रविवार, 5 सितंबर 2010

171. मेरी दुनिया... / meri duniya...

मेरी दुनिया...

*******

यथार्थ से परे
स्वप्न से दूर
क्या कोई दुनिया होती है ?
शायद मेरी दुनिया होती है !
एक भ्रम, अपनों का
एक भ्रम, जीने का
कुछ खोने और पाने का
विफलताओं में आस बनाए रखने का
नितांत अकेली मगर भीड़ में खोने का !
यह लाज़िमी है
ऐसी दुनिया न बनाऊँ
तो जिऊँ कैसे ?

- जेन्नी शबनम (4. 9. 2010)

_____________________________

meri duniya...

*******

yathaarth se parey
swapn se door
kya koi duniya hoti hai ?
shaayad meri duniya hotee hai !
ek bhram, apnon ka
ek bhram, jine ka
kuchh khone aur paane ka
vifaltaaon mein aas banaaye rakhne ka
nitaant akeli magar bheed mein khone ka !
ye lazimi hai
aisi duniya na banaaun
to jiyun kaise ?

- jenny shabnam (4. 9. 2010)

_________________________________________