मंगलवार, 6 जुलाई 2010

152. एक राह और एक प्याली / ek raah aur ek pyaali

एक राह और एक प्याली

*******

अभी भी मेरी आँखें 
वहीं खड़ी हैं 
वहीं उसी मोड़ पर 
जहाँ से हमारे रास्ते 
बदलते हैं हमेशा! 

उस दिन भी तो 
साथ ही थे हम 
आमने सामने बैठे 
कोल्ड कॉफ़ी की दो प्याली 
और साथ हमारी चुप्पी! 
हौले से उठाते हम 
अपनी-अपनी प्याली 
कहीं शब्द तोड़ न दे प्याली 
या फिर गर्म न हो जाए ज़िन्दगी 
जकड़ न ले हमें हमारे रिश्ते 
पनपने भी न देते कभी मुस्कान! 

हाथ थाम चल दिए 
कॉफ़ी के प्याले भी बदल लिए 
पर नहीं बदल सके फितरत 
और हाथ छुड़ा चल देते 
दो अलग-अलग दिशाओं में! 
जानते तो हैं कि फिर मिलना है 
ऐसे ही चुप्पी को समझना है 
दो कॉफ़ी के प्याले 
बदलना भी है और पीना भी है! 

हर बार एक ही कहानी 
वही ख़ामोश राह 
जहाँ से हर बार अलग होना है 
और फिर दोबारा मिलने तक 
उसी जगह पर ठहरी रहती है आँखें 
जिस मोड़ से बदलते हैं रास्ते! 

कह भी नहीं सकते कि 
इस बार आओ तो साथ ही चलेंगे 
तोड़ देंगे अपनी चुप्पी और दूसरी प्याली 
रहेगी एक राह और एक प्याली! 
छोड़ कर जाते हुए 
आँखें अब नम न होंगी 
न ठहरी रहेगी उसी मोड़ पर 
जहाँ से हमारे रास्ते 
बदलते हैं हमेशा! 

- जेन्नी शबनम (5. 7. 2010)
______________________________________

ek raah aur ek pyaali

*******

abhi bhi meri aankhein 
wahin khadi hain 
wahin usi mod par 
jahaan se hamaare raaste 
badalte hain hamesha! 

us din bhi to 
saath hi the hum 
aamne saamne baithe 
cold coffee ki do pyaali 
aur saath humaari chuppi! 
houle se uthaate hum 
apni apni pyaali 
kahin shabd tod na de pyaali 
ya fir garm na ho jaaye zindagi 
jakad na le hamein hamaare rishte 
panapne bhi na dete kabhi muskaan! 

haath thaam chal diye 
coffee ke pyaale bhi badal liye 
par nahin badal sake fitarat 
aur haath chhuda chal dete 
do alag alag dishaon mein! 
jaante to hain ki fir milna hai 
aise hi chuppi ko samajhna hai 
do coffee ke pyaale 
badalna bhi hai aur pina bhi hai! 

har baar ek hi kahaani 
wahi khaamosh raah 
jahaan se har baar alag hona hai 
aur fir dobaara milne tak 
usi jagah par thahri rahti hain aankhein 
jis mod se badalte hain raaste! 

kah bhi nahin sakte ki 
is baar aao to saath hin chalenge 
tod denge apni chuppi aur dusri pyaali 
rahegi ek raah aur ek pyaali! 
chhod kar jaate hue 
aankhein ab nam na hongi 
na thahri rahegi usi mod par 
jahaan se hamaare raaste 
badalte hain hamesha! 

- Jenny Shabnam (5. 7. 2010)

__________________________________