Monday, August 1, 2011

कुछ तो था मेरा अपना...

कुछ तो था मेरा अपना...

*******

जी चाहता है
सब कुछ छोड़ कर
वापस लौट जाऊँ
अपने उसी अँधेरे कोने में
जहाँ कभी किसी दिन
दुबकी हुई मैं
मिली थी तुम्हें,
और तुम खींच लाए थे उजाले में
चहकने के लिए|
खिली-खिली मैं
जाने कैसे सब भूल गई
वो सब यादें विस्मृत कर दी
जो टीस देती थी मुझे,
और मैं
तुम्हारे साथ
सतरंगी सपने देखने लगी थी|
जानते हुए कि
बीते हुए कल के अँधेरे साथ नहीं छोड़ेंगे
और एक दिन तुम भी छोड़ जाओगे,
मैंने एक भ्रम लपेट लिया था कि
सब कुछ अच्छा है
जो बीता वो कल था
आज का सपना
सब सच्चा है|
अब तो जो शेष है
बस मेरे साथ
मेरा ही अवशेष है,
जी चाहता है
वापस लौट जाऊँ
अपने उसी अँधेरे कोने में
अपने सच के साथ,
जहाँ कुछ तो था
मेरा अपना...

- जेन्नी शबनम ( अगस्त 1, 2011)

________________________________________