Thursday, January 14, 2010

115. दिल में चाँद इक उतरता है कोई / dil mein chaand ik utarta hai koi

दिल में चाँद इक उतरता है कोई

*******

हर्फ़-हर्फ़ ज़िन्दगी लिखता है कोई
ख्व़ाब हसीन रोज़ बुनता है कोई । 

उसकी ज़िन्दगी में शामिल नहीं
पर सपनों में सदा रहता है कोई । 

आज फिर कोई याद आया बहुत
दिल ही दिल में तड़पता है कोई । 

कैसे कह दें कि वो है अजनबी
धड़कनों में जब बसता है कोई । 

हो बस इक मुकम्मल मुलाक़ात
वक़्त से मिन्नत करता है कोई । 

सफ़र की दास्तान अब न पूछो
ज़िन्दगी किश्तों में जीता है कोई । 

बहुत की 'शब' ने चाँदनी की बातें
दिल में चाँद इक उतरता है कोई । 

- जेन्नी शबनम (जनवरी 14, 2010)

______________________________

dil mein chaand ik utarta hai koi

*******

harf-harf zindagi likhta hai koi
khwaab haseen roz bunta hai koi.

uski zindgi mein shaamil nahin
par sapnon mein sada rahta hai koi.

aaj fir koi yaad aaya bahut
dil hin dil mein tadapta hai koi.

kaise kah dein ki wo hai ajnabi
dhadkanon mein jab basta hai koi.

ho bas ik mukammal mulaakaat
waqt se minnat karta hai koi.

safar ki daastaan ab na puchho
zindagi kishton mein jita hai koi.

bahut kee 'shab' ne chaandni kee baatein
dil mein chaand ik utarta hai koi.

- Jenny Shabnam (January 14, 2010)

___________________________________