Thursday, December 31, 2009

111. ख़ुशबयानी कहो / khushbayaani kaho

ख़ुशबयानी कहो
[''नव वर्ष मंगलमय हो'']

*******

ख़ुशनुमा यादें, आज कोई पुरानी कहो
क्षितिज में हो उत्सव, बात रूहानी कहो । 

सतरंगी किरणों-सी, हो सबकी सुबह
दुनिया नई, सूरज की मेहरबानी कहो । 

तल्ख़ वक़्त का, ज़िक्र न करो सब से
बस गुज़रे हयात की, ख़ुशबयानी कहो । 

क्यों दिल में हो बसाते, कोई एक रब
हर मज़हब का सार, दिल-ज़ुबानी कहो । 

फ़िक्र फ़कत अपनी ज़िन्दगानी का क्यों
फ़क्र तो तब जब हर रूह, इंसानी कहो । 

दर्द-ए-हिज्र की दास्ताँ न कहो 'शब'
ख़याल ही सही, वस्ल की कहानी कहो । 

- जेन्नी शबनम (दिसम्बर 31, 2009)

_________________________________

khushbayaani kaho
[''nav varsh mangalmay ho'']

*******

khushnuma yaadein, aaj koi puraani kaho
kshitij mein ho utsav, baat ruhaani kaho.

satrangi kirnon-si ho, sabki subah
duniya nayee, suraj ki meharbaani kaho.

talkh waqt ka, jikrra na karo sab se
bas gujre hayaat ki, khushbayaani kaho.

kyon dil mein ho basaate, koi ek rab
har mazhab ka saar, dil-zubaani kaho.

fikrra fakat apni zindgaani ka kyun
fakrra to tab jab har rooh, insaani kaho.

dard-e-hizrr kee daastaan na kaho 'shab'
khayal hi sahi, wasl ki kahani kaho.

- Jenny Shabnam (December 31, 2009)

__________________________________________

Tuesday, December 29, 2009

110. तड़पाते क्यों हो / tadpaate kyon ho

तड़पाते क्यों हो

*******

बेइंतेहा इश्क मुझसे जतलाते क्यों हो
मेरी आशिक़ी, गैरों को बतलाते क्यों हो ?

अनसुलझे सवालों से घिरी है ज़िन्दगी
और सवालों से, मुझे उलझाते क्यों हो ?

बेहिसाब कुछ माँगा ही नहीं कभी मैंने
चाहत ज़रा सी देकर, तड़पाते क्यों हो ?

तुम भी चाहो मुझे, ये कब कहा तुमसे
यूँ बेमन इश्क, मुझसे फरमाते क्यों हो ?

तुम मुझमें बसे, चर्चा फरिश्तों ने किया
इश्क नेमत है, तुम ये झुठलाते क्यों हो ?

इबादत होता है, कोई तज़ुर्बा नहीं इश्क
मिलता बामुश्किल, दिल बहलाते क्यों हो ?

तुम्हारी सलामती की दुआ करती 'शब'
इश्क का सलीका, मुझे समझाते क्यों हो ?

- जेन्नी शबनम (दिसम्बर 28, 2009)
_________________________________

tadpaate kyon ho

*******

beintahaan ishq mujhse jatlaate kyon ho
meri aashiqi, gairon ko batlaate kyon ho ?

ansuljhe sawaalon se ghiri hai zindagi
aur sawaalon se, mujhe uljhaate kyon ho ?

behisaab kuchh maangaa hi nahin kabhi maine
chaahat zara see dekar, tadpaate kyon ho ?

tum bhi chaaho mujhe, ye kab kaha tumse
yun beman ishq, mujhse farmaate kyon ho ?

tum mujhmein base, charchaa farishton ne kiya
ishq nemat hai, tum ye jhuthlaate kyon  ho ?

ibaadat hota hai koi tazurbaa nahin ishq
milta baamushkil, dil bahlaate kyon ho ?

tumhaari salaamati ki dua karti 'shab'
ishq ka saleeka, mujhe samjhaate kyon ho ?

- Jenny Shabnam (December 28, 2009)

__________________________________________

Monday, December 21, 2009

109. क्यों मैं ही थी हारी.../ kyon main hi thee haari...

क्यों मैं ही थी हारी...

*******

सताता है वो पल, जब साँसे महक उठी थी कभी
हौसला तो टूट चूका, जाने अब हो किसकी बारी, 
सिसक-सिसक कर सपने रोते, क्यों देखे थे हमको
क्या कहूँ अब कौन है जीता, क्यों मैं ही थी हारी । 

टुकड़े-टुकड़े लफ्ज़ तुम्हारे, हो गये मन में शाया
करूँ क्या जतन बताओ, जीवन ने बहुत तड़पाया, 
मधुर-मधुर हवाओं ने, जब भी मुझे है सहलाया
तुम्हारी छुवन ने जैसे, हर बार मुझे है भरमाया । 

बवंडर जाने कहाँ से आया, उड़ गए सभी निशान
ख़्वाबों का सफ़र फिसल गया, ज्यों हो मुट्ठी का रेत, 
आओ कि न आओ, ओ मेरे मीत उम्मीद न दो
जीने की शर्त मेरी, तेरी कुछ यादें जो हैं अवशेष । 

- जेन्नी शबनम (दिसम्बर 19, 2009)

___________________________________________

kyon main hi thee haari...

*******

sataata hai wo pal, jab saanse mahak uthi thee kabhi
hausla to toot chuka, jaane ab ho kiski baari.
sisak sisak kar sapne rote, kyon dekhe they humko
kya kahun ab kaun hai jeeta, kyon main hi thee haari.

tukde-tukde lafz tumhare, ho gaye man mein shaayaa
karun kya jatan batao, jiwan ne bahut tadpaya.
madhur-madhur hawaaon ne, jab bhi mujhe hai sahlaaya
tumhaari chhuwan ne jaise, har baar mujhe hai bharmaaya.

bawandar jaane kahan se aaya, ud gaye sabhi nishaan
khwaabon ka safar fisal gaya, jyon ho muthhi ka ret.
aao ki na aao, o mere meet ummid na do
jine ki shart meri, teri kuchh yaadein jo hain awshesh.

- Jenny Shabnam (December 19, 2009)

_____________________________________________________

Saturday, December 19, 2009

108. दुआ मेरी अता कर... / dua meri ataa kar...

दुआ मेरी अता कर...

*******

अक्सर सोचती रही हूँ अपनी मात पर
क्यों हर दोस्त मुझको दगा दे जाता है,
इतनी ज़ालिम क्यों हो गई है ये दुनिया
क्यों दोस्त दुश्मनों सा घात दे जाता है । 

कौन बदल सका है कब अपना नसीब
ग़र ख़ुदा मिले भी तो अचरज क्या है,
किसी शबरी को मिलता नहीं अब राम
आह ! प्रेम की वो सीरत जाने क्या है । 

क़ीमत दे कर खरीद पाती ग़र कोई पल
जान दे दूँ कुछ और बेशकीमती नहीं है,
दे दे सुकून की एक साँस, मेरे अल्लाह
चाहे आख़िरी ही हो कोई ग़म नहीं है ।  

मालूम नहीं कब तक है जीना यूँ बेसबब
या रब ! मुक़र्रर अब तारीख आख़िरी कर,
'शब' आज़ार, रंज दुनिया का दूर हो कैसे
ऐ ख़ुदा ! फ़ना हो जाऊँ दुआ मेरी अता कर । 

______________________
आज़ार - दुखी
अता- प्रदान करना/ पुरस्कार देना
______________________

- जेन्नी शबनम (दिसम्बर 16, 2009)

_____________________________________

dua meri ataa kar...

*******

aksar sochti rahi hun apni maat par
kyon har dost mujhko dagaa de jata hai,
itni zaalim kyun ho gayee hai ye duniya
kyon dost dushmanon saa ghaat de jata hai.

kaun badal sakaa hai kab apna naseeb
gar khuda mile bhi to achraj kya hai,
kisi shabri ko milta nahin ab raam
aah ! prem kee wo seerat jaane kya hai.

keemat de kar khareed paati gar koi pal
jaan de dun kuchh aur beshkeemati nahin hai,
de de sukoon ki ek saans, mere allah
chaahe aakhiri hin ho koi gam nahin hai.

maaloom nahin kab tak hai jeena yun besabab
yaa rab ! mukarrar ab taareekh aakhiri kar,
'shab' aazaar, ranj duniya ka door ho kaise
ae khuda ! fana ho jaaun dua meri ataa kar.

________________________________
aazaar - dukhi
ataa - pradaan karna/ puraskaar dena
________________________________

- Jenny Shabnam (December16. 2009)

____________________________________________

Wednesday, December 16, 2009

107. क्यों दिख रही ज़िन्दगी.../ kyon dikh rahi zindagi...

क्यों दिख रही ज़िन्दगी...

*******

मेरे सफ़र की दास्तान न पूछ, ऐ हमदर्द
कम्बख्त ! हर बार ज़िन्दगी छूट जाती है,
पुरज़ोर जब भी पकड़ती हूँ, पाँव ज़मीन के
उफ्फ़ ! किस अदा से किनारा कर जाती है । 

शफ़क के उस पार, दिख रही कुछ रौशनी
एक दीये की लौ है, क्यों दिख रही ज़िन्दगी ?
कौन जला रहा, यूँ अपने दिल को शबोरोज़
मुझे पुकारा नहीं, क्यों बढ़ी जा रही ज़िन्दगी ? 

बस एक बार पलट कर आ भी जा, ऐ वक़्त
मुमकिन है कि मेरी आरज़ू, किसी को नहीं,
शायद हो कोई गुंजाइश, इन अँधेरों में 'शब'
कुछ चिरागों की ख्वाहिशें, बुझी भी तो नहीं । 

______________________
शबोरोज़ - रात-दिन/ लगातार
______________________

- जेन्नी शबनम (दिसम्बर 14, 2009)

_____________________________________________

kyon dikh rahi zindagi...

*******

mere safar ki daastaan na puchh, ae humdard
kambakht! har baar zindagi chhoot jaati hai,
purzor jab bhi pakadti hun, paanw zameen ke
uff! kis adaa se kinaara kar jaati hai.

shafaq ke us paar, dikh rahi kuchh raushani
ek diye kee lau hai, kyon dikh rahi zindagi ?
kaun jalaa rahaa, yun apne dil ko shaboroz
mujhe pukaara nahin, kyon badhi jaa rahi zindagi ?

bas ek baar palat kar aa bhi jaa, ae waqt
mumkin hai ki meri aarzoo, kisi ko nahin.
shaayad ho koi gunjaaish, in andheron mein 'shab'
kuchh chiraagon kee khwaahishein, bujhi bhi to nahin.

__________________________
shaboroz - raat-din/ lagaataar
___________________________

- Jenny Shabnam (December 14, 2009)

_____________________________________________________

Wednesday, December 9, 2009

106. मेरा वक़्त / तुम्हारा वक़्त... / mera waqt / tumhaara waqt...

मेरा वक़्त / तुम्हारा वक़्त...

*******

वक़्त की कमी जीना भूला देती है
वक़्त की कमी जीना भी सिखा देती है । 
देखो न,
पल भर में सब कुछ बदल जाता है
नहीं बदलता तो
कभी-कभी ठहरा हुआ वक़्त । 
अजीब बात है न ?
कभी वक़्त की तेज़ रफ़्तार
कभी शिथिल क्षत-विक्षत वक़्त । 

हाँ, तुम भी तो वक़्त के साथ बदलते रहे हो
कभी इतना ढ़ेर सारा वक़्त कि पूछते हो -
खाना खाया, दवा खाया, सुई लिया ?
आज की एक ताज़ा ख़बर सुनो न !
देश दुनिया के हालात पर गहन चर्चा करते -
अकाल, अशिक्षा, गरीबी, महँगाई, बेरोज़गारी,
सैनिकों और किसानों की आत्महत्या,
पड़ोसी देश की कूटनीति, देश की आतंरिक अव्यवस्था,
आतंकवाद, अलगाववाद, क्षेत्रीयतावाद, नक्सलवाद,
राजनितिक पार्टियों का तमाशा,
दहेज़-हत्या, भ्रूण-हत्या, बलात्कार,
धर्म पर हमारा अपना-अपना दृष्टिकोण । 
बचपन के किस्से, दोस्तों की गाथा,
बच्चों का भविष्य, रिश्तेदारों के स्वार्थपरक सम्बन्ध,
गुजरे वक़्त की खट्टी-मीठी यादें,
बहुत कुछ बाँटते कभी-कभी तुम । 

कभी इतना भी वक़्त नहीं कि पूछो -
मैं ज़िंदा भी हूँ । 
क्या मैं जिंदा हूँ ?
हाँ, शायद, ज़िंदा ही तो हूँ
क्योंकि मैं तुम्हारे वक़्त का इंतज़ार करती रहती हूँ
वक़्त की परेशानी सदा तुम्हारी है, मेरी नहीं । 

मैं तो वक़्त के साथ ठहरी हुई हूँ
जहाँ छोड़ जाते रुकी रहती हूँ
जितना कहते सुनती जाती हूँ
जितना पूछते बताती जाती हूँ
जो चाहते करती जाती हूँ । 
क्योंकि मेरे वक़्त की उपलब्धता तुम्हारे लिए महत्वपूर्ण नहीं
न ही मेरे वक़्त और मेरी बात की कोई अहमियत है तुम्हारे लिए । 
तुम्हारे पास, तुम्हारे साथ, तुम्हारे लिए आई हूँ
तुम्हारी सुविधा केलिए, तुम्हारा खाली वक़्त बाँटने
अपना वक़्त नहीं । 

- जेन्नी शबनम (दिसंबर 8, 2009)

________________________________________________________

mera waqt / tumhaara waqt...

