Tuesday, August 17, 2010

165. जीवन की अभिलाषा... / jivan ki abhilasha...

जीवन की अभिलाषा...

*******

कोई अनजाना
जो है अनदेखा
सुन लेता समझ लेता
लिख जाता पढ़ जाता
कह देता वो सब
जो मेरे मन ने था चाहा !
भला कैसे होता है ये संभव ?
संवेदनाएँ अलग-अलग होती हैं क्या ?
नहीं आया अब तक मुझे
अनदेखे को देखना
अनपढ़े को पढ़ना
अनकहे को लिखना
अनबुझे को समझना !
क्षण-क्षण का अस्वीकार क्यों ?
जीवन को परखना न आया क्यों ?
निर्धारित पथ का अनुपालन ही उचित क्यों ?
विस्मित हूँ, विफल नहीं
स्तब्ध हूँ, अधैर्य नहीं,
उलझन है पर रहस्य नहीं
पथ है पर साहस नहीं !
अविश्वास स्वयं पर क्यों ?
कामना फिर अक्षमता क्यों ?
हर डोर हाथ में फिर दूर क्यों ?
समय और डगर की भाषा
ले आएगी सम्मुख मेरे,
एक दिन निःसंदेह
जीवन की हर अभिलाषा !

- जेन्नी शबनम (17. 8. 2010)

___________________________

jivan ki abhilasha...

*******

koi anjaana
jo hai andekha
sun leta samajh leta
likh jaata padh jaata
kah deta vo sab
jo mere mann ne tha chaaha !
bhalaa kaise hota hai ye sambhav ?
samvednaayen alag-alag hoti hain kya ?
nahin aaya ab tak mujhe
andekhe ko dekhna
anpadhe ko padhna
ankahe ko likhna
anbujhe ko samajhna !
kshan-kshan ka asvikaar kyon ?
jivan ko parakhna na aaya kyon ?
nirdhaarit path ka anupaalan hi uchit kyon ?
vismit hun, vifal nahin
stabdh hun, adhairya nahin,
uljhan hai par rahasya nahin
path hai par saahas nahin !
avishvaas svayam par kyon ?
kaamna fir akshamta kyon ?
har dor hath men fir door kyon ?
samay aur dagar ki bhaasha
le aayegi sammukh mere,
ek din nihsandeh
jivan ki har abhilaasha !

- jenny shabnam (17. 8. 2010)

________________________________________