रविवार, 26 सितंबर 2010

177. दंभ हर बार टूटा... / dambh har baar toota...

दंभ हर बार टूटा...

*******

रिश्ते बँध नहीं सकते
जैसे वक़्त नहीं बँधता,
पर रिश्ते रुक सकते हैं
वक़्त नहीं रुकता !
फिर भी कुछ तो है समानता,
न दिखे पर दोनों साथ है चलता !
नहीं मालूम दूरी बढ़ी
या कि फासला न मिटा,
पर कुछ तो है कि
साथ होने का दंभ
हर बार टूटा !

- जेन्नी शबनम (8. 9. 2010)

_____________________________

dambh har baar toota...

*******

rishte bandh nahin sakte
jaise waqt nahin bandhta,
par rishte ruk sakte hain
waqt nahin rukta !
fir bhi kuchh to hai samaanta,
na dikhe par donon saath hai chalta !
nahin maloom doori badhi
yaa ki faasla na mita,
par kuchh to hai ki
saath hone ka dambh
har baar toota !

- jenny shabnam (8. 9. 2010)

____________________________