*******

waqt ki kami jina bhoola deti hai,
waqt ki kami jeena bhi sikha deti hai.
dekho na
pal bhar mein sab kuchh badal jata hai
nahin badalta to
kabhi kabhi thahraa hua waqt.
ajeeb baat hai na ?
kabhi waqt ki tez raftaar
kabhi shithil kshat-vikshat waqt.

haan, tum bhi to waqt ke saath badalte rahe ho
kabhi itna dher saara waqt ki puchhte ho -
khaana khaaya, dawaa khaaya, sui liya ?
aaj ki ek taazaa khabar suno na !
desh duniya ke haalaat par gahan charchaa karte -
akaal, ashiksha, gareebi, mahangaai, berozgaari,
sainikon aur kisaano ki aatm-hatya,
padosi desh ki kootniti, desh ki aantarik avyawastha,
aatank-waad, algaaw-waad, kshetriyata-waad, naksal-waad,
raajnitik paartiyon ka tamasha,
dahej-hatya, bhrun-hatya, balatkaar,
dharm par hamara apna apna drishtikon.
bachpan ke kisse, doston ki gaatha,
bachchon ka bhawishya, rishtedaaron ke swaarthparak sambandh,
gujre waqt ki khatti-mithi yaaden,
bahut kuchh baantate kabhi-kabhi tum.

kabhi itna bhi waqt nahin ki puchho -
main zinda bhi hoon.
kya main zinda hoon ?
haan, shaayad, zinda hin to hoon
kyonki main tumhaare waqt ka intzaar karti rahti hun
waqt ki pareshaani sadaa tumhaari hai, meri nahi.

main to waqt ke sath thahri hui hoon
jahan chhod jate ruki rahti hoon
jitna kahte sunti jati hoon
jitna puchhte bataati jati hoon
jo chahte karti jati hoon.
kyonki mere waqt ki uplabdhta tumhare liye mahatwapurn nahin,
na hi mere waqt aur meri baat ki koi ahmiyat hai tumhare liye.
tumhaare paas, tumhaare saath, tumhaare liye aai hoon
tumhaari suwidha keliye, tumhara khaali waqt baantne
apnaa waqt nahin.

- Jenny Shabnam (December 8. 2009)

____________________________________________________________

Thursday, December 3, 2009

105. मेरा अल्लाह मेरा राम / mera allah mera ram

मेरा अल्लाह मेरा राम

*******

आंते सिकुड़ी भूख़ से, मासूम जानों की बढ़ती कतार
तुम कहते हो, हम हैं लाचार, देता अल्लाह देता राम !

दुनिया एक छोटी सी, हैं सबने किए टुकड़े कई हज़ार,
ख़ुदा को भी बाँटा, किसी का अल्लाह किसी का राम !

हो अनुरागी या चाहे बैरागी, गुहार लगाते दर्शन की
मन में ढूँढ़ो वहीं बैठा, तुम्हारा अल्लाह तुम्हारा राम !

जितनी ही नफ़रत पालोगे, और बहेगा खून का दरिया
वो है सबका पालनहारा, किसका अल्लाह किसका राम !

जाने कितने सहमे हम सब, रोज़ उठाते इतनी आफ़त
नया बवाल क्यों बढ़ाते, जिसका अल्लाह जिसका राम !

कर गुनाह हरदम भटकते, वास्ते माफ़ी के दैरो-हरम
होती नहीं माफ़ी जितना जपो, मेरा अल्लाह मेरा राम !

फूलों की खुशबू में पाओ, या काँटों की चुभन में देखो
है एक वो मगर सर्वव्यापी, सबका अल्लाह सबका राम !

तुम भटको मंदिर-मस्ज़िद, मिलेगा न कोई तारणहार
'शब' से पूछो मन में बसा, उसका अल्लाह उसका राम !

- जेन्नी शबनम (नवंबर 26, 2009)

______________________________________________

mera allah mera ram

*******

aante sikudi bhookh se, maasoom jaanon ki badhti kataar
tum kahte ho, hum hain laachaar, deta allah deta ram.

duniya ek chhoti see, hain sabne kiye tukde kai hazaar
khuda ko bhi baanta, kisi ka allah kisi ka ram.

ho anuraagi ya chaahe bairaagi, guhaar lagaate darshan ki
man mein dhundho wahin baitha, tumhara allah tumhara ram.

jitni hin nafrat paaloge, aur bahega khoon ka dariya
wo hai sabka paalanhaara, kiska allah kiska ram.

jaane kitne sahme hum sab, roz uthaate itni aafat
nayaa bawaal kyun badhaate, jiska allah jiska ram.

kar gunaah hardam bhatakte, waaste maafi ke dairo-haram
hoti nahin maafi jitna japo, mera allah mera ram.

phoolon ki khushboo mein paao, ya kaanton ki chubhan mein dekho
hai ek wo magar sarwavyaapi, sabka allah sabka ram.

tum bhatko mandir-maszid, milega na koi taaranhaar
'shab' se puchho man mein basaa, uska allah uska ram.

- Jenny Shabnam (November 26, 2009)

_____________________________________________________________

Tuesday, December 1, 2009

104. राह मुकम्मल करनी है / raah mukammal karni hai

राह मुकम्मल करनी है

*******

साथी छूटे कि राह भूले, ये ज़िन्दगी तो चलनी है
मन हारे कि तन हारे, हर राह मुकम्मल करनी है 

आँखों के सागर में डूबी, प्यासी रूह भटकती मेरी
उससे दूर जिएँ हम कैसे, मगर साँस तो भरनी है 

ज़ख्म दे मरहम लगाता, अजब है उसकी आशनाई
हँस-हँस कर सह लें मगर, दिल मेरा तो छलनी है 

ऐ ख़ुदा उसे बख्श दे, कमी नहीं तेरी हुकूमत में
दरकार तो हमें बुला, ज़िन्दगी यूँ भी कब कटनी है 

वादा किया था उसने, हर जन्म में साथ निभाने का
तोड़ा वादा इस जीवन का, अब ख़्वाहिश भी मरनी है 

लेंगे साथ जन्म दोबारा, फिर दूर कभी न होंगे हम,
इस उम्र की साध सभी, मन में जतन से रखनी है 

तन्हाई से घबड़ा कर, पनाह माँगती 'शब' ख़ुदा से
शब की फितरत, हर शब को तन्हा-तन्हा जलनी है 

- जेन्नी शबनम (दिसंबर 1, 2009)

______________________________________________

raah mukammal karni hai

*******

saathi chhute ki raah bhoole, ye zindagi to chalni hai
man haare ki tan haare, har raah mukammal karni hai.

aankhon ke saagar mein doobi, pyaasi rooh bhatakti meri
usase door jiyen hum kaise, magar saans to bharni hai.

zakham de marham lagaata, ajab hai uski aashnaai
huns huns kar sah lein magar, dil mera to chhalni hai.

ae khuda use bakhsh de, kami nahin teri hukumat mein
darkaar to hamein bulaa, zindagi yun bhi kab katni hai.

waadaa kiya thaa usne, har janm mein saath nibhaane ka
todaa waadaa is jiwan ka, ab khwaahish bhi marni hai.

lenge saath janm dobaaraa, fir door kabhi na honge hum
is umrr ki saadh sabhi, man mein jatan se rakhni hai.

tanhaai se ghabra kar, panaah maangti 'shab' khuda se
shab ki fitrat, har shab ko tanha-tanha jalni hai.

 - Jenny Shabnam (December 1, 2009)

___________________________________________________

Monday, November 30, 2009

103. रूमानी वादियों में सफ़ेद बादल... / rumaani waadiyon mein safed baadal...

रूमानी वादियों में सफ़ेद बादल...

*******

मन की कलियाँ कुछ कच्ची हुई
सपनों की गलियाँ कुछ लम्बी हुई,
एक फ़रिश्ता मुझे बादल तक लाया
पुष्पक-विमान से आसमान दिखाया,
जैसे देव-लोक का कोई देव
मेरे सपनों का वो मीत 

हाथ बढ़ाया थामने को
साथ तफ़रीह करने को,
जाने ये कैसा संकोच
बावरा मन हुआ मदहोश,
होठों पर तिरी मुस्कान
काँप उठे सभी जज़्बात 

मरमरी सफ़ेद नर्म मुलायम
चहुँ ओर फैले शबनमी एहसास,
परी-लोक सा अति मनभावन
स्वर्ग-लोक सा सुन्दर पावन,
क्या सच में है ये जन्नत
या बस मेरा एक ख़्वाब 

दिखा वहाँ न कोई फ़रिश्ता
न मदिरा की बहती धारा,
न दूध की नदी विहंगम
न अप्सराओं का नृत्य मोहक,
दिखा सफ़ेद बादलों का दृश्य मनोरम
और बस हम दोनों का प्रेम-आलिंगन 

मेरे सपनों का देव-लोक
आसमान का सफ़ेद बादल,
और हमारा सफ़र सुहाना
जैसे परी-लोक की एक कथा,
अधसोई रात का एक स्वपन
रूमानी वादियों में सफ़ेद बादल 

- जेन्नी शबनम (नवंबर 27, 2009)

_________________________________________

rumaani waadiyon mein safed baadal...

*******

mann kee kaliyan kuchh kachchi hui
sapnon kee galiyan kuchh lambi hui,
ek farishtaa mujhe baadal tak laayaa
pushpak-vimaan se aasmaan dikhaya,
jaise dev-lok ka koi dev
mere sapnon ka wo meet.

haath badhaaya thaamne ko
saath tafreeh karne ko,
jaane ye kaisa sankoch
baawaraa mann hua madhosh,
hothon par tiree muskaan
kaanp uthe sabhi jazbaat.

marmaree safed narm mulaayam
chahun oar faile shabnami ehsaas,
paree-lok sa ati manbhaawan
swarg-lok sa sundar paawan,
kya sach mein hai ye jannat
ya bas mera ek khwaab.

dikha wahaan na koi farishta,
na madira kee bahti dhaaraa,
na doodh kee nadee vihangam,
na apsaraon ka nritya mohak,
dikha safed baadlon ka drishya manoram,
aur bas hum dono ka prem-aalingan.

mere sapnon ka dev-lok,
aasmaan ka safed baadal,
aur hamara safar suhaana,
jaise paree-lok kee ek kathaa,
adhsoi raat ka ek swapn,
roomaani waadiyon mein safed baadal.

- jenny shabnam (27. 11. 2009)

________________________________________

Wednesday, November 25, 2009

102. मुझे जीना नहीं आता / mujhe jeena nahin aataa

मुझे जीना नहीं आता

******* 
   
सच, जीना नहीं आता, मुझे बसना नहीं आता    
दुनिया के रिवाजों पे, मुझे चलना नहीं आता !

हँस नहीं पाती, ज़माने के दर्द पर अब भी          
सच है, बेरहमी से, मुझे हँसना नहीं आता !          

शोहरत की चाह, न ऐसी ख़्वाहिश ही है कोई
ज़िन्दगी करना बसर, मुझे इतना नहीं आता !  

छलक जाते हैं आँसू, किसी के बिछुड़ने पर
सच है, रोना आता, मुझे मरना नहीं आता !

यूँ हज़ारों रास्ते हैं, मंज़िल तक पहुँचने के
यक़ीनन कहीं भी, मुझे बढ़ना नहीं आता ।  

अपने दे जाए दगा, तो भी सह लूँ मगर
बेवफ़ाई दोस्तों से, मुझे करना नहीं आता 

क्या-क्या ज़ब्त करूँ अब, अपने सीने में    
सच है, हर ग़म, मुझे सहना नहीं आता ।     

क्यों नहीं देखती आईना, सब पूछते यहाँ
सच है, ख़ुद से इश्क, मुझे करना नहीं आता ।     

एक तस्वीर माँगी थी, तक़दीर नहीं 'शब'
या ख़ुदा ! तुमसे, मुझे कहना नहीं आता ! 

- जेन्नी शबनम (नवंबर 25, 2009)

_____________________________________

mujhe jeena nahin aataa

*******

sach, jeena nahin aataa, mujhe basnaa nahin aataa
duniya ke riwaazon pe, mujhe chalna nahin aataa.

hans nahin paati, zamaane ke dard par ab bhi
sach hai, berahmi se, mujhe hansnaa nahin aataa.

shohrat ki chaah, na aisi khwaahish hi hai koi
zindgi karnaa basar, mujhe itnaa nahin aataa.

chhalak jaate hain aansoo, kisi ke bichhudne par
sach hai, ronaa aataa, mujhe marnaa nahin aataa.

yun hazaaron raaste hain, manzil tak pahunchne ke
yakinan kaheen bhi, mujhe badhnaa nahin aataa.

apne de jaaye dagaa, to bhi sah loonn magar
bewafaai doston se, mujhe karna nahin aataa.

kya-kya zabt karoon ab, apne seene mein
sach hai, har gham, mujhe sahnaa nahin aataa.

kyun nahin dekhti aainaa, sab puchhte yahaan
sach hai, khud se ishq, mujhe karnaa nahin aataa.

ek tasweer maangi thee, takdir nahin 'shab'
yaa khudaa ! tumse, mujhe kahnaa nahin aataa.

