Sunday, March 21, 2010

128. सपना मँगाती है / sapna mangaati hai

सपना मँगाती है

*******

कुछ यादें सिमटी मुस्काती हैं
कुछ बातें अनकही शर्माती हैं !

ओ मीत पूछना कली से तुम
क्यों खुशबू पर यूँ इतराती है !

बावरे भौरे से भी पूछना तुम
खिलती कली क्यों लुभाती है !

ओ साथी पास आ जाओ मेरे
ज़ालिम हवा बड़ी मदमाती है !

झिझक नहीं सुन मेरे हमदम
आज याद तुम्हारी तड़पाती है !

'शब' का सपना आसमान में
आसमान से सपना मँगाती है !

- जेन्नी शबनम (मार्च 21, 2010)

________________________________

aasmaan se sapna mangaati hai

*******

kuchh yaaden simti muskaati hain
kuchh baaten ankahi sharmaati hain.

o meet puchhna kalee se tum
kyon khushboo par yun itaraati hai.

baaware bhounre se bhi puchhna tum
khilti kalee kyon lubhaati hai.

o saathi paas aa jaao mere
zaalim hawa badi madmaati hai.

jhijhak nahin sun mere humdum
aaj yaad tumhaari tadpaati hai.

''shab'' ka sapna aasmaan men
aasmaan se sapna mangaati hai.

- Jenny Shabnam (March 21, 2010)

_____________________________________

127. धूप के बूटे... / dhoop ke boote...

धूप के बूटे...

*******

सफ़ेद चादर पर
सुनहरे धूप के कुछ बूटे टँके थे,
जाने कौन सी पीड़ा थी
क्यों धूप के बूटे ठिठके थे ?
नहीं मालूम
ये परी-देश का पहनावा था
या कि कफ़न,
कुछ बूटे हँसते
कुछ खिलखिलाते थे
कुछ बूटों की आँखें नम थीं
कुछ बूटे सूनी आँखों से
कुछ तलाशते थे,
जाने क्या निहारते थे ?
नहीं मालूम धूप के ये बूटे
जीवन-सन्देश थे
या किसी के जीवन की अधूरी ख़्वाहिश
या ज़िन्दगी जीने की उत्कंठा,
धूप के बूटे शायाद
जीवन की अंतिम घड़ियाँ गिन रहे थे !

- जेन्नी शबनम (मार्च 19, 2010)

________________________________________

dhoop ke boote...

*******

safed chaadar par
sunahre dhoop ke kuchh boote tanke they,
jaane kaun see peeda thee
kyun dhoop ke boote thithke they ?
nahin maaloom
ye paree-desh ka pahnaawa thaa
ya ki kafan,
kuchh boote hanste
kuchh khilkhilaate they
kuchh booton kee aankhein num theen
kuchh boote sooni aankhon se
kuchh talaashte they,
jaane kya nihaarte they ?
nahin maaloom dhoop ke ye boote
jiwan-sandesh they
ya kisi ke jiwan kee adhuri khwaahish
ya zindagi jine kee utkantha,
dhoop ke boote shaayad
jiwan kee antim ghadiyan gin rahe they.

- Jenny Shabnam (March 19, 2010)

________________________________________