Tuesday, January 26, 2010

121. इमरोज़ से / Imroz se

इमरोज़ से
[इमरोज़ जी के जन्मदिन (26. 1. 2010) पर]

*******

इमरोज़ से अक्सर मैं अपने जवाब, पूछती रही हूँ
शायद उनके तजुर्बों में, ज़िन्दगी तलाशती रही हूँ । 

इश्क क्या और ज़िन्दगी क्या होती, समझ न सकी
कुछ जवाब मिले, कुछ और सवालों से घिरती रही हूँ । 

आज फिर यहाँ देखा, कुछ जवाब जो मेरे लिए रखे हैं
अमृता की नज़्मों से, कुछ सवाल जो मैं करती रही हूँ । 

वो कहते - अमृता उस कमरे में बैठी नज़म लिखती है
जब भी उनसे मिली, उनकी अमृता से मिलती रही हूँ । 

'शब' पूछती है - इश्क से पाक क्या होती कोई नज़म ?
हँस कर कहते - वो है पाक नज़म जो मैं लिखती रही हूँ । 

- जेन्नी शबनम (जनवरी 26, 2010)

____________________________________________

Imroz se

[Imroz ji ke janmdin (26. 1. 2010) par]


*******

Imroz se aksar main apne jawaab, puchhti rahi hoon
shaayad unke tazurbon mein, zindagi talaashti rahi hoon.

ishq kya aur zindagi kya hoti, samajh na saki
kuchh jawaab mile, kuchh aur sawaalon se ghirti rahi hoon.

aaj phir yahaan dekha, kuchh jawaab jo mere liye rakhe hain
amrita ki nazmon se, kuchh sawaal jo main karti rahi hoon.

wo kahte - amrita us kamre men baithi nazm likhti hai
jab bhi unse mili, unki amrita se milti rahi hoon.

'shab' puchhti hai - ishq se paak kya hoti koi nazm ?
hans kar kahte - wo hai paak nazm jo main likhti rahi hoon.

- Jenny Shabnam (January 26, 2010)

___________________________________________________

Saturday, January 23, 2010

120. एक भ्रम चाहिए... / ek bhram chaahiye...

एक भ्रम चाहिए...

*******

मैं अभागन
जान न सकी तुमको
तुमने ही कब सुध ली हमारी,
नहीं सोचा कि कैसे रह रही हूँगी,
छोड़ दिया इस असार संसार में
स्वयं में समाहित विवश जीने केलिए । 

किस-किस से लडूँ ?
अपनी वेदना से
समाज के नियम से
या तुम्हारी अघोषित उपेक्षा से ?

सारे तर्क और तथ्य
संभावित सत्य हों
फिर भी
ये सच है कि मैं निर्मम पथ पर
अकेली नहीं चल सकती,
कोई बंधन चाहिए
कोई नाता चाहिए
कोई अपना चाहिए । 

असहमति नहीं इस सत्य से
अकेले आए हैं अकेले जाना है,
न विरोध तुम्हारी मति से
न अवरोध तुम्हारी प्रगति में
न प्रतिरोध तुम्हारी छवि से,
न कृपा चाहिए
न अधिकार चाहिए
न बलिदान चाहिए । 

बस अंतिम पड़ाव तक
कठिन डगर में
किसी अपने के साथ का
अपनत्व की बात का
मिथ्या संबल और
एक भ्रम चाहिए । 

- जेन्नी शबनम (जनवरी 16, 2010)

_________________________________


ek bhram chaahiye...

*******

main abhaagan
jaan na sakee tumko
tumne hi kab sudh li hamaari,
nahi socha ki kaise rah rahi hoongi,
chhod diya is asaar sansaar mein
swayam mein samaahit vivash jine keliye.

kis-kis se ladoon?
apni vedna se
samaaj ke niyam se
ya tumhaari aghoshit upeksha se ?

saare tark aur tathya
sambhaavit satya hon
phir bhi
ye sach hai ki main nirmam path par
akeli nahin chal sakti,
koi bandhan chaahiye
koi naata chaahiye
koi apna chaahiye.

asahmati nahin is satya se
akele aaye hain akele jaana hai,
na virodh tumhaari mati se
na avrodh tumhaari pragati mein
na pratirodh tumhaari chhavi se,
na kripa chaahiye
na adhikaar chaahiye
na balidaan chaahiye.

bas antim padaav tak
kathin dagar mein
kisi apane ke saath ka
apnatwa ki baat ka
mithya sambal aur
ek bhram chaahiye.