- Jenny Shabnam (November 25, 2009)

________________________________________________

Monday, November 23, 2009

101. वदीयत दर्द का... / wadeeyat dard ka...

वदीयत दर्द का...

*******

रूह लिपटी रही जिस्म से ऐसे
दो अजनबी मिल रहे हों जैसे,
पता पूछा मेरे जीस्त से उसने
और जुदा हो गया सज़दा करके 

वदीयत दर्द का उसने जो दिया
ज़ालिम रात रोज़ तड़पाती है,
सोचा था कि ख़त लिखूँ उसको
उफ्फ़! पता भी तो न दिया उसने 

नादाँ दिल जुर्मे-वफ़ा का अंजाम देख
लरजते लम्स के कुछ लम्हे साथ मेरे,
सूफ़ियाना और फ़ल्सफ़ियाना लफ्ज़
काफ़ी नहीं कि ज़ेहन भूल जाए उसे 

_____________________

वदीयत - सौंपी हुई विरासत
जुर्मे-वफ़ा - प्रेम-अपराध
लरजना - कांपना
लम्स - स्पर्श
सूफ़ियाना - आध्यात्मिक
फ़ल्सफ़ियाना - दार्शनिक
____________________

- जेन्नी शबनम (नवम्बर 22, 2009)

______________________________

wadeeyat dard ka...

*******

rooh lipti rahi jism se aise
do ajnabi mil rahe hon jaise,
pata puchha mere jeest se usney
aur judaa ho गया sazda karke !

wadeeyat dard ka usne jo diya
zaalim raat roz tadpaati hai,
socha tha ki khat likhun usko
uff... pata bhi to na diya usney !

naadaan dil zurme-wafaa ka anjaam dekh
larajte lams ke kuchh lamhe saath mere,
soofiyana aur phalsphiyana lafz
kaafi nahin ki zehan bhool jaye usey !

__________________________

wadeeyat - sanupi hui viraasat
zurme-wafaa - prem apraadh
larajna - kaanpnaa
lams - sparsh
soofiyana - aadhyaatmik
phalsiphiyana -daarshanik
___________________________

- jenny shabnam (november 22, 2009)

______________________________________

Saturday, November 21, 2009

100. मैं... / main...

मैं...

*******

मैं, मैं, सिर्फ मैं,
सर्वत्र मैं...!

एक रूह मैं, एक इंसान मैं, एक हैवान मैं,
एक ख्व़ाब मैं, एक जज़्बात मैं, एक ख्व़ाबगाह मैं,
अपना मकान मैं, अपना संसार मैं, अपना श्मशान भी मैं 

कैदी मैं, कैदखाना मैं, प्रहरी भी मैं,
वकील मैं, न्यायाधीश मैं, अदालत भी मैं,
जल्लाद मैं, फांसी का फंदा मैं, मौत की सज़ायाफ़्ता मुज़रिम भी मैं 

कफ़न मैं, कब्र मैं, मज़ार भी मैं,
चुनने वाले हाथ मैं, दफ़न होने वाला बदन भी मैं,
अपनी चिता पर रोने वाली मैं, अपनी मृत्यु का जश्न मनाने वाली भी मैं 

बंदगी में उठे हाथ मैं, सज़दे में झुका सिर भी मैं,
खिलते फूल मैं, चुभते काँटे भी मैं,
इन्द्रधनुषी रंग मैं, लहू की लाली भी मैं,
ओस की नमी मैं, दहकती चिंगारी भी मैं,
रात का अँधियारा मैं, दिन का उजाला भी मैं,
सुख की तृप्ति मैं, दुःख की असह्य व्यथा भी मैं,
वर्तमान मैं, भविष्य भी मैं,
धरा मैं, गगन भी मैं,
आशा मैं, निराशा भी मैं,
स्वर्ग मैं, नरक भी मैं,
सार मैं, असार भी मैं,
आदि मैं, अंत भी मैं,
जीवन मैं, मृत्यु भी मैं,
इस पार मैं, उस पार भी मैं,
प्रेम मैं, द्वेष भी मैं,
ईश की संतान मैं, ईश्वर भी मैं,
आत्मा मैं, परमात्मा भी मैं 

मैं, मैं, सिर्फ मैं,
सर्वत्र मैं...!

- जेन्नी शबनम (दिसम्बर 31, 1990)

________________________________

main...

*******

main, main, sirf main,
sarwatrra main...!

ek rooh main, ek insaan main, ek haiwaan main,
ek khwaab main, ek jazbaat main, ek khwaabgaah main,
apna makaan main, apna sansaar main, apna shmashaan bhi main.

kaidi main, kaidkhana main, prahari bhi main,
vakeel main, nyaayaadheesh main, adaalat bhi main,
jallad main, faansi ka fandaa main, maut ki sazaayaaftaa muzrim bhi main.

kafan main, kabrra main, mazaar bhi main,
chunne wale haath main, dafan hone wala badan bhi main,
apni chita par rone waali main, apni mrityu ka jashn manane wali bhi main.

bandagi mein uthey haath main, sazde mein jhuka sir bhi main,
khilte phool main, chubhte kaante bhi main,
indradhanushi rang main, lahoo ki laali bhi main,
oas ki nami main, dahakti chingaari bhi main,
raat ka andhiyara main, din ka ujaala bhi main,
sukh ki tripti main, dukh ki ashaya vyathaa bhi main,
wartmaan main, bhawisya bhi main,
dharaa main, gagan bhi main,
aasha main, niraashaa bhi main,
swarg main, narak bhi main,
saar main, asaar bhi main,
aadi main, ant bhi main,
jiwan main, mrityu bhi main,
is paar main, us paar bhi main,
prem main, dwesh bhi main,
eesh kee santaan main, ishwar bhi main,
aatmaa main, param-aatmaa bhi main.

main, main, sirf main,
sarwatrra main...!

- jenny shabnam (december 31, 1990)

_________________________________________________

Thursday, November 19, 2009

99. वक़्त को इतनी बेसब्री क्यों... / waqt ko itni besabri kyon...

वक़्त को इतनी बेसब्री क्यों...
(अपने जन्मदिन पर)

*******

कुछ लम्हे चुरा कर दे दो न
ठहर ज़रा हम भी जी लें न,
जब देखो छीन जाता हमसे
वक़्त की इतनी सख्ती क्यों?

अब तो सहर की आस नहीं
अशक्त तन-मन में जान नहीं,
कब किस ओर निकल जाए
वक़्त की इतनी आवारगी क्यों?

चाँदनी ने रंग बिखेरे गेसुओं पर
इक लकीर सी उभरी माथे पर,
दिन गुजरा भी नहीं रात हुई
वक़्त को इतनी जल्दी क्यों?

'शब' को एक सौगात दे दो
मोहलत की एक रात दे दो,
वक़्त को ज़रा समझाओ न
वक़्त को इतनी बेसब्री क्यों?

- जेन्नी शबनम (नवम्बर 16, 2009)

___________________________________

waqt ko itni besabri kyon...
(apne janmdin par)

*******

kuchh lamhe churaa kar de do na
thahar zaraa hum bhi ji lein na,
jab dekho chheen jaata humse
waqt ki itni sakhti kyon ?

ab to sahar ki aas nahin
ashakt tan-man mein jaan nahin,
kab kis ore nikal jaaye
waqt ki itni aawargi kyon ?

chaandni ne rang bikhere gesuon par
ik lakeer see ubhari maathey par,
din gujraa bhi nahin raat hui
waqt ko itni jaldi kyon ?

'shab' ko ek saugaat de do
mohlat ki ek raat de do,
waqt ko zara samjhaao na
waqt ko itni besabri kyon ?

- jenny shabnam (november 16, 2009)

***************************************************************

Sunday, November 15, 2009

98. वो अमरुद का पेड़... / Wo Amrud (Guava) ka Ped...

वो अमरुद का पेड़...

*******

घर के सामने अमरुद का पेड़
आज भी वहीं पर स्थित है,
बिछुड़े हुए अपनों की आस लगाए
घर को सूनी आँखों से निहारता,
वक़्त के कुठाराघात से छलनी
नितांत निःशब्द गाँव का मूक साक्षी,
विषमताओं में ख़ुद को सहेजता
बीते लम्हों की याद में अकेला जीता 

उस पेड़ की घनी मज़बूत डालियों पर चढ़कर
कच्चे अमरुद खाती थी, एक नन्ही लड़की,
ढूँढ़ रही हूँ कब से उसे
न जाने कहाँ है अब वो?
पूछती हूँ उस वृद्ध पेड़ से
उसका पता
या उसकी कोई निशानी
जो संजोया हो उसने,
आज पेड़ भी असमर्थ है
उस लड़की की पहचान बताने में,
नियति के खेल का दर्शक यह पेड़
झिझकता है शायद बताने में
कि वो कौन थी
या सभी अपनों की तरह
वो भी भूल गया है उसे 

वो लड़की खो गई है कहीं
बचपन भी गुम हो गया था कभी,
उम्र से बहुत पहले वक़्त ने उसे
बड़ा बना दिया था कभी,
कहीं कोई निशानी नहीं उसकी
अब कहाँ ढूँढूँ उस नन्ही लड़की को?

सामने खड़ी है आज वो लड़की
कोई पहचानता नहीं उसे,
वक़्त के साथ बदलती रफ़्तार ने
सदा के लिए खो दिया है उसका वज़ूद,
सभी का इंकार तो सहज है
पर उस पेड़ ने भी न पहचाना
जिसकी डालियों पर...

वो प्यारा अमरुद का पेड़
आज भी राह जोहता है
उस नन्हीं लड़की को खोजता है
जिसका सब खो चूका है
नाम, पहचान, निशान सब मिट चूका है 

उस पेड़ को कैसे याद दिलाए कि
वो लड़की गुम है ज़माने में
पर विस्मृत नहीं कर सकी
अब तक उस अमरुद के पेड़ को,
वो नन्ही लड़की वही है
जो उसकी डालियों पर...!

- जेन्नी शबनम (नवम्बर 14, 2009)

____________________________________

Wo Amrud (Guava) ka Ped...

*******

ghar ke saamne amrud ka ped
aaj bhi wahin par sthit hai,
bichhude hue apnon ki aas lagaaye
ghar ko sooni aankhon se nihaarta,
waqt ke kuthaaraaghaat se chhalni
nitaant nihshabd gaanv ka mook saakshi,
vishamtaaon mein khud ko sahejta
beete lamhon kee yaad mein akela jita.

us ped ki ghani mazboot daaliyon par chadhkar
kachche amrood khaati thee, ek nanhi ladki,
dhundh rahee hun kab se usey
na jaane kahan hai ab wo?
puchhti hun us vriddh ped se
uska pata
ya koi uski nishaani
jo sanjoya ho usne,
aaj ped bhi asamarth hai
us ladki ki pahchaan bataane mein,
niyati ke khel ka darshak yah ped
jhijhakta hai shayad bataane mein
ki wo kaun thee
ya sabhi apno ki tarah
wo bhi bhool gaya hai usey.

wo ladki kho gai hai kahin
bachpan bhi gum ho gayaa thaa kabhi,
umra se bahut pahle waqt ne usey
bada bana diya tha kabhi,
kahin koi nishaani nahin uski
ab kahan dhoondhoon us nanhi ladki ko?

saamne khadi hai aaj wo ladki
koi pahchaanta nahin usey,
waqt ke saath badalti raftaar ne
sadaa keliye kho diya hai uska wazood,
sabhi ka inkaar to sahaj hai
par us ped ne bhi na pahchaana
jiski daaliyon par...

wo pyara amrood ka ped
aaj bhi raah johta hai
us nanhi ladki ko khojta hai
jiska sab kho chuka hai
naam, pahchaan, nishaan sab mit chuka hai.

us ped ko kaise yaad dilaaye ki
wo ladki gum hai zamaane mein
par vismrit nahin kar saki
ab tak us amrud ke ped ko,
wo nanhi ladki wahi hai
jo uski daaliyon par...!

- Jenny Shabnam (November 14, 2009)

___________________________________________

Thursday, November 12, 2009

97. इंसानियत मरती है / Insaaniyat martee hai

इंसानियत मरती है

*******

गुनहगारों को आजकल राहत मिलती है
बेगुनाही सज़ा और ज़िल्लत से घिरती है 

कैसे हो फ़ैसला किसी की मासूमियत का
आजकल मासूमियत सरे-आम बिकती है 

इंसानी मनसूबे की परख मुमकिन नहीं
हर चेहरे पे हज़ार पर्द-पोशी दिखती है 

दुनिया के दश्त में हर शख्स है भटकता
सबकी तकदीर में ज़मीन कहाँ टिकती है 

मतलब-परस्ती भर है सियासी बाज़ीगरी
टुकड़ों में बँटती मादरे-वतन सिसकती है 

अजब इत्तेफ़ाक एक राष्ट्र में महाराष्ट्र बसा
तंग दिल इतना जहाँ राष्ट्र-भाषा पिटती है 

दहशतगर्दों ने ख़ुदा को न बख्शा 'शब'
बज़्मे-ऐश देखो जब इंसानियत मिटती है 

____________________

पर्द-पोशी - दोष को छुपाना
दश्त - जंगल
बज़्मे-ऐश - ख़ुशी का जलसा
____________________

-जेन्नी शबनम (अगस्त 15, 2009)

_________________________________________

Insaaniyat martee hai...

