सोमवार, 31 मई 2010

145. बँटे हुए तुम.../ bante hue tum...

बँटे हुए तुम...

*******

क्या कभी भी सोचा या जाना तुमने
क्यों दूर हो गई ख़ुद ही मैं तुमसे,
एक-एक लम्हा जो साथ जिए थे
न पूछो
बड़ा दर्द देते थे,
आस हो, तो फिर भी काँटों को सह लूँ
हर चुभन को फूलों की चुभन सोचूँ,
कभी ख़ुद से हारी नहीं
पर तुमको जीती भी तो नहीं,
मेरा मौन समर्पण मुझे तोड़ गया
और शायद यही
तुमको मुझसे दूर कर गया,
मैं, मैं हूँ
ये तुम क्यों न मान सके
हर रोज़ एक नयी उर्वशी तलाशते रहे,
अब चाहती भी नहीं
कि वापस लौटो तुम
अब मुझे भी स्वीकार्य नहीं
बँटे हुए तुम,
कोई शिकायत मेरी
नहीं पहुँचेगी अब तुम तक
मिलने की व्याकुलता रहेगी ज़ब्त मुझ तक,
जाओ, तुमको आज़ाद किया
ख़ुद ही अपना दिल वीरान किया,
प्रेम पथिक
तुम बन न सके कभी मेरे
देती दुआ 'शब'
जीओ प्रेम में
तो किसी के !

- जेन्नी शबनम (31. 5. 2010)

__________________________

bante hue tum...

*******

kya kabhi bhi socha ya jaana tumne
kyon door ho gai khud hin main tumse,
ek-ek lamha jo saath jiye the
na puchho
bada dard dete theye,
aas ho, to phir bhi kaanton ko sah loon
har chubhan ko phulon ki chubhan sochoon,
kabhi khud se haari nahin
par tumko jiti bhi to nahin,
mera moun samarpan mujhe tod gaya
aur shaayad yahi
tumko mujhse door kar gaya,
main, main hun
ye tum kyon na maan sake
har roz ek nayee urvashi talaashte rahe,
ab chaahti bhi nahin
ki wapas louto tum
ab mujhe bhi swikaarya nahin
bante hue tum,
koi shikaayat meri
nahin pahunchegi ab tum tak
milane ki vyaakulta rahegi zabt mujh tak,
jao, tumko aazaad kiya
khud hin apna dil weeran kiya,
prem pathik
tum ban na sake
kabhi mere
deti dua 'shab'
jio prem mein
to kisi ke !

- Jenny Shabnam (31. 5. 2010)

________________________________