- Jenny Shabnam (January 16, 2010)

__________________________________________

Wednesday, January 20, 2010

119. क़र्ज़ चुकता कर लेने दे / karz chukta kar lene de

क़र्ज़ चुकता कर लेने दे

*******

जाने फिर वक़्त इतनी मोहलत दे कि न दे
होश में हूँ अभी सब क़र्ज़ चुकता कर लेने दे । 

इल्म ही कहाँ कि सफ़र यूँ छूट रहा मुझसे
गुज़रे सफ़र की हर दास्तान याद कर लेने दे । 

किस-किस ने नवाज़ा प्रेम और दर्द से मुझे
आज बैठ ये हिसाब-किताब सब कर लेने दे । 

तकदीर ने न दिया इतना कि तोहफ़ा दे जाऊँ
ज़िन्दगी के कुछ लम्हें सौंप तुझे चैन ले लेने दे । 

चंद घड़ियों में ही बीत गई क्यों जिंदगानी मेरी
तुम्हारी न सुनूँगी आज मेरी कहानी कह लेने दे । 

कोई नश्तर चुभा सीने में और हँस पड़ी 'शब'
'शब' जो न कह पाई कभी आज सुन लेने दे । 

- जेन्नी शबनम (जनवरी 20, 2010)

___________________________________________

karz chukta kar lene de...

*******

jaane phir waqt itni mohlat de ki na de
hosh men hun abhi sab karz chukta kar lene de.

ilm hi kahaan ki safar yoon chhoot raha mujhse
guzre safar kee har daastaan yaad kar lene de.

kis-kis ne nawaza prem aur dard se mujhe
aaj baith ye hisaab kitaab sab kar lene de.

takdeer ne na diya itna ki tohfa de jaaoon
zindagi ke kuchh lamhen sounp tujhe chain le lene de.

chand ghadiyon men hi beet gayee kyon zindgaani meri
tumhaari na sunungi aaj meri kahaani kah lene de.

koi nashtar chubha seene mein aur hans padee 'shab'
'shab' jo na kah payee kabhi aaj sun lene de.

- Jenny Shabnam (January 20, 2010)

____________________________________________________

Tuesday, January 19, 2010

118. ओ ओशो... / O Osho...

ओ ओशो...
[ओशो के महापरिनिर्वाण दिवस पर]

*******

ओ ओशो,
न तुम मेरे गुरु
न तुम मेरे ख़ुदा,
हो तुम मेरे सखा
जैसे कोई मेरा अपना । 

तुम कहते हो -
पहले ख़ुद को पहचानो
अपनी समझ से ज़िन्दगी जानो
राह अपनी ख़ुद बनाओ
प्रेम और आनंद का उत्सव मनाओ । 

तुम राह दिखलाते नहीं
जीना भी सिखलाते नहीं
सत्य को कैसे जानूँ ?
असत्य को कैसे परखूँ ?

ज़िन्दगी जब उलझ जाती है
मन में जब खुशियाँ नाचती हैं
नहीं मिलता कोई जो मुझको सहेजे
मेरा सुख दुःख जो हर पल बाँटे । 

जब दिखता नहीं कोई रौशन पहर
हार जाता अपनी ही व्यथा से मन,
फिर ख़ुद को समेटकर सब बिसराकर
एक आस लिए पहुँच जाती तुम तक,
तुम से कहती हूँ सब रोकर हँसकर
तुम न सुनो पर कह जाती मनभर । 

परवाह नहीं लोग क्या कहते हैं मुझको
तुम्हारे शब्दों से मिलती है राहत मुझको,
तुम चाहो न चाहो कब ये मन है सोचता
तुममें ही बस ये मन है पनाह ढूँढ़ता । 

- जेन्नी शबनम (जनवरी 19, 2012)

___________________________________

O Osho...
[Osho ke mahaaparinirwaan diwas par]

*******

O Osho...
na tum mere guru
na tum mere khuda,
ho tum mere sakha
jaise koi mera apana.

tum kahate ho -
pahle khud ko pahchaano
apni samajh se zindagi jano
raah apni khud banaao
prem aur aanand ka utsav manaao.

tum raah dikhlaate nahin
jeena bhi sikhlaate nahin
satya ko kaise jaanoon ?
asatya ko kaise parkhoon ?

zindagi jab ulajh jatee hai
mann men jab khushiyaan naachti hain
nahin milta koi jo mujhko saheje
mera sukh duhkh jo har pal baante.

jab dikhta nahin koi roushan pahar
haar jaata apni hin vyatha se mann,
phir khud ko sametkar sab bisraakar
ek aas liye pahunch jati tum tak,
tum se kahti hun sab rokar hanskar
tum na suno par kah jaati mannbhar.

paravaah nahin log kya kahte hain mujhko
tumhaare shabdon se milti hai raahat mujhko,
tum chaaho na chaaho kab ye mann hai sochta
tumamen hin bas ye mann hai panaah dundhta.

