Tuesday, April 12, 2011

ज़िन्दगी से छीना-झपटी ज़ारी है...

ज़िन्दगी से छीना-झपटी ज़ारी है...

*******

पहली साँस से अंतिम साँस तक का, सफ़र जारी है
कौन मिला कौन बिछड़ा, ज़ेहन में तस्वीर सारी है !

सपनों का पलना और फिर टूटना, ज़ख़्म तो है बहुत
किससे करूँ गिला शिकवा, सच मेरी तकदीर हारी है !

एक रोज़ मिला था कोई मुसाफ़िर, राहों में तन्हा-तन्हा
साथ चले कुछ रोज़ फिर कह गया, मेरी हर शय ख़ारी है !

नहीं इस मर्ज़ का इलाज़, बेकार गई दुआ तीमारदारी
थक गए सभी, अब कहते कि अल्लाह की वो प्यारी है !

ख़ुद से एक जंग छिड़ी, तय है कि फ़ैसला क्या होना
लहू-लूहान फिर भी, ज़िन्दगी से छीना-झपटी ज़ारी है !

नहीं रुकती दुनिया वास्ते किसी के, सच मालूम है मुझे
शायद तकदीर के खेल में हारना, मेरी ही सभी पारी है !

जीने की ख़्वाहिश मिटती नहीं, नए ख्व़ाब हूँ सजाती
ज़ाहिर ही है हर पल होती, ज़िन्दगी से मारा-मारी है !

इस जहाँ को कभी हुआ नहीं, उस जहाँ को हो दरकार
हर नाते तोड़ रही 'शब', यहाँ से जाने की पूरी तैयारी है !

- जेन्नी शबनम (16. 11. 2010)

_______________________________________________________