Friday, August 27, 2010

167. देह, अग्नि और आत्मा... जाने कौन चिरायु ? / deh, agni aur aatma... jaane koun chiraayu ?

देह, अग्नि और आत्मा... जाने कौन चिरायु ?

*******

जलती लकड़ी पर जल डाल दें
अग्नि बुझ जाती है
और धुएँ उठते हैं
राख शेष रह जाती है
और कुछ अधजले अवशेष बचते हैं,
अवशेष को, जब चाहें जला दें
जब चाहें बुझा दें !

क्या हमारे मन की अग्नि को
कोई जल बुझा सकता है
क्या एक बार बुझ जाने पर
अवशेष को फिर जला सकते हैं
क्यों बच जाती है सिर्फ देह और साँसें
आत्मा तो मर जाती है
जबकि कहते कि, आत्मा तो अमर है !

नहीं समझ पायी अब तक
क्यों होता है ऐसा
आत्मा अमर है, फिर मर क्यों जाती
क्यों नहीं सह पाती
क्रूर वेदना या कठोर प्रताड़ना
क्यों बुझा मन, फिर जलता नहीं ?

नहीं-नहीं, बहुत अवसाद है शायद
इंसान की तुलना, अग्नि से ?
नहीं-नहीं, कदापि नहीं !
अग्नि तो पवित्र होती है
हम इंसान ही अपवित्र होते हैं
शायद...
इसीलिए...
देह, अग्नि और आत्मा
जाने कौन चिरायु ?
कौन अमर ?
कौन...?

- जेन्नी शबनम (22. 8. 2010)

_______________________________________

deh, agni aur aatma...jaane koun chiraayu ?

*******

jalti lakdi par jal daal den
agni bujh jaati hai
aur dhuyen uthte hain
raakh shesh rah jaati hai
aur kuchh adhjale avshesh bachte hain,
avshesh ko, jab chaahen jalaa den
jab chaahen bujha deyn.

kya hamaare mann ki agni ko
koi jal bujha sakta hai
kya ek baar bujh jaane par
avshesh ko phir jalaa sakte hain
kyon bach jaati hai sirf deh aur saansen
aatma to mar jaati hai
jabki kahte ki, aatma to amar hai !

nahin samajh paayi ab tak
kyon hota hai aisa
aatma amar hai, phir mar kyon jaati
kyon nahin sah paati
krur vedna ya kathor prataadna
kyon bujhaa mann, phir jalta nahin ?

nahin-nahin, bahut avsaad hai shaayad
insaan ki tulana, agni se ?
nahin-nahin, kadaapi nahin !
agni to pavitra hoti hai
hum insaan hi apavitra hote hain !
shaayad...
isiliye...
deh, agni aur aatma
jaane koun chiraayu ?
koun amar ??
koun...???

- jenny shabnam (22. 8. 2010)

_____________________________________

Sunday, August 22, 2010

166. इकन्नी-दुअन्नी और मैं चलन में नहीं.../ ikanni duanni aur main chalan mein nahin...

इकन्नी-दुअन्नी और मैं चलन में नहीं...

*******

वो गुल्लक फोड़ दी
जिसमें एक पैसे दो पैसे, मैं भरती थी,
तीन पैसे और पाँच पैसे भी थे, थोड़े उसमें
दस पैसे भी कुछ, बचा कर रखी थी उसमें,
सोचती थी, खूब सारे सपने खरीदूँगी इससे
इत्ते ढ़ेर सारे पैसों में तो, ढ़ेरों सपने मिल जाएँगे !