*******

gunahgaaron ko aajkal raahat miltee hai
begunaahi saza aur zillat se ghirtee hai.

kaise ho faisla kisi ki maasoomiyat ka
aajkal maasoomiyat sare-aam biktee hai.

insaani mansoobe kee parakh mumkin nahin
har chehre pe hazaar pard-poshi dikhtee hai.

duniya ke dasht mein har shakhs hai bhataktaa
sab kee takdeer mein zameen kahaan tikatee hai.

matlab-parasti bhar hai siyaasi baazigari
tukadon mein bantatee maadare-watan sisakatee hai.

ajab ittefaaq ek raashtra mein maharashtra basaa
tang dil itnaa jahaan rashtra-bhasha pita.tee hai.

dahshatgardon nein khuda ko na bakhsha 'shab'
bazme-aish dekho jab insaaniyat mitatee hai.

__________________________

pard-poshi - dosh ko chhupana
dasht - jangal
bazme-aish - khushi ka jalsaa

___________________________

- Jenny Shabnam (August 15, 2009)

********************************************************

Wednesday, November 11, 2009

96. नाम तुम्हारा कभी लिया नहीं / naam tumhara kabhi liya nahin

नाम तुम्हारा कभी लिया नहीं

*******

ऊँगली के पोरों से मन में, नाम कभी लिखा नहीं
शून्य में ठहर न जाए, नाम तुम्हारा कभी लिया नहीं 

आस्था का दीप न जलता, न मन कोई राग बुनता
मन की पीर प्रतिमा क्या जाने, उसने कभी जिया नहीं 

कविताओं के छंद में, क्षण-क्षण प्रतीक्षित मन में
भ्रम देता स्वप्न सदा, पर जाने क्यों कभी टिका नहीं 

व्यथा की घोर घटा, उस पर कर्त्तव्य का ऋण बड़ा
विह्वल मन को ठौर तनिक, तुमने भी कभी दिया नहीं 

बूँद-बूँद स्वयं को पीकर, 'शब' की होती रात नम
राह निहारती नमी पी ले, ऐसा कोई कभी मिला नहीं 

- जेन्नी शबनम (नवम्बर 9, 2009)

________________________________________________

naam tumhara kabhi liya nahin

*******

oongli ke poron se, man mein naam kabhi likha nahin
shoonya mein thahar na jaaye, naam tumhara kabhi liya nahin.

aastha kaa deep na jalta, na man koi raag bunta
man kee peer pratima kya jaane, usne kabhi jiya nahin.

kavitaaon ke chhand mein, kshan-kshan prateekshit man mein
bhram deta swapn sada, par jaane kyun kabhi tika nahin.

vyatha kee ghor ghata, us par kartavya ka rin bada
vihwal man ko thaur tanik, tumne bhi kabhi diya nahin.

boond boond swayam ko pikar, 'shab' kee hoti raat nam
raah nihaarti namee pee le, aisa koi kabhi mila nahin.

- Jenny Shabnam (November 9, 2009)

___________________________________________________

95. वर्जित फल... / varjit phal...

वर्जित फल...

*******

ख़ुदा का वर्जित फल इश्क था
जो कभी दो प्राणी ने
उत्सुकता में खाया था,
वो अनजानी गलती उनकी
इश्क की बुनियाद थी
जिससे मानव का पेड़ पनपता गया 

बीज तो इश्क का था
पर पेड़ जाने कैसे
इश्क से ही महरूम हो गया,
एक ही बीज से लाखों नस्ल उगे
हर नस्ल को पैदाइश याद रहा
बस मोहब्बत करना भूल गया 

इश्क के पेड़ में
अमन-चैन का फल नहीं पनपता,
इश्क की डाली में
मोहब्बत का फूल नहीं खिलता 

या खुदा!
ये कैसा वर्जित फल था तुम्हारे बाग़ में
जिसका रंग इश्क का था
पर उसकी तासीर रंजिश में डूबे लहू की थी 

अगर ऐसा फल था तो तुमने लगाया क्यों?
या तो दो जिज्ञासु मानव न उपजाते
या ऐसे फल का बाग़ न लगाते 

- जेन्नी शबनम (अप्रैल 2009)

____________________________________

varjit phal...

*******

khudaa ka varjit phal ishq thaa
jo kabhi do praani ne
utsuktaa mein khaayaa thaa,
wo anjaani galti unki
ishq kee buniyaad thee
jisase maanaw ka ped panaptaa gayaa.

beej to ishq ka thaa
par ped jaane kaise
ishq se hin mahroom ho gaya,
ek hin beej se laakhon nasl ugey
har nasl ko paidaaish yaad raha
bas mohabbat karna bhool gaya.

ishq ke ped mein
aman-chain ka phal nahin panaptaa,
ishq kee daali mein
mohabbat ka phool nahin khiltaa.

yaa khudaa!
ye kaisa varjit phal thaa tumhaare baag mein
jiskaa rang ishq ka thaa
par uski taaseer ranjish mein doobe lahoo kee thee.

agar aisa phal thaa to tumne lagaya kyon?
yaa to do jigyaasu maanaw na upjaate
yaa aise phal ka baag na lagaate.

- Jenny Shabnam (April 2009)

________________________________________________

Sunday, November 8, 2009

94. तुम कहाँ गए / tum kahaan gaye

तुम कहाँ गए

*******

एक साँझ घिर आयी है मन पर
मेरी सुबह लेकर तुम कहाँ गए !

एक फूल खिला एक दीप जला
सब बुझा कर तुम कहाँ गए !

बीता रात का पहर भोर न हुई
सूरज छुपा कर तुम कहाँ गए !

चुभती है अब अपनी ही परछाईं
रौशनी दिखा कर तुम कहाँ गए !

तुम्हारी ज़िद न छूटेगा दामन
तन्हा छोड़ कर तुम कहाँ गए !

वक़्त-ए-रुखसत आकर मिल लो
सफ़र अधूरा कर तुम कहाँ गए !

'शब' की बस एक रात अपनी
वो रात लेकर तुम कहाँ गए !

- जेन्नी शबनम (नवम्बर 7, 2009)

______________________________

tum kahaan gaye

*******

ek saanjh ghir aayee hai mann par
meri subah lekar tum kahaan gaye !

ek phool khilaa ek deep jalaa
sab bujhaa kar tum kahaan gaye !

beetaa raat ka pahar bhor na huee
sooraj chhupaa kar tum kahaan gaye !

chubhtee hai ab apnee hin parchhayeen
raushanee dikhaa kar tum kahaan gaye !

tumhaari zidd na chhutegaa daaman
tanhaa chhod kar tum kahaan gaye !

waqt-ae-rukhsat aakar mil lo
safar adhuraa kar tum kahaan gaye !

'shab' kee bas ek raat apnee
wo raat lekar tum kahaan gaye !

- jenny shabnam (november 7, 2009)

_____________________________________

Friday, October 30, 2009

93. नज़्म तुम्हारी बनते हैं... / nazm tumhaari bante hain...

नज़्म तुम्हारी बनते हैं...

*******

चलो ऐसा कुछ करते हैं
एक दर्द अपना रोज़ कहते हैं,
तुम सुनते जाना मेरा अफ़साना
एक नज़्म तुम्हारी हम रोज़ बनते हैं !

फूल खिलेंगे नज़्मों के
दर्द की दास्ताँ जब पूरी होगी,
समेट लेना नज्मों का हर गुच्छा
मेरे दर्द की निशानी है उन फूलों में !

ऐसा कुछ करना तुम
रूह छोड़ जाए मुझको जब,
अपनी नज़्मों का एक गुलदस्ता
रोज़ मेरी मज़ार पे चढ़ा देना सनम !

- जेन्नी शबनम (अक्टूबर 30, 2009)

__________________________________

nazm tumhaari bante hain...

*******

chalo aisa kuchh karte hain
ek dard apna roz sunaate hain,
tum sunte jaanaa mera afsaanaa
ek nazm tumhaaree hum roz bante hain.

phool khilenge nazmon ke
dard kee daastaan jab poori hogi,
samet lenaa nazm ka har guchchha
mere dard kee nishaanee hai un phoolon mein.

aisa kuchh karna tum
ruh chhod jaaye mujhko jab,
apnee nazmon ka ek guldasta
roz meree mazaar pe chadhaa denaa sanam.

- jenny shabnam (october 30, 2009)

________________________________________________

Thursday, October 29, 2009

92. ये बस मेरा मन है... / ye bas mera mann hai...

ये बस मेरा मन है...

*******

ज़िन्दगी के अर्थ मिलते नहीं
खो से गए हैं जैसे सब कहीं
ब्रह्माण्ड की असीम शून्यता में,
अधर में लटके हैं शब्द
एहसासों का अधैर्य स्पंदन
क्यों नहीं दौड़े चले आते पास मेरे ?
हर उस दौर से तो गुजरती हूँ
जहाँ रंगीन खूबसूरत धरती है
सपनीला सा सुन्दर आसमान है 
आह! ये कैसा शोर है...
अरे! वहाँ तो सन्नाटा है...
उफ़! नहीं ये बस मेरा मन है !

- जेन्नी शबनम (अक्टूबर 29, 2009)

___________________________________

ye bas mera mann hai...

*******

zindgi ke arth milte nahin
kho se gaye hain jaise, sab kahin
brahmaand kee aseem shunyata mein,
adhar mein latke hain shabd
ehsaason ka adhairya spandan
kyun nahin daude chale aate paas mere ?
har us daur se to gujarti hun
jahan rangeen khubsurat dharti hai
sapneela sa sundar aasmaan hai.
aah ! ye kaisa shor hai...
are ! wahan to sannata hai...
uff ! nahin ye bas mera mann hai !

- jenny shabnam (october 29, 2009)

______________________________________

91. पैगाम चाँद को सुना जाना / paigaam chaand ko suna jaanaa

पैगाम चाँद को सुना जाना

*******

चाँद खिले तो छत पर आ जाना, मुहूरत हमें भी बता जाना
पैगाम हम चाँद से पूछेंगे, अपना पैगाम चाँद को सुना जाना 

इबादत की वो पाक घड़ी, जब साथ एक युग हम जी आए
मुकम्मल सफ़र उम्र भर का, वो पल मेरा हमें दिला जाना 

वक़्त के घाव थे बहुत, तुम्हारे ज़ख्मों को हम कैसे छुपाएँगे
एक निशानी मेरी पेशानी पे, जो तुमने दिए वो मिटा जाना 

वक़्त ने दिए थे इतने ही लम्हे, वादा था कि बिछड़ जाना है
मिटने का दर्द हम सह लेंगे, अपनी दुनिया में हमें छुपा जाना 

न चाह कोई न माँग तुम्हारी, कम्बख्त ये दिल समझता नहीं
उस जहाँ में ढूँढ़ेंगे, मेरे अंतिम पल में अपनी छवि दिखा जाना 

हँसने की कसम देते हो सदा, इतने ज़ालिम क्यों हो प्रियतम
आज एक कसम है तुमको मेरी, हर कसम से हमें छुड़ा जाना 

तुम कृष्ण हो किसी राधा के, एक मीरा भी तुममे रहती है
देव अराध्य हो तुम मेरे, इस 'शब' को न तुम भुला जाना 

- जेन्नी शबनम (अक्टूबर 28, 2009)

______________________________________________________

paigaam chaand ko suna jaana

*******

chaand khile to chhat par aa jaanaa, muhurat hamein bhi bata jaanaa,
paigaam hum chaand se puchhenge, apnaa paigaam chaand ko sunaa jaanaa.

ibaadat kee wo paak ghadee, jab saath ek yug hum jee aaye,
mukammal safar umra bhar ka, wo pal mera hamein dilaa jaanaa.

waqt ke ghaaw theye bahut, tumhaare zakhmon ko hum kaise chhupayenge,
ek nishaanee meree peshaani pe, jo tumne diye wo mita jaanaa.

waqt ne diye theye itne hin lamhe, waadaa thaa ki bichhad jaanaa hai,
mitne ka dard hum sah lenge, apnee duniya mein hamein chhupaa jaanaa.

na chaah koi na maang tumhaari, kambakht ye dil samajhta nahin,
us jahaan mein dhundhenge, mere antim pal mein apnee chhavi dikha jaanaa.

hansne kee kasam dete ho sadaa, itne zaalim kyu ho priyatam,
aaj ek kasam hai tumko meree, har kasam se hamein chhudaa jaanaa.

tum krishna ho kisi raadha ke, ek meera bhi tumamein rahtee hai,
dev araadhya ho tum mere, is 'shab' ko na tum bhula jaanaa.

- jenny shabnam (october 28, 2009)

__________________________________________________________

Sunday, October 25, 2009

90. भागलपुर दंगा (24. 10. 1989) / Bhagalpur danga (24. 10. 1989)

भागलपुर दंगा (24. 10. 1989)

*******

आज से 20 साल पहले 1989 में आज ही के दिन बिहार में साम्प्रदायिक दंगा शुरू हुआ था  भागलपुर शहर में कई दिनों तक कत्ले-आम जारी रहा, शहर के कई मोहल्ले उजड़ गए, कई गाँवों के नामोनिशान मिट गए, हज़ारों लोग मारे गए  उन दहशत भरे दिनों की याद आज फिर ताज़ा हो आई  आप सभी से उस वक़्त के गहरे ज़ख्मों को बाँट रही हूँ, ये कविता नहीं है, दुखद सत्य है ...