- Jenny Shabnam (January 19, 2010)

____________________________________________

Monday, January 18, 2010

117. ताजमहल वीराना भी देखना / tajmahal veeraana bhi dekhna

ताजमहल वीराना भी देखना

*******

फुर्सत में इक रोज़ कभी ये ज़माना भी देखना
इक शाहजहाँ का ताजमहल वीराना भी देखना । 

न कहना यूँ चुपके से अपने मन की दुश्वारियाँ
क्यों बदनामियों से डरते ये फ़साना भी देखना । 

करते वही मिज़ाजपुर्सी जो देते हैं बड़ा ज़खम
है अज़ब दस्तूर दुनिया का दीवाना भी देखना । 

ज्योतिषों ने बाँचा कलियुग का होगा ऐसा अंत
ढ़ोंगी बने धर्मात्मा ख़ुदा का निशाना भी देखना । 

क़यामत की थी क्रूर घड़ी क्या राजा क्या रंक
मिट गया है एक वतन ज़रा ठिकाना भी देखना । 

किससे बाँटे कोई आसमान भूखे ठिठुरे हैं सवाल
मर गए नौनिहाल बाप का छटपटाना भी देखना । 

गुज़रना था गुज़र गया वक़्त से क्या शिकवा
नए दोस्त बहुत मिलेंगे साथी पुराना भी देखना । 

पूछना जग से क्या खोया क्या पाया 'शब' ने
कैसे पथराया मन और वक़्त बीताना भी देखना । 

- जेन्नी शबनम (जनवरी 17, 2010)

______________________________________

tajmahal veeraana bhi dekhna

*******

fursat mein ik roz kabhi ye zamana bhi dekhna
ik shaahjahan ka taajmahal veeraana bhi dekhna.

na kahna yun chupke se apne man ki dushwaariyaan
kyon badnaamiyon se darte ye fasaana bhi dekhna.

karte wahi mizaajpursi jo dete hain bada zakham
hai ajab dastoor duniya ka deewaana bhi dekhna.

jyotishon ne baancha kaliyug ka hoga aisa ant
dhongi bane dharamaatma khuda ka nishaana bhi dekhna.

kayaamat ki thi krur ghadi kya raja kya rank
mit gaya hai ek watan zara thikana bhi dekhna.

kisase baante koi aasmaan bhookhe thithure hain sawal
mar gaye naunihaal baap ka chhatpataana bhi dekhna.

guzarna tha guzar gaya waqt se kya shikwa
naye dost bahut milenge saathi purana bhi dekhna.

puchhna jag se kya khoya kya paaya 'shab' ne
kaise pathraaya mann aur waqt beetaana bhi dekhna.

- Jenny Shabnam (January 17, 2010)

__________________________________________________

Sunday, January 17, 2010

116. मेरा मन... / mera mann...

मेरा मन...

*******

हर राह पर बैठा एक साया
जाने किसको ढूँढ़ता है मन,
रौशनी मिली ही कब थी कभी
क्यों अँधियारों से डरता है मन । 

अंतहीन संघर्ष पर विफल ज़िन्दगी
कितना जोख़िम और उठाए ये मन,
क्यों मिली साँसों की डोर लम्बी इतनी
ज़िन्दगी के बंधन से अब उब गया ये मन । 

आज फिर इंकार है मुझे ख़ुदा के वज़ूद से
बताओ और कितना ख़िदमत करे मेरा मन,
थक गया आज ख़ुदा भी करके अपनी जादूगरी
तकदीर के फरेबों से घबड़ा के थक गया मेरा मन । 

- जेन्नी शबनम (जनवरी 15, 2010)

__________________________________________

mera mann...

*******

har raah par baitha ek saaya
jaane kisko dhoondhta hai mann,
raushni mili hi kab thee kabhi
kyon andhiyaaron se darta hai mann.

antheen sangharsh par wifal zindagi
kitna jokhim aur uthaaye ye mann,
kyon mili saanson ki dor lambi itni
zindagi ke bandhan se ab ub gaya ye mann.

aaj fir inkaar hai mujhe khuda ke wuzood se
bataao aur kitna khidmat kare mera mann,
thak gaya aaj khuda bhi karke apni jaadugari
takdeer ke farebon se ghabda thak gaya mera mann.

