Saturday, June 19, 2010

148. सर्द मौसम की ठंडी मैं छाँव हूँ / sard mousam ki thandi main chhaanv hoon

सर्द मौसम की ठंडी मैं छाँव हूँ

*******

सर्द मौसम की ठंडी मैं छाँव हूँ
कोई ठहर न सके वो मैं पड़ाव हूँ !

दुनिया है सागर की क्रूर लहरें
सहती साहिल का मैं कटाव हूँ !

चुन-चुन के बटोरती रही पीड़ा
और ख़ुद ही करती मैं बचाव हूँ !

रगों में रक्त अब बहता नहीं
जो बुझ चुका वो मैं अलाव हूँ !

ज़ख़्मी हुई ख़ुद की ख़ता से
रो-रो कर भरती मैं घाव हूँ !

'शब' ने तो कभी दिया नहीं
ख़ुद को ही देती मैं तनाव हूँ !

- जेन्नी शबनम (18. 6. 2010)

____________________________________

sard mousam ki thandi main chhaanv hoon

*******

sard mousam ki thandi main chhaanv hun
koi thahar na sake vo main padaav hun.

duniya hai saagar ki krur lahren
sahti saahil ka main kataav hun.

chun-chun ke batorti rahi peeda
aur khud hin karti main bachaav hun.

ragon mein rakt ab bahta nahin
jo bujh chuka vo main alaav hun.

zakhmi hui khud ki khata se
ro-ro kar bharti main ghaav hun.

'shab' ne to kabhi diya nahin
khud ko hi deti main tanaav hun.

- Jenny Shabnam (18. 06. 2010)

_____________________________________