Monday, September 20, 2010

175. प्रिय है मुझे मेरा पागलपन... / priye hai mujhe mera pagalpan...

प्रिय है मुझे मेरा पागलपन...

*******

कुदरत की
बैसाखी मिली
मैं जी सकूँ
ये किस्मत मेरी,
इसीलिए
ख़ुद से ज्यादा
प्रिय है
मुझे मेरा पागलपन !
कुछ भी कर लूँ
माफ़ न करो,
नहीं स्वीकार
कोई एहसान मुझे !
सच कहते हो
मैं पागल हूँ,
होना भी
नहीं मुझे
तुम्हारी दुनिया जैसा,
मैं हूँ भली
अपने पागलपन के साथ !
कहते हो तुम
छोड़ आओगे
मुझको किसी
पागलखाने में,
आज अब राज़ी हूँ
इस दुनिया को छोड़
उस दुनिया में जाने को,
चलो पहुँचा दो मुझे
प्रिय है मुझे
मेरा पागलपन !

- जेन्नी शबनम (7. 9. 2010)

_______________________________

priye hai mujhe mera pagalpan...

*******

kudrat ki
baisaakhi mili
main ji sakun
ye kismat meri,
isiliye
khud se jyaada
priye hai
mujhe mera pagalpan !
kuchh bhi kar lun
maaf na karo,
nahin svikaar
koi yehsaan mujhe !
sach kahte ho
main pagaal hun,
hona bhi
nahin mujhe
tumhaari duniya jaisa,
main hun bhali
apne pagalpan ke saath !
kahte ho tum
chhod aaoge
mujhko kisi
pagalkhaane mein,
aaj ab raazi hun
is duniya ko chhod
us duniya mein jaane ko,
chalo pahuncha do mujhe
priye hai mujhe
mera pagalpan !

- jenny shabnam (7. 9. 2010)

_____________________________