- Jenny Shabnam (January 15, 2010)

_______________________________________________

Thursday, January 14, 2010

115. दिल में चाँद इक उतरता है कोई / dil mein chaand ik utarta hai koi

दिल में चाँद इक उतरता है कोई

*******

हर्फ़-हर्फ़ ज़िन्दगी लिखता है कोई
ख्व़ाब हसीन रोज़ बुनता है कोई । 

उसकी ज़िन्दगी में शामिल नहीं
पर सपनों में सदा रहता है कोई । 

आज फिर कोई याद आया बहुत
दिल ही दिल में तड़पता है कोई । 

कैसे कह दें कि वो है अजनबी
धड़कनों में जब बसता है कोई । 

हो बस इक मुकम्मल मुलाक़ात
वक़्त से मिन्नत करता है कोई । 

सफ़र की दास्तान अब न पूछो
ज़िन्दगी किश्तों में जीता है कोई । 

बहुत की 'शब' ने चाँदनी की बातें
दिल में चाँद इक उतरता है कोई । 

- जेन्नी शबनम (जनवरी 14, 2010)

______________________________

dil mein chaand ik utarta hai koi

*******

harf-harf zindagi likhta hai koi
khwaab haseen roz bunta hai koi.

uski zindgi mein shaamil nahin
par sapnon mein sada rahta hai koi.

aaj fir koi yaad aaya bahut
dil hin dil mein tadapta hai koi.

kaise kah dein ki wo hai ajnabi
dhadkanon mein jab basta hai koi.

ho bas ik mukammal mulaakaat
waqt se minnat karta hai koi.

safar ki daastaan ab na puchho
zindagi kishton mein jita hai koi.

bahut kee 'shab' ne chaandni kee baatein
dil mein chaand ik utarta hai koi.

- Jenny Shabnam (January 14, 2010)

___________________________________

Monday, January 11, 2010

114. मेरी उपलब्धि.../ meri uplabdhi...

मेरी उपलब्धि...

*******

सब कहते मेरी उपलब्धियों की
फ़ेहरिस्त बड़ी लम्बी है । 

अक्सर सोचती हूँ
क्या होती है उपलब्धि ?
क्या है मेरी उपलब्धि ?
क्या मेरा मैं होना मेरी उपलब्धि है ?
या कुदरत की कोई गुस्ताख़ी है ?
या है ख़ुदा की बेगारी ?

मैं तो महज़ वक़्त के साथ
कदम दर कदम चलती रही हूँ । 

मैं कहाँ हूँ ?
मैंने क्या किया ?
अनवरत जद्दोज़हद और मशक्कत
मुकम्मल ज़िन्दगी जीने की नाकाम कोशिश !
पर वो भी तो तकदीर में बदा है
मेरे मैं होने की कहानी है
या इस उपलब्धि को पाने की कुर्बानी है ?

साँसों की मंथर गति
लहू की तेज़ रफ्तार
कुछ पल सुहाने
कुछ अफ़साने
अपनों के बिछुड़ने का ग़म
जीवन का बेमियाद सफ़र
क्या ये ही मेरी उपलब्धि है ?

जिसका कोई वज़ूद नहीं
उसकी कैसी उपलब्धि ?
क्या इसे ही कहते हैं उपलब्धि ?
हाँ... शायद इसे ही कहते होंगे
जीवन की उपलब्धि । 
मेरी उपलब्धि... ! 

- जेन्नी शबनम (जनवरी 11, 2010)

_____________________________________

meri uplabdhi...

*******

sab kahte meri uplabdhiyon ki
feharist badi lambi hai.

aksar sochti hun
kya hoti hai uplabdhi ?
kya hai meri uplabdhi ?
kya mera main hona meri uplabdhi hai ?
ya kudrat ki koi gustaakhi hai ?
ya hai khuda ki begaari ?

main to mahaz waqt ke saath
kadam dar kadam chalti rahi hoon.

main kahan hun ?
maine kya kiya ?
anwarat jaddozehad aur mashakkat
mukammal zindagi jine ki naakaam koshish !
par wo bhi to takdeer mein badaa hai
mere main hone ki kahani hai
ya is uplabdhi ko paane ki kurbaani hai ?

saanson ki manthar gati
lahoo ki tez raftaari
kuchh pal suhaane
kuchh afsaane
apno ke bichhudne ka gam,
jiwan ka bemiyaad safar
kya ye hin meri uplabdhi hai ?

jiska koi wazood nahin
uski kaisi uplabdhi ?
kya ise hi kahte hain uplabdhi ?
haan...shayad ise hin kahte honge
jiwan ki uplabdhi.
meri uplabdhi... !

