Wednesday, June 9, 2010

147. मेरी वफ़ा क्यों बातिल हुई / meri wafa kyon baatil hui

मेरी वफ़ा क्यों बातिल हुई

*******

न दख़ल दिया, न दाख़िल हुई
फिर मेरी वफ़ा, क्यों बातिल हुई !

हर ज़ुल्म का इल्ज़ाम मुझपर
मज़लूम भी मैं, और कातिल हुई !

मेरी महज़ूनियत, गैरवाज़िब क्यों
जन्नत भला, किसे हासिल हुई !

मेरे ख़्वाबों ने, कहाँ पहुँचाया मुझे
दामगाह में, ज़िन्दगी शामिल हुई !

समंदर में डूबी, पर भींगी नहीं
मज़िरत ही सही, मैं जाहिल हुई !

तखल्लुस जब सुना 'शब' का
फ़जीहत फिर, सरे महफ़िल हुई !
_______________________________

बातिल - निरर्थक/ गलत
मज़लूम - जिस पर अत्याचार हुआ हो
महज़ूनियत - उदासीनता
दामगाह - फ़रेब की जगह/ जहाँ जाल बिछा हो
मज़िरत - विवशता/ मजबूरी
जाहिल - निपट मूर्ख
तखल्लुस - उपनाम
_______________________________

- जेन्नी शबनम (9. 6. 2010)

______________________________________________

meri wafa kyon baatil hui

*******

na dakhal diya, na daakhil hui
fir meri wafa, kyon baatil hui.

har zulm ka ilzaam mujhpar
mazloom bhi main, aur kaatil hui.

meri mahzuniyat, gairwaajib kyon
jannat bhala, kise haasil hui.

mere khwaabon ne, kahaan pahunchaaya mujhe
daamgaah mein, zindgi shaamil hui.

samandar mein doobi, par bhingi nahin
mazirat hin sahi, main jaahil hui.

takhallus jab suna 'shab' ka
fajihat fir, sare mahafil hui.
_______________________________

baatil - nirarthak/ galat
mazloom - jis par atyaachaar hua ho
mahzuniyat - udaasinta
damgaah - fareb ki jagah/ jahaan jaal bichha ho
mazirat - vivashta/ mazburi
jaahil - nipat murkh
takhallus - upnaam
_______________________________

- Jenny Shabnam (9. 6. 2010)

__________________________________________________

16 comments:

Jyotsna Pandey said...

हर ज़ुल्म का इल्ज़ाम मुझपर
मज़लूम भी मैं, और कातिल हुई !

मेरे ख़्वाबों ने, कहाँ पहुँचाया मुझे
दामगाह में, ज़िन्दगी शामिल हुई !

एक सच की बानगी जैसे शेर....

बहुत खूब!

बधाई!

रश्मि प्रभा... said...

मेरे ख़्वाबों ने, कहाँ पहुँचाया मुझे
दामगाह में, ज़िन्दगी शामिल हुई !
waah jenny ji, bahut hi badhiyaa

Mukesh Kumar Sinha said...

wah!! ek umda rachna!!

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

मेरे ख़्वाबों ने, कहाँ पहुँचाया मुझे
दामगाह में, ज़िन्दगी शामिल हुई !

समंदर में डूबी, पर भींगी नहीं
मज़िरत हीं सही, मैं जाहिल हुई !


आज तो गज़ब ही लिख दिया है...आपकी रचनाएँ बहुत पढ़ीं हैं मैंने...अब ये ब्लॉग भी फौलो कर लेती हूँ .. :):)

बहुत खूबसूरत ग़ज़ल है...कभी मेरे इस ब्लॉग पर भी आइयेगा ..
http://geet7553.blogspot.com/

संजय भास्कर said...

बेहद रूमानी अहसास और काफ़ी अच्छे से पिरोये हुए..

संजय भास्कर said...

बहुत सुन्दर रचना है, भावविभोर कर दिया आपने!

संजय भास्कर said...

बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों....बेहतरीन भाव....खूबसूरत कविता...

राकेश कौशिक said...

लाजवाब प्रस्तुति - हार्दिक बधाई

Rajendra Swarnkar said...

जेन्नी शबनम जी
अच्छी रचना के लिए बधाई !
उर्दू लफ़्ज़ों के अर्थ दे'कर संप्रेषणीयता सुगम करने के लिए आभार !
थोड़ा बहुत बह्र का परिचय भी देने की मेहरबानी कर देतीं तो और अच्छा होता ।
कुल मिला कर एक उम्दा रचना के लिए मुबारकबाद क़ुबूल फ़रमाएं ।
वक़्त निकाल कर शस्वरं पर भी तशरीफ़ लाएं ।

यहां राजस्थानी ज़ुबान में भी उर्दू की बह्रों पर आधारित ग़ज़लें पढ़ने के लिए है ।

- राजेन्द्र स्वर्णकार
शस्वरं

जेन्नी शबनम said...

