Wednesday, August 21, 2013

417. मन के नाते (राखी के हाइकु) (12 हाइकु)

मन के नाते (राखी के हाइकु) (12 हाइकु)

*******

1.
हाथ पसारे 
बँधवाने राखी 
चाँद तरसे !

2.
सूनी कलाई 
बहना नहीं आई
भैया उदास !

3.
बाँधो मुझे भी
चन्दा मामा कहता 
सुन्दर राखी !

4.
लाखों बहना
बाँध न पाए राखी 
भैया विदेश !

5.
याद रखना -
बहन का आशीष
राखी कहती !

6.
राखी की लाज
रखना मेरे भैया 
ढाल बनना !

7.
ये धागे कच्चे
जोड़ते रिश्ते पक्के
होते ये सच्चे !  

8.
किसको बाँधे
हैं सारे नाते झूठे  
राखी भी सोचे !

9.
नेह लुटाती 
आजीवन बहना 
होती पराई !

10.
करता याद
बस आज ही भैया 
राखी जो आई !

11.
नहीं है आता 
मनाने अब भैया  
अब जो रूठी !

12.
है अनमोल 
उऋण होऊँ कैसे 
मन के नाते !

- जेन्नी शबनम (21. 8. 2013)

_______________________________