बचपन की ये अनमोल पूँजी
क्या यादों से भी चली जाएगी ?
अपनी उसी चुंदरी में बाँध दी
जिसे ओढ़ पराये देश आई थी,
अपने इस कुबेर के ख़जाने को टीन की पेटी (बक्सा)
जो मेरी माँ से मिली थी, उसमें छुपा लाई थी,
साथ में उन यादगार लम्हों को भी
जब एक-एक पैसे, गुल्लक में डालती थी,
सोचती थी, खूब सारा सपना खरीदूँगी
जब इस घर से उस घर चली जाऊँगी ।

अब क्या करूँ इन पैसों का ?
मिटटी के गुल्लक के टूटे टुकड़ों का ?
पैसों का अम्बार और गुल्लक के छोटे-छोटे लाल टुकड़े
बार-बार अँचरा के गाँठ खोल निहारती हूँ,
इकन्नी दुअन्नी में भी कहीं सपने बिकते हैं
जब चाह पालती हूँ, ख़ुद से हर बार पूछती हूँ,
नहीं खरीद पाई मैं, आज तक एक भी सपना
बचपन का जोगा ( इकत्रित / संजोया) पैसा
अब चलन में जो नहीं रहा ।

चलन में तो, मैं भी न रही अब
पैसों के साथ ख़ुद को, बाँध ही दूँ अब,
चलन से मैं भी उठ गई, और ये पैसे भी मेरे
अच्छा है, एक साथ दोनों चलन में न रहे,
गुल्लक और पैसे, मेरे सपनों की यादें हैं
एक ही चुंदरी में बँधे, सब साथ जीते हैं,
उस टीन की पेटी में, हिफाज़त से सब बंद है
मेरे पैसे, मेरे सपने, गुल्लक के टुकड़े और मैं ।

- जेन्नी शबनम (20. 08. 2010)
________________________________________

ikanni-duanni aur main chalan mein nahin...

*******

vo gullak phod di,
jismein ek paise do paise, main bhartee thee,
teen paise aur paanch paise bhi they, thode usmen
dus paise bhi kuchh, bachaa kar rakhi thi usmen,
sochti thi, khoob saare sapne kharidungi isase
itte dher saare paison men to, dheron sapne mil jayenge.

bachpan ki ye anmol punji
kya yaadon se bhi chali jaayegi ?
apni usi chundri men baandh di
jise odh paraaye desh aai thi.
apne is kuber ke khajane ko teen kee peti ( box)
jo meri maa se mili thee, usmein chhupa laayee thee,
saath mein un yaadgaar lamhon ko bhi
jab ek-ek paise, gullak mein daalti thee,
sonchti thee, khoob saara sapna kharidungi
jab is ghar se us ghar chali jaaungi.

ab kya karun is paiso ka ?
mitti ke gullak ke toote tukdon ka ?
paison ka ambaar aur gullak ke chhote chhote laal tukade
baar baar anchraa ke gaanth khol niharati hun,
ikanni duanni mein bhi kahin sapne bikate hain
jab chaah paalti hun, khud se har baar puchhti hun,
nahin kharid paai main, aaj tak ek bhi sapnaa
bachpan ka joga ( ikatrit/ sanjoya) paisa
ab chalan men jo nahin raha.

chalan mein to, main bhi na rahi ab,
paison ke sath khud ko, baandh hin dun ab,
chalan se main bhi uth gaee, aur ye paise bhi mere
achchha hai, ek sath donon chalan mein na rahe,
gullak aur paise, mere sapnon ki yaadein hain
ek hin chundri men bandhe, sab saath jite hain,
us teen kee peti mein, hifaazat se sab band hai
mere paise, mere sapne, gullak ke tukde aur main.

- jenny shabnam (20. 8. 2010)

____________________________________________________

Tuesday, August 17, 2010

165. जीवन की अभिलाषा... / jivan ki abhilasha...

जीवन की अभिलाषा...

