Tuesday, February 9, 2010

122. सच हो सकता नहीं / sach ho sakta nahin

सच हो सकता नहीं

*******

सत्य जो कभी सच हो सकता नहीं
काफ़िला ख़्वाबों का, पर रुकता नहीं । 

ज़िन्दगी चाहती है एक हसीन लम्हा
क्यों आता वो वक़्त, जो मिलता नहीं । 

सच का सफ़र मुझसे मुमकिन कहाँ
झूठा सपना मन में, अब पलता नहीं । 

धुँआ-धुआँ-सी नज़रों में एक आस
अश्क के साथ मगर, वो बहता नहीं । 

वादाखिलाफ़ी हो कि वक़्त की रंजिश
मन थकता है पर, जीवन थमता नहीं । 

हर इल्ज़ाम है मुझपर चलो यूँ ही सही
कारवाँ यादों का, तुम बिन गुज़रता नहीं । 

दहकती ज्वाला हो कि ठिठुरती शबनम
कैसे कह दूँ कि जिस्म, यह जलता नहीं । 

बीती 'शब' की एक रात थी सुहानी कभी
वो कहानी पुरानी, कोई अब सुनता नहीं । 

- जेन्नी शबनम (फरवरी 8, 2010)

_______________________________________

sach ho sakta nahin

*******

satya jo kabhi sach ho sakta nahin
kaafila khwaabon ka, par rukta nahin.

zindagi chaahti hai ek haseen lamha
kyon aataa wo waqt, jo milta nahin.

sach ka safar mujhse mumkin kahan
jhutha sapna mann mein, ab palta nahin.

dhuaan-dhuaan-see nazaron mein ek aas
ashq ke sath magar, wo bahta nahin.

waadaakhilaafi ho ki waqt kee ranjish
mann thakta hai par, jiwan thamta nahin.

har ilzaam hai mujhpar chalo yun hi sahi
kaarwaan yaadon ka, tum bin guzarta nahin.

dahakti jwaala ho ki thithurti shabnam
kaise kah doon ki jism, yah jalta nahin.

beetee 'shab' kee ek raat thee suhaani kabhi
wo kahaani puraani, koi ab sunta nahin.

- Jenny Shabnam (February 8, 2010)

______________________________________