*******

हैरान नहीं, अब तक बिसरा न पाई, वो अतीत
आहत कर देता है, आज भी, जिसका क्रूर दंश 
लाल फूल, लाल तितली, लाल परिधान, लाल रंग
लाल-रक्तिम आकाश, देख चहक उठता था मन 
शायद वक़्त के, क्रूरतम ज़ख्मी रंगों में खो गया
वो लाल रंग, जो होता था कभी, मेरा मनपसंद रंग 

कैसे भूल जाऊँ, वो थर्राती-काँपती हवा, जो बहती रही
हर कोने से चीख़ और खौफ़ से दिन-रात काँपती रही 
बेटा-भैया-चाचा सारे रिश्ते, जो बनते पीढ़ियों से पड़ोसी
अपनों से कैसा डर, थे बेखौफ़, और कत्ल हो गई ज़िन्दगी 
तीन दिन तीन युग सा बीता, पर न आया, मसीहा कोई
औरत बच्चे जवान बूढ़े, चढ़ गए सब, धर्म के आगे बली 

इंसान के, चिथड़े-चिथड़े बदन से, बहता लाल रक्त
बदन यूँ कटता, जैसे बूचड़खाने का हो, निरीह जीव 
राम-हनुमान का जाप, अल्लाह की करुण पुकार
टुकड़ा-टुकड़ा जिस्म, और माँगते रहे, रहम की भीख 
एक घूँट पानी की तड़प लिए, मर गए बेबस प्राण
मानवता के साथ ही, मर गया, हर ख़ुदा और इंसान 

दीवारों पर खून के छीटें, बिस्तर और फर्श हुआ लहुलुहान
लाशों की ढ़ेर में, छुपा इकलौता बच्चा, भी हो गया कुर्बान 
क्षत-विक्षत मांस के लोथड़े, छटपटाती बेबस अधमरी जान
जंग लगे हाथियारों से, बना फिर एक जलियाँ-वाला बाग़ 
बेघर होकर भटकते रहे, जाने कितने ज़ख्म, मन पर लिए
बिछड़ गए जो अपने, कैसे भरपाई करेगा, ख़ुदा या भगवान् 

- जेन्नी शबनम (अक्टूबर 24, 2009)

___________________________________________________

Bhagalpur danga (24. 10. 1989)

*******

aaj se 20 saal pahle 1989 mein aaj hin ke din Bihar mein saampradaayik dangaa huaa thaa. Bhagalpur shahar mein kai dinon tak katle-aam jaari raha, shahar ke kai mohalle ujad gaye, kai jaanwo ke naamonishaan mit gaye, hazaaron log maare gaye, aaj un dahshat bhare dinon kee yaad fir taazaa ho aai. aap sabhi se us waqt ke gahre zakhmon ko baant rahi hun, ye kavita nahi hai, dukhad satya hai...

*******

hairaan nahin, ab tak bisraa na paai, wo ateet
aahat kar deta hai, aaj bhi, jiskaa krur dansh.
laal phool, laal titalee, laal paridhaan, laal rang
laal-raktim aakaash, dekh chahak utha.ta tha mann.
shaayad waqt ke, krurtam zakhmee rangon mein kho gaya
wo laal rang, jo hota tha kabhi, mera manpasand rang.

kaise bhool jaaun, wo tharrati-kaanpti hawaa, jo bahti rahee
har kone se chhekh aur khauff se din-raat kaanpti rahee.
beta-bhaiya-chacha saare rishte, jo bante peedhiyon se padosi
apno se kaisa darr, they bekhauff, aur katl ho gai zindagi.
teen din teen yug sa beeta, par na aayaa, maseehaa koi
aurat bachche jawaan budhe, chadh gaye sab, dharm ke aage balee.

insaan ke, chithde-chithde badan se, bahta laal rakt
badan yun kat.ta, jaise buchadkhaane ka ho, nireeh jiv.
raam-hanumaan ka jaap, allah kee karun pukaar
tukdaa-tukdaa jism, aur maangte rahe, raham kee bheekh.
ek ghunt paani kee tadap liye, mar gaye bebas praan
maanawtaa ke sath hin, mar gayaa, har khudaa aur insaan.

deewaaron per khoon ke chheeten, bistar aur farsh hua lahuloohaan
laashon kee dher mein, chhupaa eklautaa bachchaa, bhi ho gaya kurbaan.
kshat-vikashat maans ke lothde, chhatpatati bebas adhmaree jaan
jung lage hathiyaaron se, banaa fir ek jaaliyan-walaa baag.
beghar hokar bhatakte rahe, jaane kitne zakham, man par liye
bichhad gaye jo apne, kaise bharpaai karega, khudaa ya bhagwaan.

- jenny shabnam (october 24, 2009)

__________________________________________________________________

Friday, October 23, 2009

89. शब को दूर जाने दो / shab ko door jaane do

शब को दूर जाने दो...

*******

ज़िन्दगी को टूट जाने दो, कलम भी छूट जाने दो
उसको जाने का बहाना चाहिए, रूठा है रूठ जाने दो 

साझे एहसासों से बना था, कल मन का एक घरौंदा
अब कहता है मुझको, तसव्वुर से भी दूर जाने दो 

दस्तूर मालुम है उसे भी, उम्र की नादानियों की
फ़ासले उम्र के हों या मन के, भ्रम टूट जाने दो 

जितनी मोहब्बत की उसने, उतनी ही नफ़रत भी
कब किसका पलड़ा भारी, अब मुझे भूल जाने दो 

शिकवा बहुत किया है ज़िन्दगी से, अब न करेंगे
गम और मिले इससे पहले, ज़िन्दगी छूट जाने दो 

ख्वाहिशें तो मिटी नहीं कभी, जिन्हें पाला हमने वर्षों
थम सी गई है ज़िन्दगी, अब साँसों को टूट जाने दो 

रूह से नाता जोड़ कर, जन्म दिए हम एक संतान देव
तुम्हें सौंपती हूँ उस अनाथ को, 'शब' को दूर जाने दो 

- जेन्नी शबनम (अक्टूबर 22, 2009)

____________________________________________

shab ko door jaane do...

*******

zindgi ko toot jaane do, kalam bhi chhoot jaane do
usko jaane ka bahaana chaahiye, rootha hai rooth jaane do.

saanjhe ehsaason se banaa thaa, kal mann ka gharaunda
ab kahtaa hai mujhko, tasauur se bhi door jaane do.

dastoor maaloom hai use bhi, umra kee naadaaniyon kee
faasle umra ke hon ya mann ke, bhrum toot jaane do.

jitnee mohabbat kee usne, utnee hi nafrat bhi
kab kiska paldaa bhaari, ab mujhe bhool jaane do.

shikwa bahut kiya hai zindagi se, ab na karenge
gham aur mile isase pahle, zindagi chhoot jaane do.

khwaahishen to kabhi mitee nahee, jinhein paalaa humne warshon
tham see gayee hai zindagi, ab saanson ko toot jaane do.

rooh se naata jod kar, janm diye hum ek santaan dev
tumhein saunptee us anaath ko, 'shab' ko door jaane do.

- Jenny Shabnam (October २२, 2009)

_______________________________________________________

Friday, October 16, 2009

88. शब ने पाले ही नहीं थे / shab ne paale hin nahin theye

शब ने पाले ही नहीं थे

*******

कुछ लम्हे ऐसे रूठ गए हैं, जैसे साथ कभी हम, जिए ही नहीं थे
यूँ कि कोई साथी छूट जाए, जैसे साथ कभी हम, चले ही नहीं थे 

वक़्त की उदासियों को कौन समझे, जब दिल चीखता ही नहीं
ढूँढ़ता है दिल उस ज़ालिम को, जिसे कभी हम, भूले ही नहीं थे 

मजमा रोज़ है लगता मदिरालय में, कहते कि शराब चीज़ बुरी है
बिन पिए जो होश गँवा दे, ऐसे मयखाने में हम, गए ही नहीं थे 

सन्नाटों में गूँजता रहा समंदर की लहरों-सा, बेबस मासूम एक बदन
दरिंदों ने नोच डाला जिस्म, मगर एहसास जाने क्यों, मारे ही नहीं थे 

शहीद-ए-वतन के तगमे से, जवान बेवा कैसे गुजारे सूना जीवन
जाने कल किसकी बारी, बूढे माँ-बाप ने ऐसे ख़्वाब, देखे ही नहीं थे 

मंदिर-मस्जिद और गुरूद्वारे में, उम्र गुजरी हर चौखट चौबारे में
थक गए अब तो, कैसे कहते हो कि हम ख़ुदा को, ढूँढ़े ही नहीं थे 

ज़माने से पूछते हो भला क्यों, मेरे गुज़रे अफ़सानों का राज़
दर्द मेरा जाने कौन, ग़ैरों के सामने हम कभी, रोए ही नहीं थे 

फ़ना हो जाएँ, तो वो मानेंगे, कितना प्यार हम किए थे उनसे
मिलेंगे वो, ऐसे नामुमकिन अरमान, 'शब' ने, पाले ही नहीं थे 

- जेन्नी शबनम (अक्टूबर 14, 2009)

___________________________________________________

shab ne paale hin nahin theye...

*******

kuchh lamhe aise rooth gaye hain, jaise sath kabhi hum, jiye hin nahin theye
yun ki koi saathi chhoot jaye, jaise saath kabhi hum, chale hi nahin theye.

waqt kee udaasiyon ko kaun samjhe, jab dil cheekhta hi nahin
dhundhta hai dil us zaalim ko, jise kabhi hum, bhoole hi nahin theye.

majmaa roz hai lagta madiraalaye mein, kahte ki sharaab cheez buri hai
bin piye jo hosh ganwaa de, aise mayekhaane mein hum, gaye hi nahin theye.

sannaton mein gunjtaa raha samandar kee lahron-saa, bebas maasoom ek badan
darindon ne noch daalaa jism, magar ehsaas jaane kyun, thamye hi nahin theye.

shaheed-ae-watan ke tagmein se, jawaan bewa kaise gujaare soona jiwan
jaane kal kiski baari, budhe maa-baap ne aise khwaab, dekhe hi nahin theye.

mandir-maszid aur gurudwaare mein, umra gujari har chaukhat chaubaare mein
thak gaye ab to, kaise kahte ho ki hum khuda ko, dhundhe hi nahin they.

zamaane se poochhte ho bhalaa kyun, mere gujre afsaanon kaa raaz
dard mera jaane kaun, gairon ke saamne hum kabhi, roye hi nahin they.

fanaa ho jaayen, to wo maanenge, kitnaa pyaar hum kiye theye unse
milenge wo, aise naamumkin armaan, 'shab' ne, paale hi nahin theye.

- jenny shabnam (october 14, 2009)

____________________________________________________________

Sunday, October 11, 2009

87. अनाम प्रेम कहानी... / anaam prem kahani...

अनाम प्रेम कहानी...

*******

रिश्तों की बनी एक अनाम कहानी
प्रेम ने रचा फिर एक नया इतिहास,
बातें हुईं जो कल हमारी तुम्हारी
महफूज़ रखना सदा मेरा विश्वास 

नई-सी बात कुछ हुई ज़रूर
जो जागते रहे हम सारी रात,
नई-सी कहानी कुछ बनी ज़रूर
सिमटे मीलों के फ़ासले और ख्यालात 

पसरी जब ख़ामोशी तुम्हारी
खो गई थी मेरी भी आवाज़,
एक करवट तुमने था लिया
लौट आए हम अपने पास 

सोचती हूँ जो बातें कल हुई
हकीक़त है या बिछुड़ा ख़्वाब,
सोच से मेरी नींद थी खोई
जाग गई 'शब' की हर रात 

- जेन्नी शबनम (अक्टूबर 10, 2009)

_____________________________

anaam prem kahani...

*******

rishton kee bani ek anaam kahaani
prem ne rachaa fir ek naya itihaas,
baaten huin jo kal humaari tumhaari
mahfooz rakhna sadaa mera vishwaas.

nayee see baat kuchh hui zaroor
jo jaagte rahe hum saari raat,
nayee see kahaani kuchh bani zaroor
simte meelon ke faasle aur khayaalaat.

pasree jab khaamoshi tumhaari
kho gayee thee meri bhi aawaaz,
ek karwat tumne thaa liyaa
laut aaye hum apne paas.

sonchti hun jo baaten kal hui
hakiqat hai yaa bichhudaa khwaab,
soch se meri neend thee khoyee
jaag gayee 'shab' kee har raat.

- jenny shabnam (october 10, 2009)

____________________________________

Thursday, October 8, 2009

86. तुम्हारी अतियों से डरती हूँ... / tumhaari atiyon se darti hun...

तुम्हारी अतियों से डरती हूँ...

*******

तुम्हारी अतियों से बहुत डरती हूँ
चाहे प्यार या तुम्हारा गुस्सा हो 

जब प्यार में आसमान पर बिठाते हो
ज़मीं पर गिर जाने का भय होता है,
जब गुस्से में सारा घर उठा लेते हो
बेघर हो जाने का खौफ़ सताता है 

तुम्हारी हर अतियों से डरती हूँ
तुम क्यों नहीं समझ पाते हो?

मेरी साँसे जिस दिन थम जाए
ओह ! तुम क्या करोगे,
तुम्हारी अति...

ओह ! मेरे प्रियतम !
तुम ज़िन्दगी को देखो न
अपनी सोच से बाहर आकर
अपने अतियों से बाहर आकर 

मैं, तुम्हारी मैं,
तुम्हारी हर अतियों से बहुत डरती हूँ 

- जेन्नी शबनम (अक्टूबर 7, 2009)
________________________________


tumhaari atiyon se darti hun...

