Tuesday, July 1, 2014

460. स्मृतियाँ शूल (10 हाइकु)

स्मृतियाँ शूल 
(10 हाइकु)

*******

1.
तय हुआ है -
मौसम बदलेगा
बर्फ जलेगा ।

2.
ले कर चली
चींटियों की क़तार
मीठा पहाड़ ।

3.
तमाम रात
धकेलती ही रही
यादों की गाड़ी ।

4.
आँखें मींचती
सूर्य के गले लगी
धरा जो जागी ।

5.
जाने क्या सोचे
यायावर-सा फिरे
बादल जोगी ।

6.
डरे होते हैं -
बेघर न हो जाएँ 
मेरे सपने  

7.
हार या जीत 
बेनाम-सी उम्मीद 
ज़मींदोज़ क्यों !

8.
ख़ारिज हुई 
जब भी भेजी अर्जी 
अल्लाह की मर्ज़ी !

9.
जश्न मनाता 
सूरज निकलता 
हो कोई ऋतु !

10.
जब उभरें  
लहुलूहान करें 
स्मृतियाँ शूल !

- जेन्नी शबनम (5. 6. 2014)

_________________________