Thursday, November 12, 2009

97. इंसानियत मरती है / Insaaniyat martee hai

इंसानियत मरती है

*******

गुनहगारों को आजकल राहत मिलती है
बेगुनाही सज़ा और ज़िल्लत से घिरती है 

कैसे हो फ़ैसला किसी की मासूमियत का
आजकल मासूमियत सरे-आम बिकती है 

इंसानी मनसूबे की परख मुमकिन नहीं
हर चेहरे पे हज़ार पर्द-पोशी दिखती है 

दुनिया के दश्त में हर शख्स है भटकता
सबकी तकदीर में ज़मीन कहाँ टिकती है 

मतलब-परस्ती भर है सियासी बाज़ीगरी
टुकड़ों में बँटती मादरे-वतन सिसकती है 

अजब इत्तेफ़ाक एक राष्ट्र में महाराष्ट्र बसा
तंग दिल इतना जहाँ राष्ट्र-भाषा पिटती है 

दहशतगर्दों ने ख़ुदा को न बख्शा 'शब'
बज़्मे-ऐश देखो जब इंसानियत मिटती है 

____________________

पर्द-पोशी - दोष को छुपाना
दश्त - जंगल
बज़्मे-ऐश - ख़ुशी का जलसा
____________________

-जेन्नी शबनम (अगस्त 15, 2009)

_________________________________________

Insaaniyat martee hai...

*******

gunahgaaron ko aajkal raahat miltee hai
begunaahi saza aur zillat se ghirtee hai.

kaise ho faisla kisi ki maasoomiyat ka
aajkal maasoomiyat sare-aam biktee hai.

insaani mansoobe kee parakh mumkin nahin
har chehre pe hazaar pard-poshi dikhtee hai.

duniya ke dasht mein har shakhs hai bhataktaa
sab kee takdeer mein zameen kahaan tikatee hai.

matlab-parasti bhar hai siyaasi baazigari
tukadon mein bantatee maadare-watan sisakatee hai.

ajab ittefaaq ek raashtra mein maharashtra basaa
tang dil itnaa jahaan rashtra-bhasha pita.tee hai.

dahshatgardon nein khuda ko na bakhsha 'shab'
bazme-aish dekho jab insaaniyat mitatee hai.

__________________________

pard-poshi - dosh ko chhupana
dasht - jangal
bazme-aish - khushi ka jalsaa

___________________________

- Jenny Shabnam (August 15, 2009)

********************************************************