Friday, October 30, 2009

93. नज़्म तुम्हारी बनते हैं... / nazm tumhaari bante hain...

नज़्म तुम्हारी बनते हैं...

*******

चलो ऐसा कुछ करते हैं
एक दर्द अपना रोज़ कहते हैं,
तुम सुनते जाना मेरा अफ़साना
एक नज़्म तुम्हारी हम रोज़ बनते हैं !

फूल खिलेंगे नज़्मों के
दर्द की दास्ताँ जब पूरी होगी,
समेट लेना नज्मों का हर गुच्छा
मेरे दर्द की निशानी है उन फूलों में !

ऐसा कुछ करना तुम
रूह छोड़ जाए मुझको जब,
अपनी नज़्मों का एक गुलदस्ता
रोज़ मेरी मज़ार पे चढ़ा देना सनम !

- जेन्नी शबनम (अक्टूबर 30, 2009)

__________________________________

nazm tumhaari bante hain...

*******

chalo aisa kuchh karte hain
ek dard apna roz sunaate hain,
tum sunte jaanaa mera afsaanaa
ek nazm tumhaaree hum roz bante hain.

phool khilenge nazmon ke
dard kee daastaan jab poori hogi,
samet lenaa nazm ka har guchchha
mere dard kee nishaanee hai un phoolon mein.

aisa kuchh karna tum
ruh chhod jaaye mujhko jab,
apnee nazmon ka ek guldasta
roz meree mazaar pe chadhaa denaa sanam.

- jenny shabnam (october 30, 2009)

________________________________________________