नाता जोड़ कर, जन्म दिए हम एक संतान देव
तुम्हें सौंपती हूँ उस अनाथ को, 'शब' को दूर जाने दो 

- जेन्नी शबनम (अक्टूबर 22, 2009)

____________________________________________

shab ko door jaane do...

*******

zindgi ko toot jaane do, kalam bhi chhoot jaane do
usko jaane ka bahaana chaahiye, rootha hai rooth jaane do.

saanjhe ehsaason se banaa thaa, kal mann ka gharaunda
ab kahtaa hai mujhko, tasauur se bhi door jaane do.

dastoor maaloom hai use bhi, umra kee naadaaniyon kee
faasle umra ke hon ya mann ke, bhrum toot jaane do.

jitnee mohabbat kee usne, utnee hi nafrat bhi
kab kiska paldaa bhaari, ab mujhe bhool jaane do.

shikwa bahut kiya hai zindagi se, ab na karenge
gham aur mile isase pahle, zindagi chhoot jaane do.

khwaahishen to kabhi mitee nahee, jinhein paalaa humne warshon
tham see gayee hai zindagi, ab saanson ko toot jaane do.

rooh se naata jod kar, janm diye hum ek santaan dev
tumhein saunptee us anaath ko, 'shab' ko door jaane do.

- Jenny Shabnam (October २२, 2009)

_______________________________________________________

Friday, October 16, 2009

88. शब ने पाले ही नहीं थे / shab ne paale hin nahin theye

शब ने पाले ही नहीं थे

*******

कुछ लम्हे ऐसे रूठ गए हैं, जैसे साथ कभी हम, जिए ही नहीं थे
यूँ कि कोई साथी छूट जाए, जैसे साथ कभी हम, चले ही नहीं थे 

वक़्त की उदासियों को कौन समझे, जब दिल चीखता ही नहीं
ढूँढ़ता है दिल उस ज़ालिम को, जिसे कभी हम, भूले ही नहीं थे 

मजमा रोज़ है लगता मदिरालय में, कहते कि शराब चीज़ बुरी है
बिन पिए जो होश गँवा दे, ऐसे मयखाने में हम, गए ही नहीं थे 

सन्नाटों में गूँजता रहा समंदर की लहरों-सा, बेबस मासूम एक बदन
दरिंदों ने नोच डाला जिस्म, मगर एहसास जाने क्यों, मारे ही नहीं थे 

शहीद-ए-वतन के तगमे से, जवान बेवा कैसे गुजारे सूना जीवन
जाने कल किसकी बारी, बूढे माँ-बाप ने ऐसे ख़्वाब, देखे ही नहीं थे 

मंदिर-मस्जिद और गुरूद्वारे में, उम्र गुजरी हर चौखट चौबारे में
थक गए अब तो, कैसे कहते हो कि हम ख़ुदा को, ढूँढ़े ही नहीं थे 

ज़माने से पूछते हो भला क्यों, मेरे गुज़रे अफ़सानों का राज़
दर्द मेरा जाने कौन, ग़ैरों के सामने हम कभी, रोए ही नहीं थे 

फ़ना हो जाएँ, तो वो मानेंगे, कितना प्यार हम किए थे उनसे
मिलेंगे वो, ऐसे नामुमकिन अरमान, 'शब' ने, पाले ही नहीं थे 

- जेन्नी शबनम (अक्टूबर 14, 2009)

___________________________________________________

shab ne paale hin nahin theye...

*******

kuchh lamhe aise rooth gaye hain, jaise sath kabhi hum, jiye hin nahin theye
yun ki koi saathi chhoot jaye, jaise saath kabhi hum, chale hi nahin theye.

waqt kee udaasiyon ko kaun samjhe, jab dil cheekhta hi nahin
dhundhta hai dil us zaalim ko, jise kabhi hum, bhoole hi nahin theye.

majmaa roz hai lagta madiraalaye mein, kahte ki sharaab cheez buri hai
bin piye jo hosh ganwaa de, aise mayekhaane mein hum, gaye hi nahin theye.

sannaton mein gunjtaa raha samandar kee lahron-saa, bebas maasoom ek badan
darindon ne noch daalaa jism, magar ehsaas jaane kyun, thamye hi nahin theye.

shaheed-ae-watan ke tagmein se, jawaan bewa kaise gujaare soona jiwan
jaane kal kiski baari, budhe maa-baap ne aise khwaab, dekhe hi nahin theye.

mandir-maszid aur gurudwaare mein, umra gujari har chaukhat chaubaare mein
thak gaye ab to, kaise kahte ho ki hum khuda ko, dhundhe hi nahin they.

zamaane se poochhte ho bhalaa kyun, mere gujre afsaanon kaa raaz
dard mera jaane kaun, gairon ke saamne hum kabhi, roye hi nahin they.

fanaa ho jaayen, to wo maanenge, kitnaa pyaar hum kiye theye unse
milenge wo, aise naamumkin armaan, 'shab' ne, paale hi nahin theye.

