Monday, August 9, 2010

164. काँटा भी एक चुभा देगा.../ kaanta bhi ek chubha dega...

काँटा भी एक चुभा देगा...

*******

हौले से काँटा भी एक चुभा देगा
हाँथ में जब कोई फूल थमा देगा,

आह निकले तो हाथ थाम लेगा
फिर धीमे से वो ज़ख़्म चूम लेगा,

कह देगा तेरे वास्ते ही तो गया था
कई दरगाह से दुआ माँग लाया था,

तेरी ही दुआ के फूल तुझे दिया हूँ
चुभ गया काँटा तो क्या दोषी मैं हूँ ?

इस छल का नहीं होता कोई जवाब
न बचता फिर करने को कोई सवाल,

ये सिलसिला यूँ ही तो नहीं चलता है
जीवन किसी के साथ बँध जो जाता है !

__ जेन्नी शबनम (8. 8. 2010)

__________________________________

kaanta bhi ek chubha dega...

*******

houle se kaanta bhi ek chubha dega
haanth men jab koi phool thamaa dega,

aah nikle to haath thaam lega
phir dhime se vo zakhm choom lega,

kah dega tere vaaste hi to gaya tha
kai dargaah se dua maang laaya tha,

teri hi dua ke phool tujhe diya hun
chubh gaya kaanta to kya doshi main hun ?

is chhal ka nahin hota koi jawaab
na bachta phir karne ko koi sawaal,

ye silsila yun hi to nahin chalta hai
jivan kisi ke saath bandh jo jaata hai !

- jenny shabnam (8. 8. 2010)

___________________________________________

163. मैं कितनी पागल हूँ न... / main kitni paagal hun na...

मैं कितनी पागल हूँ न...

*******

मैं कितनी पागल हूँ न !
तुम्हारा हाल भी नहीं पूछी
और तपाक से माँग कर बैठी -
एक छोटा चाँद ला दो न
अपने संदूक में रखूँगी
रोज़ उसकी चाँदनी निहारुँगी !

मैं कितनी पागल हूँ न !
पर तुम भी तो बस...
कहाँ समझे थे मुझे
चाँद न सही चाँदी का ही चाँद बनवा देते
मेरी न सही ज्योतिष की बात मान लेते,
सुना है चाँद और चाँदी दोनों पावन है
उनमें मन को शीतल करने की क्षमता है !

देखो न मेरा पागलपन !
मैं कितना तो गुस्सा करती हूँ
जब तुम घर लौटते हो
और मेरे लिए एक कतरा वक़्त भी नहीं लाते हो
न मेरे पसंद की कोई चीज़ लाते हो,
पर ज़रूरत तो सब पूरी करते हो,
फिर भी मेरी छोटी-छोटी माँग
कभी ख़त्म नहीं होती है,
क्या करूँ मैं पागल हूँ न !

पहले तो तुम्हारे पास सब होता था
पर अब न वक़्त है न चाँद न चाँदी
अब न माँगूँगी कभी
पक्का वादा है मेरा
माँगने से क्या होता है
संदूक तो भर चूका है
अब मेरे पास भी जगह नहीं
ज़ेहन में अब चाँद और चाँदी नहीं,
सभी माँग ख़त्म हो रही है
बस वक़्त का एक टुकड़ा है
जो मेरे पास बचा है,
मान गई हूँ अपना सच
सच में
मैं कितनी पागल हूँ !

- जेन्नी शबनम (मई, 2000)

__________________________________

main kitni paagal hun na...

*******

main kitni paagal hun na !
tumhara haal bhi nahin puchhi
aur tapaak se maang kar baithee -
ek chhota chaand la do na
apne sandook men rakhungi
roz uski chandni nihaarungi !

main kitni paagal hun na !
par tum bhi to bas...
kahaan samajhe theye mujhe
chand na sahi chaandi ka hin chaand banawa dete
meri na sahi jyotish ki baat maan lete,
suna hai chaand aur chaandi dono paawan hai
unmen mann ko shital karne ki kshamta hai !

dekho na mera pagalpan !
main kitna to gussa karti hun
jab tum ghar loutate ho
aur mere liye ek katra waqt bhi nahin late ho
na mere pasand ki koi chiz laate ho,
par zarurat to sab puri karte ho,
phir bhi meri chhoti-chhoti maang
kabhi khatm nahin hoti hai,
kya karun main paagal hun na !

pahle to tumhaare paas sab hota tha
par ab na waqt hai na chaand na chaandi,
ab na maangugi kabhi
pakka waada hai mera,
mangne se kya hota hai
sandook to bhar chuka hai,
ab mere paas bhi jagah nahin
zehan men ab chaand aur chaandi nahin,
sabhi maang khatm ho rahi hai
bas waqt ka ek tukda hai
jo mere paas bachaa hai,
maan gai hun apnaa sach
sach mein
main kitni paagal hun !

- jenny shabnam (may, 2000)

________________________________________________