Saturday, June 11, 2011

हो ही नहीं...

हो ही नहीं...

*******

कौन जाने सफ़र कब शुरू हो
या कि हो ही नहीं,
रास्ते तो कहीं जाते नहीं
चलना मेरे नसीब में हो ही नहीं !

- जेन्नी शबनम (1. 2. 2011)

_________________________________