Wednesday, June 9, 2010

147. मेरी वफ़ा क्यों बातिल हुई / meri wafa kyon baatil hui

मेरी वफ़ा क्यों बातिल हुई

*******

न दख़ल दिया, न दाख़िल हुई
फिर मेरी वफ़ा, क्यों बातिल हुई !

हर ज़ुल्म का इल्ज़ाम मुझपर
मज़लूम भी मैं, और कातिल हुई !

मेरी महज़ूनियत, गैरवाज़िब क्यों
जन्नत भला, किसे हासिल हुई !

मेरे ख़्वाबों ने, कहाँ पहुँचाया मुझे
दामगाह में, ज़िन्दगी शामिल हुई !

समंदर में डूबी, पर भींगी नहीं
मज़िरत ही सही, मैं जाहिल हुई !

तखल्लुस जब सुना 'शब' का
फ़जीहत फिर, सरे महफ़िल हुई !
_______________________________

बातिल - निरर्थक/ गलत
मज़लूम - जिस पर अत्याचार हुआ हो
महज़ूनियत - उदासीनता
दामगाह - फ़रेब की जगह/ जहाँ जाल बिछा हो
मज़िरत - विवशता/ मजबूरी
जाहिल - निपट मूर्ख
तखल्लुस - उपनाम
_______________________________

- जेन्नी शबनम (9. 6. 2010)

______________________________________________

meri wafa kyon baatil hui

*******

na dakhal diya, na daakhil hui
fir meri wafa, kyon baatil hui.

har zulm ka ilzaam mujhpar
mazloom bhi main, aur kaatil hui.

meri mahzuniyat, gairwaajib kyon
jannat bhala, kise haasil hui.

mere khwaabon ne, kahaan pahunchaaya mujhe
daamgaah mein, zindgi shaamil hui.

samandar mein doobi, par bhingi nahin
mazirat hin sahi, main jaahil hui.

takhallus jab suna 'shab' ka
fajihat fir, sare mahafil hui.
_______________________________

baatil - nirarthak/ galat
mazloom - jis par atyaachaar hua ho
mahzuniyat - udaasinta
damgaah - fareb ki jagah/ jahaan jaal bichha ho
mazirat - vivashta/ mazburi
jaahil - nipat murkh
takhallus - upnaam
_______________________________

- Jenny Shabnam (9. 6. 2010)

__________________________________________________