Wednesday, April 18, 2018

572. विनती...

विनती...   

*******   

समय की शिला पर   
जाने किस घड़ी लिखी   
जीवन की इबारत मैंने   
ताउम्र मैं व्याकुल रही   
और वक़्त तड़प गया,   
वक़्त को पकड़ने में   
मेरी मांसपेशियाँ   
कमज़ोर पड़ गई   
दूरियाँ बढ़ती गई   
और वक़्त लड़खड़ा गया।   
अब मैं आँखें मूँदे बैठी हूँ 
समय से विनती करती हूँ   
या तो वक़्त दो   
या बिन बताए   
सब अपनों की तरह   
मेरे पास से भाग जाओ।   

- जेन्नी शबनम (18. 4. 2018)

____________________________

Thursday, April 12, 2018

571. बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ...

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ...   

*******   

वो कहते हैं -   
बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ।   
मेरे भी सपने थे   
बेटी को पढ़ाने के   
किसी राजकुमार से ब्याहने के   
पर मेरे सपनों का कत्ल हुआ   
मेरी दुनिया का अंत हुआ,   
पढ़ने ही तो गई थी मेरी लाड़ली   
खून से लथपथ सड़क पर पड़ी   
जीवन की भीख माँग रही थी   
और वह राक्षस   
कैसे न पसीजा उसका मन   
उस जैसी उसकी भी तो होगी बहन   
वह भी तो किसी माँ का लाड़ला होगा   
माँ ने उसे भी अरमानों से पाला होगा   
मेरी दुलारी पर न सही   
अपनी अम्मा पर तो तरस खाता   
अपनी अम्मा के सपनों को तो पालता   
पर उस हवसी हैवान ने मेरे सपनों का खून किया   
मेरी लाड़ली को मार दिया   
कहीं कोई सुनवाई नहीं   
पुलिस कचहरी सब उसके   
ईश्वर अल्लाह सब उसके।   
आह! मेरी बच्ची!   
कितनी यातनाओं से गुजरी होगी   
अम्मा-अम्मा चीखती होगी   
समझ भी न पाई होगी   
उसके नाजुक अंगों को क्यों   
लहूलुहान किया जा रहा है   
क्षण-क्षण कैसे गुजरे होंगे   
तड़प-तड़प कर प्राण छूटे होंगे।   
कहते हैं पाप पुण्य का हिसाब इसी जहाँ में होता है   
किसी दूधमुँही मासूम ने कौन सा पाप किया होगा  
जो कतरे-कतरे में कुतर दिया जाता है उसका जिस्म 
या कोई अशक्त वृद्धा जो जीवन के अंत के निकट है   
उसके बदन को बस स्त्री देह मान   
चिथड़ों में नोच दिया जाता है बदन।   
बेटियों का यही हश्र है   
स्त्रियों का यही अंत है   
तो बेहतर है बेटियाँ कोख में ही मारी जाएँ    
पृथ्वी से स्त्रियों की जाति लुप्त ही हो जाए।   
ओ पापी कपूतों की अम्मा!   
तेरे बेटे की आँखों में जब हवस दिखा था   
क्यों न फोड़ दी थी उसकी आँखें   
क्यों न काट डाले थे उसके उस अंग को   
जिसे वह औजार बना कर स्त्रियों का वध करता है।   
ओ कानून के रखवाले!   
इन राक्षसों का अंत करो   
सरे आम फाँसी पर लटकाओ   
फिर कहो -   
बेटी बचाओ   
बेटी पढाओ।   

- जेन्नी शबनम (12. 4. 2018)   

_______________________________