- jenny shabnam (october 14, 2009)

____________________________________________________________

Sunday, October 11, 2009

87. अनाम प्रेम कहानी... / anaam prem kahani...

अनाम प्रेम कहानी...

*******

रिश्तों की बनी एक अनाम कहानी
प्रेम ने रचा फिर एक नया इतिहास,
बातें हुईं जो कल हमारी तुम्हारी
महफूज़ रखना सदा मेरा विश्वास 

नई-सी बात कुछ हुई ज़रूर
जो जागते रहे हम सारी रात,
नई-सी कहानी कुछ बनी ज़रूर
सिमटे मीलों के फ़ासले और ख्यालात 

पसरी जब ख़ामोशी तुम्हारी
खो गई थी मेरी भी आवाज़,
एक करवट तुमने था लिया
लौट आए हम अपने पास 

सोचती हूँ जो बातें कल हुई
हकीक़त है या बिछुड़ा ख़्वाब,
सोच से मेरी नींद थी खोई
जाग गई 'शब' की हर रात 

- जेन्नी शबनम (अक्टूबर 10, 2009)

_____________________________

anaam prem kahani...

*******

rishton kee bani ek anaam kahaani
prem ne rachaa fir ek naya itihaas,
baaten huin jo kal humaari tumhaari
mahfooz rakhna sadaa mera vishwaas.

nayee see baat kuchh hui zaroor
jo jaagte rahe hum saari raat,
nayee see kahaani kuchh bani zaroor
simte meelon ke faasle aur khayaalaat.

pasree jab khaamoshi tumhaari
kho gayee thee meri bhi aawaaz,
ek karwat tumne thaa liyaa
laut aaye hum apne paas.

sonchti hun jo baaten kal hui
hakiqat hai yaa bichhudaa khwaab,
soch se meri neend thee khoyee
jaag gayee 'shab' kee har raat.

- jenny shabnam (october 10, 2009)

____________________________________

Thursday, October 8, 2009

86. तुम्हारी अतियों से डरती हूँ... / tumhaari atiyon se darti hun...

तुम्हारी अतियों से डरती हूँ...

*******

तुम्हारी अतियों से बहुत डरती हूँ
चाहे प्यार या तुम्हारा गुस्सा हो 

जब प्यार में आसमान पर बिठाते हो
ज़मीं पर गिर जाने का भय होता है,
जब गुस्से में सारा घर उठा लेते हो
बेघर हो जाने का खौफ़ सताता है 

तुम्हारी हर अतियों से डरती हूँ
तुम क्यों नहीं समझ पाते हो?

मेरी साँसे जिस दिन थम जाए
ओह ! तुम क्या करोगे,
तुम्हारी अति...

ओह ! मेरे प्रियतम !
तुम ज़िन्दगी को देखो न
अपनी सोच से बाहर आकर
अपने अतियों से बाहर आकर 

मैं, तुम्हारी मैं,
तुम्हारी हर अतियों से बहुत डरती हूँ 

- जेन्नी शबनम (अक्टूबर 7, 2009)
________________________________


tumhaari atiyon se darti hun...

*******

tumhari atiyon se bahut darti hun,
chaahe pyaar yaa tumhaara gussa ho.

jab pyaar mein aasmaan par bithaate ho
zameen par gir jaane ka bhaye hota hai,
jab gussa mein sara ghar uthaa lete ho
beghar ho jaane ka khauf sataata hai.

tumhari har atiyon se darti hun,
tum kyun nahin samajh paate ho.

meri saansein jis din tham jaaye,
ohh ! tum kya karoge,
tumhaari ati...

ohh ! mere priyatam !
tum zindgi ko dekho na,
apni soch se baahar aakar,
apne atiyon se baahar aakar.

main, tumhaari main,
tumhaari har atiyon se bahut darti hun.

- jenny shabnam (october 7, 2009)

______________________________________