- Jenny Shabnam (January 11, 2010)

*****************************************************

Sunday, January 10, 2010

113. याद तुम्हें ज़रा नहीं / yaad tumhein zaraa nahin

याद तुम्हें ज़रा नहीं

*******

एक शाम हो सिर्फ मेरी, चाह है कोई ख़ता नहीं
इश्क की कहानी तुमने कही, याद तुम्हें ज़रा नहीं । 

अमावास का दीप सही, पर बताए कैसे दिशा मेरी
दूर है एक चाँद खिला, पर ध्रुव तारा-सा जला नहीं ।    

खो आई कुछ अपना, जब टूटा था तुम्हारा वादा
विश्वास की डोर जो टूटी, फिर कुछ अब बचा नहीं । 

महज़ एक रात का नाता, उस सफ़र का वादा यही
हर तकाज़ा था तुम्हारा, मैंने किया कोई दगा नहीं । 

तुम्हारा प्यार ज़्यादा, या मेरी तकदीर कम पड़ी
रब की मर्ज़ी रब जाने, फैसला मेरा कभी रहा नहीं । 

दर्द देकर कहते हो, आ जाओ सनम है जीवन सूना
सब अख्तियार तुम ले बैठे, 'शब' ने कुछ कहा नहीं । 

- जेन्नी शबनम (जनवरी 10, 2010)

___________________________________________

yaad tumhein zaraa nahin

*******

ek shaam ho sirf meri, chaah hai koi khataa nahin
ishq ki kahani tumne kahi, yaad tumhe zaraa nahin.

amaawas ka deep sahi, par bataye kaise dishaa meri
door ek chaand khila, par dhruv taaraa-sa jala nahin.

kho aayee kuchh apna, jab toota thaa tumhara wada
wishwaas ki dor jo tooti, fir kuchh ab bachaa nahin.

mahaz ek raat ka nata, us safar ka wada yahi
har takaza thaa tumhaara, maine kiya koi dagaa nahin.

tumhara pyar jyaada, ya meri takdeer kam padee
rab ki marzi rab jaane, faisla mera kabhi rahaa nahin.

dard dekar kahte ho, aa jao sanam hai jiwan soona
sab akhtiyaar tum le baithey, 'shab' ne kuchh kahaa nahin.

- Jenny Shabnam (January 10, 2010)

__________________________________________________

112. सूरज को पा लूँ.../ sooraj ko paa loon...

सूरज को पा लूँ...

*******

चाँद को पाने की ख़्वाहिश
तो फिर भी है मुमकिन,
सूरज को चाहे कि पा लूँ
तो अंजाम जाने क्या हो । 
दूर जो है सूरज तो
जीवित हैं हम,
पास से जो हो
छूने की आस,
भस्म हो जाएँगे
पर मिलेगा न सूरज । 
तुम्हारी दूरी में है
हमारा जीवन,
फिर भी तुम्हें पाने को
क्यों तड़पता है मन ?
अपनी ताप
मुझमें बसा दो,
चुपके से अपनी किरणें
मुझतक पहुँचा दो,
अँधियारा फैले तो
पूछेगा जग तो
कहना
बादलों ने छुपा दिया था तुमको 

- जेन्नी शबनम (जनवरी 1, 2010)

_____________________________________

sooraj ko paa loon...

*******

chaand ko paane ki khwaahish
to fir bhi hai mumkin,
sooraj ko chaahe ki paa lun
to anjaam jaane kya ho.
door jo hai sooraj to
jiwit hain hum,
paas se jo ho
chhune ki aas,
bhasm ho jayenge
par milega na sooraj.
tumhaari doori mein hai
hamara jiwan,
phir bhi tumhe paane ko
kyon tadaptaa hai mann ?
apni taap
mujhmein basaa do,
chupke se apni kirnein
mujhtak pahunchaa do,
andhiyaaraa faile to
puchhega jag to
kahna
baadlon ne chhupa diya thaa tumko.

- Jenny Shabnam (January 1, 2010)

________________________________________