*******

कोई अनजाना
जो है अनदेखा
सुन लेता समझ लेता
लिख जाता पढ़ जाता
कह देता वो सब
जो मेरे मन ने था चाहा !
भला कैसे होता है ये संभव ?
संवेदनाएँ अलग-अलग होती हैं क्या ?
नहीं आया अब तक मुझे
अनदेखे को देखना
अनपढ़े को पढ़ना
अनकहे को लिखना
अनबुझे को समझना !
क्षण-क्षण का अस्वीकार क्यों ?
जीवन को परखना न आया क्यों ?
निर्धारित पथ का अनुपालन ही उचित क्यों ?
विस्मित हूँ, विफल नहीं
स्तब्ध हूँ, अधैर्य नहीं,
उलझन है पर रहस्य नहीं
पथ है पर साहस नहीं !
अविश्वास स्वयं पर क्यों ?
कामना फिर अक्षमता क्यों ?
हर डोर हाथ में फिर दूर क्यों ?
समय और डगर की भाषा
ले आएगी सम्मुख मेरे,
एक दिन निःसंदेह
जीवन की हर अभिलाषा !

- जेन्नी शबनम (17. 8. 2010)

___________________________

jivan ki abhilasha...

*******

koi anjaana
jo hai andekha
sun leta samajh leta
likh jaata padh jaata
kah deta vo sab
jo mere mann ne tha chaaha !
bhalaa kaise hota hai ye sambhav ?
samvednaayen alag-alag hoti hain kya ?
nahin aaya ab tak mujhe
andekhe ko dekhna
anpadhe ko padhna
ankahe ko likhna
anbujhe ko samajhna !
kshan-kshan ka asvikaar kyon ?
jivan ko parakhna na aaya kyon ?
nirdhaarit path ka anupaalan hi uchit kyon ?
vismit hun, vifal nahin
stabdh hun, adhairya nahin,
uljhan hai par rahasya nahin
path hai par saahas nahin !
avishvaas svayam par kyon ?
kaamna fir akshamta kyon ?
har dor hath men fir door kyon ?
samay aur dagar ki bhaasha
le aayegi sammukh mere,
ek din nihsandeh
jivan ki har abhilaasha !

- jenny shabnam (17. 8. 2010)

________________________________________

Monday, August 9, 2010

164. काँटा भी एक चुभा देगा.../ kaanta bhi ek chubha dega...

काँटा भी एक चुभा देगा...

*******

हौले से काँटा भी एक चुभा देगा
हाँथ में जब कोई फूल थमा देगा,

आह निकले तो हाथ थाम लेगा
फिर धीमे से वो ज़ख़्म चूम लेगा,

कह देगा तेरे वास्ते ही तो गया था
कई दरगाह से दुआ माँग लाया था,

तेरी ही दुआ के फूल तुझे दिया हूँ
चुभ गया काँटा तो क्या दोषी मैं हूँ ?

इस छल का नहीं होता कोई जवाब
न बचता फिर करने को कोई सवाल,

ये सिलसिला यूँ ही तो नहीं चलता है
जीवन किसी के साथ बँध जो जाता है !

__ जेन्नी शबनम (8. 8. 2010)

__________________________________

kaanta bhi ek chubha dega...

*******

houle se kaanta bhi ek chubha dega
haanth men jab koi phool thamaa dega,

aah nikle to haath thaam lega
phir dhime se vo zakhm choom lega,

kah dega tere vaaste hi to gaya tha
kai dargaah se dua maang laaya tha,

teri hi dua ke phool tujhe diya hun
chubh gaya kaanta to kya doshi main hun ?

is chhal ka nahin hota koi jawaab
na bachta phir karne ko koi sawaal,

ye silsila yun hi to nahin chalta hai
jivan kisi ke saath bandh jo jaata hai !

- jenny shabnam (8. 8. 2010)

___________________________________________

163. मैं कितनी पागल हूँ न... / main kitni paagal hun na...

मैं कितनी पागल हूँ न...

*******

मैं कितनी पागल हूँ न !
तुम्हारा हाल भी नहीं पूछी
और तपाक से माँग कर बैठी -
एक छोटा चाँद ला दो न
अपने संदूक में रखूँगी
रोज़ उसकी चाँदनी निहारुँगी !

