शुक्रवार, 8 अक्तूबर 2010

180. अपने पाँव... / apne paanv...

अपने पाँव...

*******

क्या बस इतना ही
और सब ख़त्म... !
एक कदम भी नहीं
और सफ़र का अंत... !

उम्मीद नहीं अब चल पाऊँगी
पहुँच पाऊँगी दुनिया के उस
अंतिम छोर तक
जिसे निहारती रही अनवरत वर्षों,
सोचती थी
कभी तो फ़ुर्सत मिलेगी
और जा पहुँचूँगी अपने पाँव से
वहाँ उस छोर पर
जहाँ सीमा समाप्त होती है
दुनिया की !

अब नहीं जा सकूँगी कभी
बस निहारती रहूँगी
धुँधली नज़रों से
जहाँ तक भी जाए निगाह
चाहे समतल ज़मीन हो
या फिर स्वप्निल आकाश !

कदम तो न बढ़ेंगे
पर नज़र थम-थम कर
साफ़ हो जायेगी,
फिर शायद निहारूँ
उस जहाँ को
जहाँ कभी नहीं पहुँच सकूँगी
न चल सकूँगी कभी
अपने पाँव !

- जेन्नी शबनम (8. 10. 2010)

_________________________________

apne paanv...

*******

kya bas itna hi
aur sab khatm... !
ek kadam bhi nahin
aur safar ka ant... !

ummid nahin ab chal paaungi
pahunch paaungi duniya ke us
antim chhor tak
jise niharati rahi anavarat varshon,
sochti thee
kabhi to fursat milegi
aur ja pahunchungi apne paanv se
vahaan us chhor par
jahaan seema samaapt hotee hai
duniya kee !

ab nahin ja sakungi kabhi
bas nihaarti rahungi
dhundhli nazron se
jahaan tak bhi jaaye nigaah
chaahe samtal zameen ho
ya phir swapnil aakaash !

kadam to na badhenge
par nazar tham-tham kar
saaf ho jaayegi,
fir shaayad nihaaroon
us jahaan ko
jahan kabhi nahi pahunch sakungi
na chal sakungi kabhi
apne paanv !

- jenny shabnam (8. 10. 2010)

____________________________________