Jyotsna Pandey ने कहा…
हर ज़ुल्म का इल्ज़ाम मुझपर
मज़लूम भी मैं, और कातिल हुई !

मेरे ख़्वाबों ने, कहाँ पहुँचाया मुझे
दामगाह में, ज़िन्दगी शामिल हुई !

एक सच की बानगी जैसे शेर....

बहुत खूब!

बधाई!
_____________________

jyotsna ji,
mere is lamhon ke safar mein aapka swaagat hai. rachna ke bhaaw ko aapne samjha, bahut khushi hui, dhanyawaad aapka.

जेन्नी शबनम said...

रश्मि प्रभा... ने कहा…
मेरे ख़्वाबों ने, कहाँ पहुँचाया मुझे
दामगाह में, ज़िन्दगी शामिल हुई !
waah jenny ji, bahut hi badhiyaa
____________________

rashmi ji,
aapka sneh yun hin milta rahe, kamana rahegi, shukriya.

जेन्नी शबनम said...

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…
wah!! ek umda rachna!!
______________________

mukesh ji,
sarahna keliye shukriya.

जेन्नी शबनम said...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…
मेरे ख़्वाबों ने, कहाँ पहुँचाया मुझे
दामगाह में, ज़िन्दगी शामिल हुई !

समंदर में डूबी, पर भींगी नहीं
मज़िरत हीं सही, मैं जाहिल हुई !


आज तो गज़ब ही लिख दिया है...आपकी रचनाएँ बहुत पढ़ीं हैं मैंने...अब ये ब्लॉग भी फौलो कर लेती हूँ .. :):)

बहुत खूबसूरत ग़ज़ल है...कभी मेरे इस ब्लॉग पर भी आइयेगा ..
http://geet7553.blogspot.com/
___________________________

sangeeta ji,
meri rachna aapko itni pasand aai, lekhan safal hua. mere rachnaaon ko aapki pratikriya ka sadaiv intzaar rahega. aapke blog ko follow kar li hun. aapki rachnayen pahle bhi padhti aai hun, ab to aasan ho gaya aapke blog tak ka safar.
bahut shukriya sarahna keliye.

जेन्नी शबनम said...

संजय भास्कर ने कहा…
बेहद रूमानी अहसास और काफ़ी अच्छे से पिरोये हुए..

June 15, 2010 1:25 PM

संजय भास्कर ने कहा…
बहुत सुन्दर रचना है, भावविभोर कर दिया आपने!

June 15, 2010 1:26 PM

संजय भास्कर ने कहा…
बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों....बेहतरीन भाव....खूबसूरत कविता...

June 15, 2010 1:27 PM
___________________________

sanjay ji,
meri rachna ki kaamyaabi hai ki aap 3 baar meri rachna ki taarif kar gaye. meri lekhni aapko pasand aai aapka bahut bahut bahut shukriya.

जेन्नी शबनम said...

राकेश कौशिक ने कहा…
लाजवाब प्रस्तुति - हार्दिक बधाई
______________________

rakesh ji,
bahut dino baad aapko yahan dekhkar prasannata hui, bahut shukriya aapka.

जेन्नी शबनम said...

Rajendra Swarnkar ने कहा…
जेन्नी शबनम जी
अच्छी रचना के लिए बधाई !
उर्दू लफ़्ज़ों के अर्थ दे'कर संप्रेषणीयता सुगम करने के लिए आभार !
थोड़ा बहुत बह्र का परिचय भी देने की मेहरबानी कर देतीं तो और अच्छा होता ।
कुल मिला कर एक उम्दा रचना के लिए मुबारकबाद क़ुबूल फ़रमाएं ।
वक़्त निकाल कर शस्वरं पर भी तशरीफ़ लाएं ।

यहां राजस्थानी ज़ुबान में भी उर्दू की बह्रों पर आधारित ग़ज़लें पढ़ने के लिए है ।

- राजेन्द्र स्वर्णकार
शस्वरं
___________________

rajendra ji,
jo bhi kuchh main likhti hun, kabhi ghazal kabhi nazm ban jati hai. bahar ki jaankari mujhe bilkul hin nahin. agar janti hoti to zarur batati. yun ye rachna ghazal ki tarah hai par nazm hin hai, agar aap iske bhaaw dekhein to.
aapke blog par shighra aaungi.
aap yahan aaye aur sarahna kiye, bahut shukriya.