*******

tumhari atiyon se bahut darti hun,
chaahe pyaar yaa tumhaara gussa ho.

jab pyaar mein aasmaan par bithaate ho
zameen par gir jaane ka bhaye hota hai,
jab gussa mein sara ghar uthaa lete ho
beghar ho jaane ka khauf sataata hai.

tumhari har atiyon se darti hun,
tum kyun nahin samajh paate ho.

meri saansein jis din tham jaaye,
ohh ! tum kya karoge,
tumhaari ati...

ohh ! mere priyatam !
tum zindgi ko dekho na,
apni soch se baahar aakar,
apne atiyon se baahar aakar.

main, tumhaari main,
tumhaari har atiyon se bahut darti hun.

- jenny shabnam (october 7, 2009)

______________________________________

Thursday, September 24, 2009

85. पुरातत्व और अवशेष.../ puraatatwa aur awshesh...

पुरातत्व और अवशेष...

*******

तुम तो जानते हो, पुरातत्वों के ज्ञाता हो
बुलंद इमारत को खंडहर बनने में सदियाँ गुजरती हैं,
तुम तो पहचानते हो, प्राचीन कलाओं के मर्मज्ञ हो
जीवंत मूर्तियाँ वक़्त की धार से विखंडित हो जाती हैं 

तुम तो समझते हो, अवशेषों के पारखी हो
हम कैसे महज़ एक पल में अपने ही अवशेष रह गए,
तुम तो मानते हो, रहस्यों के विचारक हो
हम कैसे वक़्त के विरुद्ध जीर्ण अवस्था में जीवित रह गए 

अब तुम ही बताओ, हम क्या बताएँ कि एक ख़ामोश आँधी
कैसे पल भर में सारे सपने तोड़ हमें बिखरा जाती है?
कैसे कोई बाग क्षण भर में उजड़ जाता है?
कैसे कोई पौधा ठूँठ भर रह जाता है?
कैसे आलिशान महल जर्जर बन जाता है?
कैसे ख़्वाहिशें बसने से पूर्व छीन ली जाती हैं?

तुम तो पुरातत्ववेत्ता हो, सुरक्षित रखना जानते हो
जीर्णोधार कर खंडहर को सदियों संरक्षित कर सकते हो,
तुम कला-विशेषज्ञ हो, कला को निखारना जानते हो
अपनी दक्षता से निष्प्राण मूर्तियों में जीवन्तता ला सकते हो 

या फिर तुम इतना तो कर ही सकते हो
जो भी इमारत बनाओ ठोस धरातल पर बनाओ,
ताकि लम्हा भर में कोई आँधी उसे ध्वस्त न कर सके
पौधों को सींचते रहो ताकि बेमौसम मुरझा न सके,
ख़्वाहिशों को ज़मीन-आसमान दो ताकि वो पल सके
हमें सँवारो ताकि हमारे अवशेषों में भी कोई हमें ढूँढ़ सके 

तुम अपनी समस्त ऊर्जा से इस अक्षुण्ण संपदा को सँभालो
कि वक़्त से पहले खंडहर बन जाने का अभिशाप कोई न झेले,
अपने प्रेम और विश्वास से अवशेषों को बचा कर रखो
कि युगों बाद भी अपनी निशानियाँ स्वयं हम भूल न सकें 

- जेन्नी शबनम (सितम्बर 22, 2009)

________________________________________________

puraatatwa aur awshesh...

*******

tum to jaante ho, puraatatwon ke gyaata ho,
buland imaarat ko khandhar banne mein sadiyan gujarti hain.
tum to pahchaante ho, praacheen kalaaon ke marmagya ho,
jiwant moortiyan waqt kee dhaar se vikhandit ho jati hai.

tum to samajhte ho, awsheshon ke paarkhi ho,
hum kaise mahaz ek pal mein apne hin awshesh rah gay.
tum to maante ho, rahasyon ke vichaarak ho,
hum kaise waqt ke viruddh jirn awastha mein jiwit rah gay.

ab tum hin batao hum kya batayen ki ek khaamosh aandhi,
kaise pal bhar mein saare sapne tod hamein bikhraa jaati hai?
kaise koi baag kshan bhar mein ujad jata hai?
kaise koi paudhaa thunth bhar rah jata hai?
kaise aalishaan mahal jarjar ban jata hai?
kaise khwaahishein basne se purv chheen lee jati hai?

tum to puratatwa-wetta ho, surakshit rakhna jante ho,
jirnodhaar kar khandhar ko sadiyon sanrakshit kar sakte ho.
tum kalaa-visheshagya ho, kalaa ko nikharnaa jaante ho,
apni dakshtaa se nishpraan moortiyon mein jiwantata laa sakte ho.

yaa fir tum itnaa to kar hin sakte ho
jo bhi imaarat banao thos dharatal par banao,
taaki lamhe bhar mein koi aandhi use dhwast na kar sake,
paudhon ko seenchte raho taaki bemausam murjhaa na sake,
khwaahishon ko zameen-aasmaan do taaki wo pal sake,
hamein sanwaaro taaki hamare awsheshon mein bhi koi hamein dhundh sake.

tum apni samast urjaa se is akshunna sampadaa ko sambhaalo ki
waqt se pahle khandhar ban jaane ka abhishaap koi na jhele.
apne prem aur vishwaas se awshesho ko bachaa kar rakho ki
yugon baad bhi apni nishaaniyan swayam hum bhool na saken.

- jenny shabnam (september 22, 2009)

_________________________________________________________________

Monday, September 14, 2009

84. उसका आख़िरी कलाम है / uska aakhiree kalaam hai

उसका आख़िरी कलाम है

*******

हर ख़्वाब मेरा, वो पालता रहा
जो पल-पल मन मेरा चाहता रहा,
कितना जान-निसार वो इंसान है
मेरा सुकून उसकी ज़िन्दगी का करार है !

मेरी मुस्कुराहटों से खिलता रहा
मुझे तस्वीर में रोज़ ढूँढ़ता रहा,
दर्द मेरा अपने सीने में भरता है
मुझे तराशना बस उसका कमाल है !

मेरे ज़ख्म रोज़ सिलता रहा
जो ज़माने से मुझे मिलता रहा,
कैसे कह दें कि हमें दूर जाना है
उसके हाथ में ज़िन्दगी की कमान है !

मुझे हर्फ़-हर्फ़ रोज़ सुनता रहा
जाने कितने ख़्वाब बुनता रहा,
हर सफ़हे पर बस मेरा नाम है
ये शायद उसका आख़िरी कलाम है !

- जेन्नी शबनम (सितम्बर 6, 2009)

________________________________

uska aakhiree kalaam hai...

*******

har khwaab mera wo paaltaa rahaa
jo pal-pal man mera chaahtaa raha,
kitna jaan-nisaar wo insaan hai
mera sukoon uski zindgi ka karaar hai.

meri muskuraahaton se khiltaa raha,
mujhe tasweer mein roz dhundhta raha,
dard mera apne seene mein bhartaa hai
mujhe taraashnaa bas uskaa kamaal hai.

mere zakham roz siltaa raha
jo zamaane se mujhe miltaa raha,
kaise kah dein ki hamein door janaa hai
uske haath mein zindgi ka kamaan hai.

mujhe harf-harf roz suntaa rahaa
jaane kitne khwaab buntaa rahaa,
har safahe par bas mera naam hai
ye shaayad uskaa aakhiree kalaam hai.

- jenny shabnam (september 6, 2009)

____________________________________________

Friday, September 11, 2009

83. किसी कोख में नहीं जाऊँगी माँ...

किसी कोख में नहीं जाऊँगी माँ...

*******

अब तक न जाने कितने कोख से, जबरन छीनी गई
जीवन जीने की तमन्ना, हर बार, बेबस कुचली गई,
जानती हूँ, बस थोड़ी देर हूँ, मैं कोख में तुम्हारी माँ
आज एक बार फिर, बेदर्दी से, मैं मारी जाऊँगी माँ । 

माँ, जानती हो, तुम्हारी कोख में पहले भी, मैं ही आई थी
दोनों बार तुम्हारी लाचारी और समाज की क्रूरता भोगी थी,
जिद थी, तुम्हारी कोख से जन्म लूँ, इसलिए आती थी
शायद तुम्हारी तरह मैं भी सुन्दर बनाना चाहती थी । 

माँ, जानती हो, इस घर में तुमसे भी पहले, मैं आना चाहती थी
किसी दूसरी माँ के गर्भ में समा, इस घर में पनाह चाहती थी,
बाबा की बुज़दिली और धर्म-परम्परा के नाम पर, बलि चढ़ी थी
उस बिनब्याही कलंकित माँ के साथ, मैं भी तो, जल कर मरी थी । 

माँ, देखो न, बाबा की वही कायरता, वही पौरुष-दंभ
मैं कत्ल होऊँगी और तुम एक बार फिर होगी गाभिन,
सात फेरों के बाद भी, तुम्हारा अवलम्ब बन न सके बाबा
अपनी माँ बहन है प्रिये उन्हें, पर तुम और मैं क्यों नहीं माँ?

माँ, तुम्हें जलाया नहीं, न निष्कासित किया है
शायद तुम्हारे बाबा का धन, तुम्हें जीवित रखता है,
तुम्हारी कोख बाँझ नहीं, पुत्र की गुंजाइश बची है
शायद इसलिए तुम्हारी किस्मत, पूरी रूठी नहीं है । 

माँ, तुम भी तो कितना सहती रही हो
औरत होने का, ख़ामियाजा भुगतती रही हो,
दहेज तो पूरा लाई, पर वंश-वृक्ष उगा नहीं पाई
हर फ़र्ज़ निभाती रही, एक ये धर्म निभा नहीं पाई । 

माँ, अभिमन्यु ने पूरी कोख से, पाया था अधूरा ज्ञान
मैं अधूरी कोख से पा गई, इस दुनिया का पूरा ज्ञान,
दो महीने में वो सब देख आई, जो औरत सहती है
दोष किसी और का, वो अग्नि-परिक्षा देती रहती है । 

माँ, तुम्हारी तरह अपराधी बन, मैं जीना नहीं चाहती
तुम्हारी कोख में आकर, तुम्हें मैं खोना नहीं चाहती,
अब तुम्हारी कोख में, मैं कभी नहीं आऊँगी माँ
अब किसी की कोख में, मैं कभी नहीं जाऊँगी माँ । 

- जेन्नी शबनम (09. 09. 09)

_____________________________________________

Monday, September 7, 2009

82. तुम्हें इंसान बना दिया

तुम्हें इंसान बना दिया

*******

सज़दे में झुक गया सिर
जब रगों में इश्क पसर गया
वक़्त की देने गवाही, देखो
ख़ुदा भी ज़मीन पे उतर गया !

पहलू में एक बुत था
तुमने जीवन भर दिया
पाकीज़गी का ये आलम, देखो
अश्कों में तुमने, चरणामृत भर दिया !

अपनी हँसी, तुम्हें थमा कर
तुममें दर्द भी भर दिया,
फ़रिश्ता हो अब भी, तुम मेरे
देखो, आज तुम्हें इंसान कर दिया !

अब जाओगे कैसे, कहीं तुम
तुम्हें अपने दिल में समा दिया,
हम कहते थे, कि तुम ख़ुदा हो
जाओ, आज तुम्हें इंसान बना दिया !

- जेन्नी शबनम (सितम्बर 3, 2009)

_______________________________

tumhen insaan banaa diya...

*******

sazde mein jhuk gaya sir
jab ragon mein, ishq pasar gaya,
waqt kee dene gawaahi, dekho
khudaa bhi zameen pe utar gaya.

pahloo mein ek but tha
tumne jiwan bhar diya,
paakeezgi ka ye aalam, dekho
ashqon mein tumne, charanaamrit bhar diya.

apni hansi tumhein thama kar
tum.mein dard bhi bhar diya,
farishtaa ho ab bhi, tum mere
dekho, aaj tumhein insaan kar diya.

ab jaaoge kaise, kahin tum
tumhein apne dil mein samaa diya,
hum kahte they, ki tum khuda ho
jaao, aaj tumhein insaan banaa diya.

- jenny shabnam (september 3, 2009)

___________________________________

Tuesday, September 1, 2009

81. ख़ुदा बना दिया

ख़ुदा बना दिया

*******

मिजाज़ कौन पूछे, जब ख़ुद नासाज़ हो
ये सोच हमने, ख़ुद ही सब्र कर लिया !

इश्क का जुनून, कैसे कोई जाने भला
वो जो मोहब्बत से, महरूम रह गया !

दाखिल ही नहीं कभी, बेदख़ल कैसे हों
फिर भी ये सुन-सुन, ज़माना गुज़र रहा !

मायूसी से बहुत, थक कर पुकारा उसे
बादलों में गुम वो, फिर निराश कर गया !

तरसते लोग जहां में, एक ख़ुदा के वास्ते
'शब' ने जाने कितनों को, ख़ुदा बना दिया !

- जेन्नी शबनम (अगस्त 31, 2009)

______________________________________

Wednesday, August 26, 2009

80. आँखों में इश्क भर क्यों नहीं देते हो

आँखों में इश्क भर क्यों नहीं देते हो

*******

दावा करते तुम, आँखों को मेरी पढ़ लेते हो
फिर दर्द मेरा तुम, समझ क्यों नहीं लेते हो !

बारहा करते सवाल, मेरी आँखों में नमी क्यों है
माहिर हो, जवाब ख़ुद से पूछ क्यों नहीं लेते हो !

कहते हो कि समंदर-सी, मेरी आँखें गहरी है
लम्हा भर उतर कर, नाप क्यों नहीं लेते हो !