मैं कितनी पागल हूँ न !
पर तुम भी तो बस...
कहाँ समझे थे मुझे
चाँद न सही चाँदी का ही चाँद बनवा देते
मेरी न सही ज्योतिष की बात मान लेते,
सुना है चाँद और चाँदी दोनों पावन है
उनमें मन को शीतल करने की क्षमता है !

देखो न मेरा पागलपन !
मैं कितना तो गुस्सा करती हूँ
जब तुम घर लौटते हो
और मेरे लिए एक कतरा वक़्त भी नहीं लाते हो
न मेरे पसंद की कोई चीज़ लाते हो,
पर ज़रूरत तो सब पूरी करते हो,
फिर भी मेरी छोटी-छोटी माँग
कभी ख़त्म नहीं होती है,
क्या करूँ मैं पागल हूँ न !

पहले तो तुम्हारे पास सब होता था
पर अब न वक़्त है न चाँद न चाँदी
अब न माँगूँगी कभी
पक्का वादा है मेरा
माँगने से क्या होता है
संदूक तो भर चूका है
अब मेरे पास भी जगह नहीं
ज़ेहन में अब चाँद और चाँदी नहीं,
सभी माँग ख़त्म हो रही है
बस वक़्त का एक टुकड़ा है
जो मेरे पास बचा है,
मान गई हूँ अपना सच
सच में
मैं कितनी पागल हूँ !

- जेन्नी शबनम (मई, 2000)

__________________________________

main kitni paagal hun na...

*******

main kitni paagal hun na !
tumhara haal bhi nahin puchhi
aur tapaak se maang kar baithee -
ek chhota chaand la do na
apne sandook men rakhungi
roz uski chandni nihaarungi !

main kitni paagal hun na !
par tum bhi to bas...
kahaan samajhe theye mujhe
chand na sahi chaandi ka hin chaand banawa dete
meri na sahi jyotish ki baat maan lete,
suna hai chaand aur chaandi dono paawan hai
unmen mann ko shital karne ki kshamta hai !

dekho na mera pagalpan !
main kitna to gussa karti hun
jab tum ghar loutate ho
aur mere liye ek katra waqt bhi nahin late ho
na mere pasand ki koi chiz laate ho,
par zarurat to sab puri karte ho,
phir bhi meri chhoti-chhoti maang
kabhi khatm nahin hoti hai,
kya karun main paagal hun na !

pahle to tumhaare paas sab hota tha
par ab na waqt hai na chaand na chaandi,
ab na maangugi kabhi
pakka waada hai mera,
mangne se kya hota hai
sandook to bhar chuka hai,
ab mere paas bhi jagah nahin
zehan men ab chaand aur chaandi nahin,
sabhi maang khatm ho rahi hai
bas waqt ka ek tukda hai
jo mere paas bachaa hai,
maan gai hun apnaa sach
sach mein
main kitni paagal hun !

- jenny shabnam (may, 2000)

________________________________________________

Friday, August 6, 2010

162. रूठे मन हमें मनाने पड़ते / ruthe mann humen manaane padte

रूठे मन हमें मनाने पड़ते

*******

लम्हों की मानिंद, सपने भी पुराने पड़ते
ख्व़ाब देखें, रूठे मन हमें मनाने पड़ते !

जहाँ-जहाँ कदम पड़े, हमारी चाहतों के
सोए हर शय, हमें ही है जगाने पड़ते !

तूफ़ान का रूख़ मोड़ देंगे, जब भी सोचे
ख़ुद में हौसले, ख़ुद हमें ही लाने पड़ते !

तन्हाईयों की बाबत, जब पूछा सबने
अपने हर अफ़साने, हमें सुनाने पड़ते !

लोग पूछते, आज नज़्म में कौन बसा है
रोज़ नए मेहमान, 'शब' को बुलाने पड़ते !

