Sunday, 14 October 2018

590. वर्षा (5 ताँका)

वर्षा (ताँका)   

*******   

1.   
वर्षा की बूँदें   
उछलती-गिरती   
ठौर न पाती   
मौसम बरसाती   
माटी को तलाशती।   

2.   
ओ रे बदरा   
इतना क्यों बरसे   
सब डरते   
अन्न-पानी दूभर   
मन रोए जीभर।   

3.   
मेघ दानव   
निगल गया खेत,   
आया अकाल   
लहू से लथपथ   
खेत व खलिहान।   

4.   
बरखा रानी   
झम-झम बरसी   
मस्ती में गाती   
खिल उठा है मन   
नाचता उपवन।   

5.   
प्यासी धरती   
अमृत है चखती   
सोंधी-सी खूश्बू   
मन को लुभाती   
बरखा तू है रानी।   

- जेन्नी शबनम (9. 9. 2018)   

_________________________