तुम्हारे इश्क की तड़प, मेरी आँखों में बहती है
आकर लबों से अपने, थाम क्यों नहीं लेते हो !

हम रह न सकेंगे तुम बिन, जानते तो हो
फिर आँखों में मेरी, ठहर क्यों नहीं जाते हो !

ज़ाहिर करती मेरी आँखें, तुमसे इश्क है
बड़े बेरहम हो, कुबूल कर क्यों नहीं लेते हो !

मेरे दर्द की तासीर, सिर्फ तुम ही बदल सकते हो
फिर मेरी आँखों में इश्क, भर क्यों नहीं देते हो !

वक़्त का हिसाब न लगाओ, कहते हो सदा
'शब' की आँखों से, कह क्यों नहीं देते हो !

- जेन्नी शबनम (अगस्त 19, 2009)

_____________________________________________

Tuesday, August 18, 2009

79. हम दुनियादारी निभा रहे

हम दुनियादारी निभा रहे

*******

एक दुनिया, तुम अपनी चला रहे
एक दुनिया, हम अपनी चला रहे !

ख़ुदा तुम सँवारो दुनिया, बहिश्त-सा
महज़ इंसान हम, दुनियादारी निभा रहे !

हवन-कुंड में कर अर्पित, प्रेम-स्वप्न
रिश्तों से, घर हम अपना सजा रहे !

समाज के कायदे से, बगावत ही सही
एक अलग जहां, हम अपना बसा रहे !

अपने कारनामे को देखते, दीवार में टँगे
जाने किस युग से, हम वक़्त बीता रहे !

सरहद की लकीरें बँटी, रूह इंसानी है मगर
तुम सँभलो, पतवार हम अपनी चला रहे !

शब्द ख़ामोश हुए या ख़त्म, कौन समझे
'शब' से दुनिया का, हम फ़ासला बढ़ा रहे !

______________

बहिश्त - स्वर्ग
______________

- जेन्नी शबनम (अगस्त 17, 2009)

______________________________________

Tuesday, August 11, 2009

78. यही अर्ज़ होता है

यही अर्ज़ होता है

*******

मजरूह सही, ये दर्द-ए-इश्क का तर्ज़ होता है
तजवीज़ न कीजिए, इंसान बड़ा ख़ुदगर्ज़ होता है !

आप कहते हैं कि हर मर्ज़ की दवा, है मुमकिन
इश्क में मिट जाने का जुनून, भी मर्ज़ होता है !

दोस्त न सही, दुश्मन ही समझ लीजिए हमको
दुश्मनी निभाना भी, दुनिया का एक फर्ज़ होता है !

आप मनाएँ हम रूठें, बड़ा भला लगता हमको
आप जो ख़फा हो जाएँ तो, बड़ा हर्ज़ होता है !

खुशियाँ मिलती हैं ज़िन्दगी सी, किश्तों में मगर
हँस कर उधार साँसे लेना भी, एक कर्ज़ होता है !

वो करते हैं हर लम्हा, हज़ार गुनाह मगर
मेरी एक गुस्ताखी का, हिसाब भी दर्ज़ होता है !

इश्क से महरूम कर, दर्द बेहिसाब न देना 'शब' को
हर दुश्वारी में साथ दे ख़ुदा, बस यही अर्ज़ होता है !
___________________

मजरूह _ घायल / ज़ख्मी
___________________

- जेन्नी शबनम (अगस्त 11, 2009)

________________________________________________

Thursday, August 6, 2009

77. काश ! हम ज़ंजीर बने न होते...

काश ! हम ज़ंजीर बने न होते...

*******

नहीं मालूम कब, मैं और तुम
प्रेम पथिक से, लौह-ज़ंजीर बनते चले गए
वक़्त और ज़िन्दगी की भट्ठी में
हमारे प्रेम की अक्षुण्ण सम्पदा  
जल गई
और ज़ंजीर की एक-एक कड़ी की तरह
हम जुड़ते चले गए ।  

कभी जिस्म और रूह का कुँवारापन
तो कभी हमारा मौन प्रखर-प्रेम
कड़ी बना
कभी रिश्ते की गाँठ और हमारा अनुबंध
कभी हमारी मान-मर्यादा और रीति-नीति
तो कभी समाज और कानून
कड़ी बना ।  

कभी हम फूलों से, एक दूसरे का दामन सजाते रहे
और उसकी ख़ुशबू में हमारा कस्तूरी देह-गंध
कड़ी बना
कभी हम कटु वचन-बाणों से एक दूसरे को बेधते रहे
कि ज़ख्मी कदम परिधि से बाहर जाने का साहस न कर सके
और आनंद की समस्त संभावनाओं का मिटना
एक कड़ी बना 

वक़्त और ज़िन्दगी के साथ, हम तो न चल सके
मगर हमारी कड़ियों की गिनती रोज़-रोज़ बढ़ती गई,
मैं और तुम, दोनों छोर की कड़ी को मज़बूती से थामे रहे
हर रोज़ एक-एक कड़ी जोड़ते रहे, और दूर होते रहे
ये छोटी-छोटी कड़ियाँ मिलकर
बड़ी ज़ंजीर बनती गई 

काश ! हम ज़ंजीर बने न होते
हमारे बीच कड़ियों के टूटने का
भय न होता
मन, यूँ लौह-सा कठोर न बनता
हमारा जीवन, यूँ सख्त कफ़स न बनता
बदनुमाई का इल्ज़ाम, एक दूसरे पर न होता 

प्रेम के धागे से बँधे सिमटे होते
एक दूसरे की बाहों में संबल पाते
उन्मुक्त गगन में उड़ते फिरते
हम वक़्त के साथ कदम मिलाते
उम्र का पड़ाव वक़्त की थकान बना न होता 

ख़ुशी यूँ बेमानी नहीं, इश्क बन गया होता
हम बेपरवाह, बेइंतेहा मोहब्बत के गीत गाते
ज़िन्दगी का फ़लसफा, रूमानी बन गया होता
हम इश्क के हर इम्तहान से गुज़र गए होते
काश ! हम जंजीर बने न होते !

_____________________
कफ़स - पिंजड़ा
बदनुमाई - कुरूपता
_____________________

- जेन्नी शबनम (अगस्त 3, 2009)

______________________________________________

Monday, July 27, 2009

76. उजाला पी लूँ (क्षणिका) / ujaala pee loon (kshanika)

उजाला पी लूँ (क्षणिका)

*******

चाहती हूँ दिन के उजाले की
कुछ किरणें
मुट्ठी में बंद कर लूँ,
जब घनी काली रातें
लिपट कर डराती हों मुझे
मुट्ठी खोल
थोड़ा उजाला पी लूँ,
थोड़ी-सी
ज़िन्दगी जी लूँ !

- जेन्नी शबनम (नवम्बर, 2003)

_______________________________

ujaala pee loon (kshanika)

*******

chaahti hoon din ke ujaale kee
kuchh kirneyen
mutthi mein band kar loon,
jab ghani kaalee raateyen lipat kar
daraati hon mujhey,
mutthi khol
thoda ujaala pee loon,
thodi-see
zindagi jee loon !

- Jenny Shabnam (November, 2003)

_____________________________________

Friday, July 24, 2009

75. काश ! कोई ज़ंजीर होती (क्षणिका) / kaash ! koi zanjeer hotee (kshanika)

काश ! कोई ज़ंजीर होती (क्षणिका)

*******

वीरान राहों पर
तन्हा, ख़ामोश चल रही हूँ
थक गई हूँ, टूट गई हूँ
न जाने कैसी राह है
ख़त्म नहीं होती,
समय की कैसी बेबसी है
एक पल को थम नहीं पाती,
काश ! कोई ज़ंजीर होती
वक़्त और ज़िन्दगी के पाँव जकड़ देती !

- जेन्नी शबनम (जुलाई 24, 2009)

_________________________________

kaash ! koi zanjeer hotee (kshanika)

*******

veeraan raahon par
tanha, khaamosh chal rahee hoon
thak gaee hoon, toot gaee hoon
na jaane kaisee raah hai
khatm nahin hoti,
samay kee kaisee bebasi hai
ek pal ko tham nahin paatee,
kaash ! koi zanjeer hotee
waqt aur zindagi ke paanv jakad detee !

- Jenny Shabnam (July 24, 2009)

_______________________________________

Wednesday, July 22, 2009

74. शमा बुझ रही

कुछ शेर हैं नज़्म-सा सही, नाम क्या दूँ ये पता भी नहीं,
जो नाम दें आपकी मर्ज़ी, पेश है शमा पर मेरी एक अर्ज़ी...

शमा बुझ रही

*******

शमा बुझ रही, आओ जल जाओ, है नशीली सुरूर मयकशी,
मिट गई तो करनी होगी, फिर उम्र तन्हा बसर, ऐ परवानों !

बुझने से पहले हर शमा, है धधकती बेइंतेहा दिलकशी,
बुझ रही शमा तो आ पहुँचे, फिर क्यों मगर, ऐ जलनेवालों !

सहर होने से पहले है बुझना, फिर क्यों भला छाई मायूसी,
ढूँढ़ लो अब कोई हसीन शमा, बदल कर डगर, ऐ मतवालों !

जाओ लौट जाओ हमदर्द मुसाफ़िरों, अब हुई साँस आख़िरी,
फ़िजूल ही ढ़ल गया, जाने क्यों उम्र का हर पहर, ऐ सफ़रवालों !

मिज़ाज़ अब क्या पूछते हो, बस सुन लो उसकी बेबस ख़ामोशी,
जल रही थी जब तड़पकर, तब तो न लिए ख़बर, ऐ शहरवालों !

सलीका बताते हो मुद्दतों जीने का क्यों, है ये वक़्त-ए-रुख्सती,
बेशक शमा से सीख लो, शिद्दत से मरने का हुनर, ऐ उम्रवालों !

शमा की हर साँस तड़प रही जलने को, बुझ जाना है नियति,
इल्तिज़ा है, दम टूटने से पहले देख लो एक नज़र, ऐ दिलवालों !

जल चुकी दम भर शमा, जान लो 'शब', है ये दस्तूर-ए-ज़िन्दगी,
ख़त्म हुआ, अब मान भी लो, इस शमा का सफ़र, ऐ जहाँवालों !

- जेन्नी शबनम (मई 25, 2009)

____________________________________________________________

Saturday, July 18, 2009

73. मेरी ज़िन्दगी...

मेरी ज़िन्दगी...

*******

ज़िन्दगी मेरी, कई रूप में
सामने आती है,
ज़िन्दगी को पकड़ सकूँ
दौड़ती हूँ, भागती हूँ, झपटती हूँ,
साबूत न सही
कुछ हिस्से तो पा लूँ 

हर बार ज़िन्दगी हँस कर
छुप जाती है,
कभी यूँ भाग जाती
जैसे मुँह चिढ़ा रही हो,
कभी कुछ हिस्से नोच भी लूँ
तो मुट्ठी से फिसल जाती है 

जाने जीने का शऊर नहीं मुझको
या हथेली छोटी पड़ जाती है,
न पकड़ पाती, न सँभल पाती
मुझसे मेरी ज़िन्दगी 

- जेन्नी शबनम (जुलाई 18, 2009)

_______________________________________

Thursday, July 16, 2009

72. नेह-निमंत्रण तुम बिसरा गए...

नेह-निमंत्रण तुम बिसरा गए...

*******

नेह-निमंत्रण, तुम बिसरा गए
फिर आस खोई तो क्या हुआ ?
सपनों के बिना भी, हम जी लेंगे
मेरा दिल टूटा तो क्या हुआ ?

मुस्कान तुम्हारी, मेरा चहकना
फिर हँसी रोई तो क्या हुआ ?
यकीन हम पर, न तुम कर पाए
मेरा दंभ हारा तो क्या हुआ ?

ख़्वाबों में भी, जो तुम आ जाओ
तन्हा रात मिली तो क्या हुआ ?
मन का पिंजड़ा, अब भी है खुला
मेरा तन हारा तो क्या हुआ ?

तुम तक पहुँचती, सब राहों पर
अँगारे बिछे भी तो क्या हुआ ?
इरादा किया, तुम तक है पहुँचना
पाँव ज़ख्मी मेरा तो क्या हुआ ?

मुकद्दर का, ये खेल देखो
फिर मात मिली तो क्या हुआ ?
अजनबी तुम बन गए, अब तो
फिर आघात मिला तो क्या हुआ ?

मुश्किल है, फिर भी है जीना
ज़िन्दगी सौगात मिली तो क्या हुआ ?
उम्मीद की उदासी, रुख़सत होगी
अभी वक़्त है ठहरा तो क्या हुआ ?

- जेन्नी शबनम (मई 24, 2009)

__________________________________

71. कोई बात बने

कोई बात बने

*******

ज़ख्म गहरा हो औ ताज़ा मिले, तो कोई बात बने
थोड़ी उदासी से, न कोई ग़ज़ल, न कोई बात बने !

दस्तूर-ए-ज़िन्दगी, अब मुझको, न बताओ यारों
एक उम्र जो फिर मिल जाए, तो कोई बात बने !

मौसम की तरह हर रोज़, बदस्तूर बदलते हैं वो
गर अब के जो न बदले मिजाज़, तो कोई बात बने !

रूठने-मनाने की उम्र गुज़र चुकी, अब मान भी लो
एक उम्र में जन्म दूजा मिले, तो कोई बात बने !

उनके मोहब्बत का फ़न, बड़ा ही तलख़ है यारों
फ़कत तसव्वुर में मिले पनाह, तो कोई बात बने !