- जेन्नी शबनम (3. 8. 2010)

______________________________________

ruthe mann humen manaane padte

*******

lamhon ki manind, sapne bhi puraane padte
khwaab dekhen, ruthe mann humen manaane padte !

jahaan jahaan kadam pade, humaari chaahaton ke
soye har shay, humen hi hai jagaane padte !

tufaan ka rukh mod denge, jab bhi soche
khud men housle, khud humen hi laane padte !

tanhaaiyon ki baabat, jab puchha sabne
apne har afsaane, humen sunaane padte !

log puchhte, aaj nazm men koun basa hai
roz naye mehmaan, 'shab' ko bulaane padte !

- jenny shabnam (3. 8. 2010)

______________________________________________

Monday, August 2, 2010

161. हमारे शब्द... / humaare shabd...

हमारे शब्द...

*******

शब्दों के सफ़र में
हम दोनों ही तो
हो गए लहूलुहान,
कोई पिघलता शीशा
या खंजर की धार
बस कर ही देना है वार !

आर पार कर दे रही
हमारे बोझिल रिश्तों को
हमारे शब्दों की कटार !

किसके शब्दों में तीव्र नोक ?
ढूँढते रहते दोषी कौन ?

प्रहार की ताक लगाए
मौका चुकने नहीं देना
बस उड़ेल देना है खौलते शब्द !

पार पा जाना है
तमाम बंधन से
पर नहीं जा सके कभी,
साथ जीते रहे
धकेलते रहे
एक दूसरे का क़त्ल करते रहे
हमारे शब्द !

- जेन्नी शबनम (2. 8. 2010)

_________________________

humaare shabd...

*******

shabdon ke safar mein
hum donon hi to
ho gaye lahooluhaan,
koi pighalta shisha
ya khanjar ki dhaar
bas kar hin dena hai waar !

aar paar kar de rahi
hamaare bojhil rishton ko
hamaare shabdon ki kataar !

kiske shabdon mein tivrr nok?
dundhte rahte doshi koun?

prahaar ki taak lagaaye
mouka chukne nahin dena
bas udel dena hai khoulate shabd !

paar pa jaana hai
tamaam bandhan se
par nahin ja sake kabhi,
saath jite rahe
dhakelate rahe
ek dusare ka qatl karte rahe
humaare shabd !

- jenny shabnam ( 2. 8. 2010)

________________________________

Sunday, August 1, 2010

160. ले चलो संग साजन... / le chalo sang saajan...

(सावन के महीने में वियोगी मनःस्थिति की रचना, जिसकी नायिका वर्षों से अपने प्रियतम का इंतज़ार करती ही जा रही है)
.......................................

ले चलो संग साजन...

*******

काटे नहीं कटत
अब मोरा जीवन,
कासे कहूँ होत
बिकल मोरा मन !

समझें नाहीं
वो हमरी बतिया,
सुन भी लें तो
मोहे आये निंदिया !

बीत गई उमर
सारी बाट जोहे,
जाने कब जागे
मन में प्रीत तोरे !

अबके जो आवो
ले चलो संग साजन,
बीतत नहीं एक घड़ी
बिन तोरे साजन !

- जेन्नी शबनम (1. 8. 2010)
____________________________________________


(saawan ke mahine mein viyogi manah-sthiti kee rachna, jiski naayika warshon se apne priyatam ka intzaar karti hin jaa rahi hai)
........................................

le chalo sang saajan...

*******

kaate nahin katat
ab mora jiwan,
kaase kahun hot
bikal mora mann.

samjhein naahin
wo humri batiya,
sun bhi lein to
mohe aaye nindiya.

beet gai umar
saari baat johe,
jaane kab jaage
mann mein preet tore.

abke jo aao
ley chalo sang saajan,
beetat naahin ek ghadi
bin tore saajan.

- jenny shabnam (1. 8. 2010)

____________________________