Monday, April 19, 2010

136. 'मनोज-बबली हत्याकांड' - ज़िबह... / 'manoj-babli hatyaakand' - zibah...

['मनोज-बबली हत्याकांड' में करनाल अदालत द्वारा (31. 3. 2010) ऐतिहासिक फैसला (33 महीना, 41 गवाह, 76 पेशी के बाद) - 5 अपराधी को सज़ा-ए-मौत]

बबली-मनोज की पीड़ा... उनकी ज़ुबानी...
.............................................................

'मनोज-बबली हत्याकांड' - ज़िबह...

*******

मैं अपनी माँ की लाड़ली
वो अपनी माँ का राज दुलारा,
एक सुन्दर दुनिया थी हमने बसाई
मात्र प्रेम ही था एक हमारा सहारा!

किसी का जहां कब, हम थे छीने
प्रेम की दुनिया में बस, हम थे सिमटे,
पंचायती हुक्म से बेबस, हम थे हारे
जाने कहाँ-कहाँ फिरते, हम थे छुपते!

भाई, चाचा, मामा ने हमारा क़त्ल किया
सगे थे मगर, तुगलकी फैसला कर दिया,
क्या इतना बड़ा गुनाह था, हमने किया
जो जिस्म की हदों से, हमें निकाल दिया?

जिस्म की सारी पाबंदियाँ, ख़त्म हुई
जिस्म मिट गए मगर, रूह एक हुई,
हर तालिबानी फैसले से, बेफ़िक्री हुई
रूहों के इश्क की कहानी, अब शुरू हुई!

इस जहां में, न तो कोई मज़हब है न जाति
न पंचायत या परंपरा के नुमायंदे तालिबानी,
जिस्म में न रहे मगर, अब नहीं हम फ़रियादी
दो रूहों का सफ़र है ये, और ये जहां है रूमानी!

हम तो मिट गए, जाने अभी और कितने मिटेंगे
हज़ारों बलि के बाद भी, क्या इनकी सोच बदलेंगे,
ओ प्रेमियों ! इस जहां से रोज़, तुमको हम देखेंगे
जुल्म के आगे न झुकना, प्रेम के दिन कभी तो फिरेंगे!

- जेन्नी शबनम (1. 4. 2010)

_______________________________________________________


['manoj-babli hatyaakand' mein karnal adaalat dwara (31.03.2010) aetihaasik faisala (33 mahina, 41 gawah, 76 peshi ke bad) - 5 aparaadhi ko saza-ae-maut]

babli-manoj ki peeda... unki zubaani...
.............................................................

'Manoj-Babli hatyaakand' - Zibah...

*******

main apani maa ki laadli
wo apni maa ka raaj dulaara,
ek sundar duniya thi hamne basaai
maatrr prem hi tha ek hamaara sahaara !

kisi ka jahaan kab, hum they chhine
prem ki duniya mein bas, hum they simte,
panchaayati hukm se bebas, hum they haare
jaane kahaan-kahaan firte, hum they chhupte !

bhaai, chaacha, maama ne hamaara qatl kiya
sage they magar, tugalaki faisla kar diya,
kya itna bada gunaah tha, hamne kiya
jo jism ki hadon se, hamein nikaal diya ?

jism ki saari paabandiyan, khatm hui
jism mit gaye magar, ruh ek hui,
har taalibani faisle se, befikri hui
roohon ke ishq ki kahaani, ab shuru hui !

is jahaan mein, na to koi mazhab hai na jaati
na panchaayat ya parampara ke numaayande taalibaani,
jism mein na rahe magar, ab nahin hum fariyaadi
do roohon ka safar hai ye, aur ye jahaan hai rumaani !

hum to mit gaye, jaane abhi aur kitne mitenge
hazaaron bali ke baad bhi, kya inki soch badalenge ?
o premiyon ! is jahaan se roz, tumko hum dekhenge
julm ke aage na jhukna, prem ke din kabhi to firenge !

- Jenny Shabnam (1. 4. 2010)

___________________________________________________