Wednesday, July 7, 2010

153. अल्लाह ! ये कैसा सफ़र मैं कर आई... / allah ! ye kaisa safar main kar aai...

अल्लाह ! ये कैसा सफ़र मैं कर आई...

*******

एक लम्हे की बात थी
और सदियाँ गुज़र गईं,
मंज़िल नज़दीक थी
और ज़िन्दगी खो गई !

कुछ कदम थे बढ़े
कुछ कदम थे घटे,
जाने ये कैसा फ़साना
समझ कभी न पाई !

रूह भी हुई अब मिट्टी
मिट्टी में सो गई सिसकी,
तकदीर पर इल्ज़ाम
और दी ख़ुदा की दुहाई !

ग़र चल सको तो चलो
या लौट जाओ इसी पल,
न थी कुवत साथ मरने की
और जीने की कसम उसने खाई !

कह दिया होता उसी पल
बेमकसद है सदियों का सफ़र,
अब हर पहर हुआ ज़ख़्मी
अल्लाह ! ये कैसा सफ़र मैं कर आई !

- जेन्नी शबनम ( 7. 7. 2010)

________________________________

allah ! ye kaisa safar main kar aai...

*******

ek lamhe ki baat thi
aur sadiyaan guzar gaeen,
manzil nazdik thi
aur zindagi kho gai !

kuchh kadam they badhe
kuchh kadam they ghate,
jaane ye kaisa fasaana
samajh kabhi na paai !

rooh bhi hui ab mitti
mitti men so gai siski,
takdir par ilzaam
aur dee khuda ki duhaai !

gar chal sako to chalo
ya lout jaao isi pal,
na thi kuvat saath marne ki
aur jine ki kasam usne khaai !

kah diya hota usi pal
bemaksad hai sadiyon ka safar,
ab har pahar hua zakhmi
allah...ye kaisa safar main kar aai !

- Jenny Shabnam (7. 7. 2010)

_________________________________