Monday, August 2, 2010

161. हमारे शब्द... / humaare shabd...

हमारे शब्द...

*******

शब्दों के सफ़र में
हम दोनों ही तो
हो गए लहूलुहान,
कोई पिघलता शीशा
या खंजर की धार
बस कर ही देना है वार !

आर पार कर दे रही
हमारे बोझिल रिश्तों को
हमारे शब्दों की कटार !

किसके शब्दों में तीव्र नोक ?
ढूँढते रहते दोषी कौन ?

प्रहार की ताक लगाए
मौका चुकने नहीं देना
बस उड़ेल देना है खौलते शब्द !

पार पा जाना है
तमाम बंधन से
पर नहीं जा सके कभी,
साथ जीते रहे
धकेलते रहे
एक दूसरे का क़त्ल करते रहे
हमारे शब्द !

- जेन्नी शबनम (2. 8. 2010)

_________________________

humaare shabd...

*******

shabdon ke safar mein
hum donon hi to
ho gaye lahooluhaan,
koi pighalta shisha
ya khanjar ki dhaar
bas kar hin dena hai waar !

aar paar kar de rahi
hamaare bojhil rishton ko
hamaare shabdon ki kataar !

kiske shabdon mein tivrr nok?
dundhte rahte doshi koun?

prahaar ki taak lagaaye
mouka chukne nahin dena
bas udel dena hai khoulate shabd !

paar pa jaana hai
tamaam bandhan se
par nahin ja sake kabhi,
saath jite rahe
dhakelate rahe
ek dusare ka qatl karte rahe
humaare shabd !

- jenny shabnam ( 2. 8. 2010)

________________________________