Sunday, January 10, 2010

113. याद तुम्हें ज़रा नहीं / yaad tumhein zaraa nahin

याद तुम्हें ज़रा नहीं

*******

एक शाम हो सिर्फ मेरी, चाह है कोई ख़ता नहीं
इश्क की कहानी तुमने कही, याद तुम्हें ज़रा नहीं । 

अमावास का दीप सही, पर बताए कैसे दिशा मेरी
दूर है एक चाँद खिला, पर ध्रुव तारा-सा जला नहीं ।    

खो आई कुछ अपना, जब टूटा था तुम्हारा वादा
विश्वास की डोर जो टूटी, फिर कुछ अब बचा नहीं । 

महज़ एक रात का नाता, उस सफ़र का वादा यही
हर तकाज़ा था तुम्हारा, मैंने किया कोई दगा नहीं । 

तुम्हारा प्यार ज़्यादा, या मेरी तकदीर कम पड़ी
रब की मर्ज़ी रब जाने, फैसला मेरा कभी रहा नहीं । 

दर्द देकर कहते हो, आ जाओ सनम है जीवन सूना
सब अख्तियार तुम ले बैठे, 'शब' ने कुछ कहा नहीं । 

- जेन्नी शबनम (जनवरी 10, 2010)

___________________________________________

yaad tumhein zaraa nahin

*******

ek shaam ho sirf meri, chaah hai koi khataa nahin
ishq ki kahani tumne kahi, yaad tumhe zaraa nahin.

amaawas ka deep sahi, par bataye kaise dishaa meri
door ek chaand khila, par dhruv taaraa-sa jala nahin.

kho aayee kuchh apna, jab toota thaa tumhara wada
wishwaas ki dor jo tooti, fir kuchh ab bachaa nahin.

mahaz ek raat ka nata, us safar ka wada yahi
har takaza thaa tumhaara, maine kiya koi dagaa nahin.

tumhara pyar jyaada, ya meri takdeer kam padee
rab ki marzi rab jaane, faisla mera kabhi rahaa nahin.

dard dekar kahte ho, aa jao sanam hai jiwan soona
sab akhtiyaar tum le baithey, 'shab' ne kuchh kahaa nahin.

- Jenny Shabnam (January 10, 2010)

__________________________________________________

112. सूरज को पा लूँ.../ sooraj ko paa loon...

सूरज को पा लूँ...

*******

चाँद को पाने की ख़्वाहिश
तो फिर भी है मुमकिन,
सूरज को चाहे कि पा लूँ
तो अंजाम जाने क्या हो । 
दूर जो है सूरज तो
जीवित हैं हम,
पास से जो हो
छूने की आस,
भस्म हो जाएँगे
पर मिलेगा न सूरज । 
तुम्हारी दूरी में है
हमारा जीवन,
फिर भी तुम्हें पाने को
क्यों तड़पता है मन ?
अपनी ताप
मुझमें बसा दो,
चुपके से अपनी किरणें
मुझतक पहुँचा दो,
अँधियारा फैले तो
पूछेगा जग तो
कहना
बादलों ने छुपा दिया था तुमको 

- जेन्नी शबनम (जनवरी 1, 2010)

_____________________________________

sooraj ko paa loon...

*******

chaand ko paane ki khwaahish
to fir bhi hai mumkin,
sooraj ko chaahe ki paa lun
to anjaam jaane kya ho.
door jo hai sooraj to
jiwit hain hum,
paas se jo ho
chhune ki aas,
bhasm ho jayenge
par milega na sooraj.
tumhaari doori mein hai
hamara jiwan,
phir bhi tumhe paane ko
kyon tadaptaa hai mann ?
apni taap
mujhmein basaa do,
chupke se apni kirnein
mujhtak pahunchaa do,
andhiyaaraa faile to
puchhega jag to
kahna
baadlon ne chhupa diya thaa tumko.

- Jenny Shabnam (January 1, 2010)

________________________________________