रख आई 'शब' अपनी खाली हथेली उनके हाथ में
भर दें वो लकीरों से तक़दीर, तो कोई बात बने !

_________________________
बदस्तूर - नियमानुसार
दूजा - दूसरा
फ़न - कला
तल्ख़ - कटु
_________________________

- जेन्नी शबनम (जुलाई 15, 2009)

____________________________________________

Friday, July 10, 2009

70. बुरी नज़र (क्षणिका)

बुरी नज़र (क्षणिका)

*******

कुछ ख़ला-सी रह गई ज़िन्दगी में,
जाने किसकी बददुआ लग गई मुझको !
कहते थे सभी कि ख़ुद को बचा रखूँ बुरी नज़र से,
हमने तो रातों की स्याही में ख़ुद को छुपा रखा था !

- जेन्नी शबनम (जूलाई 10, 2009)

_________________________________________

Sunday, July 5, 2009

69. 'शब' की मुराद

'शब' की मुराद
[ 'ज़ख्म' फिल्म से प्रेरित नज़्म ]

*******

'शब' जब 'शव' बन जाए, उसको कुछ वक़्त रहने देना
बेदस्तूर सही, सहर होने तक ठहरने देना !

उम्र गुज़ारी है 'शब' ने अँधेरों में
रौशनी की एक नज़र पड़ने देना !

डरती है बहुत 'शब' आग में जलने से
दुनियावालों, उसे दफ़न करने देना !

मज़हब का सवाल जो उठने लगे तो
सबको वसीयत 'शब' की पढ़ने देना !

ढ़क देना माँग की सिंदूरी लाली को
वजह-ए-वहशत 'शब' को न बनने देना !

जगह नहीं दे मज़हबी जब दफ़नाने को
घर में अपने, 'शब' की कब्र बनने देना !

तमाम ज़िन्दगी बसर हुई तन्हा 'शब' की
जश्न भारी औ मजमा भी लगने देना !

अश्क नहीं फूलों से सजाना 'शब' को
'शब' के मज़ार को कभी न ढ़हने देना !

'शब' की मुराद, पूरी करना मेरे हमदम
'शब' के लिए, कोई मर्सिया न पढ़ने देना !

______________________________
शब - रात (एक काल्पनिक नाम)
शव - लाश / मुर्दा
वजह-ए-वहशत - भय / आतंक का कारण
मर्सिया - मृत्यु पर शोकगान
_______________________________

- जेन्नी शबनम (नवम्बर, 1998)

___________________________________________

Saturday, July 4, 2009

68. आज़माया हमको

आज़माया हमको

*******

बेख़याली ने कहाँ-कहाँ न भटकाया हमको
होश आया तो तन्हाई ने तड़पाया हमको 

इस बाज़ार की रंगीनियाँ लुभाती नहीं अब  
नन्ही आँखों की उदासी ने रुलाया हमको 

उन अनजान-सी राहों पर यूँ चल तो पड़े हम  
असूफ़ों और फ़रिश्तों ने आज़माया हमको 

वजह-ए-निख्वत उनकी दूर जो गए हम
मिले कभी फिर तो गले भी लगाया हमको 

रुसवाइयों से उनकी तरसते ही रहे हम
इश्क की हर शय ने बड़ा सताया हमको 

दर्द दुनिया का देख के घबराई बहुत 'शब'
ऐ ख़ुदा ऐसा ज़माना क्यों दिखाया हमको 

____________________________________
असूफ़ - दुष्ट / अनीति करने वाला
वजह-ए-निख्वत - अभिमान / अंहकार के कारण
____________________________________


- जेन्नी शबनम (जुलाई 4, 2009)

_____________________________________________

Friday, July 3, 2009

67. मुमकिन नहीं है

मुमकिन नहीं है

*******

परों को क़तर देना अब तो ख़ुद ही लाज़िमी है
वरना उड़ने की ख्वाहिश, कभी मरती नहीं है । 

कोई अपना कहे, ये चाहत तो बहुत होती है
पर अपना कोई समझे, तकदीर ऐसी नहीं है । 

अपना कहूँ, ये ज़िद तुम्हारी, बड़ा तड़पाती है
अब मुझसे मेरी ज़िन्दगी भी, सँभलती नहीं है । 

तुम ख़फा होकर चले जाओ, मुनासिब तो है
मैं तेरी हो सकूँ, कभी मुमकिन ही नहीं है 

गैरों के दर्द में, सदा रोते उसे है देखा 
'शब' अपनी व्यथा, कभी किसी से कहती नहीं है ।


- जेन्नी शबनम (जूलाई 3, 2009)

_________________________________________________

Monday, June 29, 2009

66. आख़िर क्यों ?...

आख़िर क्यों ?...

*******

बेअख्तियार दौड़ी थी
जाने क्यों ?
कुछ पाने या खोने
जाने क्यों ?
कुछ लम्हों की सौगात मिली
साथ दर्द इक इनाम मिला,
अंहकार की घोर टकराहट थी
और भय की अखंडित दीवार थी,
पाट सकी न अपना संशय
जता सकी न अपना आशय,
पाप-पुण्य से परे प्यासे तन
सत्य-असत्य से विचलित मन,
बाँट सकी न अपनी निराशा
दिला सकी न कोई आशा,
थम सकी न मेरी राहें
थाम सकी न कोई बाहें,
बेतहाशा भागी थी
आख़िर क्यों ?
क्या पाया क्या खो आई
आख़िर क्यों ?

- जेन्नी शबनम (नवम्बर 2008)

________________________________________

Friday, June 26, 2009

65. सपनों के उपले...

सपनों के उपले...

*******

अपने सपनों से
कुछ उपले बनाई हूँ,
उपलों को सुलगाकर
जीवन सेंक रही हूँ,
कहीं मेरी ज़िन्दगी
जम न जाए । 

मन को भूख़ जब सताती है
उपलों को दहकाकर
ख़्वाहिशों का खाना पकाती हूँ,
कहीं आत्मा
भूखी मर न जाए । 

अकेलेपन की व्याकुलता
जब तड़पाती है
उपलों को धधकाकर
जीवन का सन्देश तलाशती हूँ,
कहीं ज़िन्दगी
और बोझिल न हो जाए । 

जीवन का अँधियारा
जब डराता है
उपलों को जलाकर
उजाला तलाशती हूँ,
कहीं भटक कर
मंज़िल खो न जाए । 

- जेन्नी शबनम (अक्टूबर 2005)

___________________________________

Wednesday, June 24, 2009

64. कृष्ण ! एक नई गीता लिखो...

कृष्ण ! एक नई गीता लिखो...

*******

फ़र्क नहीं पड़ता तुम्हें, जब निरीह मानवता, बेगुनाह मरती है,
फ़र्क पड़ता है तुम्हें, जब कोई तुम्हारे आगे, सिर नहीं नवाता है । 
जाने कितना कच्चा धर्म है तुम्हारा, किसी की अवहेलना से उबल जाता है,
निरपराधों की आहुति से मन नहीं भरता, अबोधों का बलिदान चाहता है । 

जो कलंक हैं मानवता के, उनपर ही अपनी कृपा दिखाते हो,
जो इंसानी धर्म निभाते, उन्हें जीते जी तुम नरक दिखाते हो । 
तुमने कहा था, जो तुम चाहो वही होता, इशारे से तुम्हारे चलती है दुनिया,
तुम्हारी इच्छा के विपरीत, कोई क्षण भी न गुजरता, न ही दुनिया की रीत है बदलता । 

फिर क्या समझूँ, ये तुम्हारी लीला है ?
हिंसा और अत्याचार का, ये तुम्हें कैसा नशा है ?
विपदाओं के पहाड़ तले, दिलासा का झूठा भ्रम, क्यों देते हो ?
पाखंडी धर्म-गुरुओं का ऐसा कौम क्यों उपजाते हो ?

कैसे कहते हो तुम, कि कलियुग में ऐसा ही घोर अनर्थ होगा,
क्या तुम्हारे युग में आतंक और अत्यचार न हुआ था ?
तुम तो ईश्वर हो, फिर क्यों जन्म लेना पड़ा था तुम्हें सलाखों के अंदर ?
कहाँ थी तुम्हारी शक्ति, जब तुम्हारी नवजात बहनों की निर्मम हत्या होती रही ?

औरत को उस युग में भी, एक वस्तु बना कर पाँच मर्दों में बाँट दिया,
अर्धनग्न नारी को जग के सामने शर्मसार कर, ये कैसा खेल दिखाया ?
कौरव-पांडव का युद्ध करा कर, रिश्तों को दुश्मनी का पाठ सिखाया,
अपनों की हत्या करने का, संसार का ये कैसा अजब रूप दिखाया ?

क्या और कोई तरीका नहीं था ?
रिश्तों की परिभाषा का ?
जीवन के दर्शन का ?
समाज के उद्धार का ?
विश्व के विघटन का ?
तुम्हारी शक्ति का ?
उस युग के अंत का ?

धर्म-जाति सब बँट चुके, रिश्तों का भी कत्ल हुआ,
तुम्हारी सत्ता में था अँधियारा फैला, फिर मानव से कैसे उम्मीद करें?
द्वापर का जो धर्म था, वो तुम्हारे समय का सत्य था,
अब अपनी गीता में, इस कलियुग की बात कहो ! 

कृष्ण ! आओ, इस युग में आकर इंसानी धर्म सिखाओ,
अवतरित होकर, एक बार फिर जगत का उद्धार करो !
प्रेम-सद्भाव का संसार रचा कर, एक नया युग बसाओ,
आज के युग के लिए, समकालीन एक नयी गीता लिखो ! 

- जेन्नी शबनम (जून 24, 2009)

______________________________________________________________

Friday, June 12, 2009

63. बारिश... / Baarish...

बारिश...

*******

बारिश में भीगने से, हुई जो मेरी मनाही
क्या करूँ, मदमस्त घनघोर घटा छा गयी,
जाऊँ कहाँ, अब किस-किस घर में लूँ पनाह
कहीं जाने से पहले, मेरे घर की छत चू पड़ी । 

ठंडी फुहारों संग, हर ग़म है उघड़ता
बरसती बूँदों में, आँसू भी तो है छुपता,
रिमझिम-रिमझिम बादल, यूँ है गरजता बरसता
जैसे तड़प के रो दिया हो, आसमान बेसाख्ता । 

बरखा की बूँदों संग, मन यूँ है लरजता
छुप जाऊँ जैसे, हो सीना महबूब का,
बरखा में भीगता है तन, मन यूँ है मचलता
आगोश में जैसे, पिघलता है बदन, महबूब का । 

वो तो कहते हैं, ये तमाम उम्र की है, मेरी सज़ा
अब कैसे कहूँ कि बारिश से, मुझे प्यार है कितना,
भीगूँगी तो फिर भी, जैसे भीगती रही हूँ सदा
अब उनसे न कहूँगी, मन में क्या-क्या है बसा । 

- जेन्नी शबनम (अगस्त, 2008)

_____________________________________

Baarish...

*******

Baarish mein bhigne se, hui jo meri manaahi
Kya karoon, madmast ghanghore ghata chha gai,
Jaaoon kahaan, ab kis-kis ghar mein lun panaah
Kahin jaane se pahle, mere ghar kee chhat choo padi.

Thandee fuhaaron sang, har gam hai ughadta
Barasti boondon mein, aansoo bhi to hai chhupta,
Rimjhim-rimjhim baadal, yun hai garajta barasta
Jaise tadap ke ro diya ho, aasmaan besaakhta.

Barkha kee boondon sang, man yun hai larajta
Chhup jaaoon jaise, ho seena mahboob ka,
Barkha mein bheegta hai tan, man yun hai machalta
Aagosh mein jaise pighalta hai, badan mahboob ka.

Wo to kahte hain, ye tamam umrr ki hai, meri saza
Ab kaise kahoon ki baarish se, mujhe pyar hai kitna,
Bhigoongi to phir bhi, jaise bhigti rahi hoon sada
Ab unse na kahoogi, man mein kya-kya hai basa.

- Jenny Shabnam (August, 2008)

**********************************************

Thursday, June 4, 2009

62. ख़त...

ख़त...

*******

इबारत लिख प्रेम की
लिफ़ाफ़े में रख, छुपा देती हूँ,
भेजूँगी ख़त महबूब को । 

पन्नों से फिसल जाते हैं हर्फ़
और प्रेम की जगह छप जाता है दर्द,
जाने कौन बदल देता है ?

कभी न चाहा कि बाँटूँ अपना दर्द
अमानत है, जो ख़ुदा ने दी कि रखूँ सहेजकर,
उसके लिए मुझसा भरोसे मंद, शायद कोई नहीं । 

हैरान हूँ, परेशान हूँ
पैगाम न भेज पाने से, उदास हूँ,
कैसे भेजूँ, दर्द में लिपटा कोई ख़त ?

या खुदा ! हर्फ़ मेरा बदल जाता जो
तक़दीर मेरी क्यों न बदल पाता वो ?
ख़तों के ढ़ेर में, रोज़ इज़ाफा होता है । 

सारे ख़त, अपनी रूह में छुपाती हूँ,
क्यों लिखती हूँ वो ख़त ?
जिन्हें कभी कहीं पहुँचना ही नहीं है । 

अब सारे ख़त, प्रेम या दर्द
मेरे ज़ेहन में रोज़ छपते हैं,
और मेरे साथ ज़िन्दगी जीते हैं । 

- जेन्नी शबनम (दिसंबर, 2008)

_____________________________________