Friday, August 6, 2010

162. रूठे मन हमें मनाने पड़ते / ruthe mann humen manaane padte

रूठे मन हमें मनाने पड़ते

*******

लम्हों की मानिंद, सपने भी पुराने पड़ते
ख्व़ाब देखें, रूठे मन हमें मनाने पड़ते !

जहाँ-जहाँ कदम पड़े, हमारी चाहतों के
सोए हर शय, हमें ही है जगाने पड़ते !

तूफ़ान का रूख़ मोड़ देंगे, जब भी सोचे
ख़ुद में हौसले, ख़ुद हमें ही लाने पड़ते !

तन्हाईयों की बाबत, जब पूछा सबने
अपने हर अफ़साने, हमें सुनाने पड़ते !

लोग पूछते, आज नज़्म में कौन बसा है
रोज़ नए मेहमान, 'शब' को बुलाने पड़ते !

- जेन्नी शबनम (3. 8. 2010)

______________________________________

ruthe mann humen manaane padte

*******

lamhon ki manind, sapne bhi puraane padte
khwaab dekhen, ruthe mann humen manaane padte !

jahaan jahaan kadam pade, humaari chaahaton ke
soye har shay, humen hi hai jagaane padte !

tufaan ka rukh mod denge, jab bhi soche
khud men housle, khud humen hi laane padte !

tanhaaiyon ki baabat, jab puchha sabne
apne har afsaane, humen sunaane padte !

log puchhte, aaj nazm men koun basa hai
roz naye mehmaan, 'shab' ko bulaane padte !

- jenny shabnam (3. 8. 2010)

______________________________________________

10 comments:

Vijay Pratap Singh Rajput said...

बहुत अच्छा लगा
सुंदर। अति सुंदर!

Akhtar Khan Akela said...

bhn jenni shbnm ji ruthe mn ko mnaane kaa andaaz or fir alfaazon kaa is lmhe ke jzbaton ki akkaasi men istemaal jaadugiri kaa kaam he bhut khub achchaa lgaa aek or abhivykti kaa intizar he. akhtar khan akela kota rajsthan

आशा ढोंडीयाल said...

didi bahut sunder shabdo me man ko manaya hai...sunder abhivyakti ki aapne bhavo ki...badhayi di

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

तूफ़ान का रूख़ मोड़ देंगे, जब भी सोचे
ख़ुद में हौसले, ख़ुद हमें हीं लाने पड़ते !

बहुत खूब ...अच्छी गज़ल

Mukesh Kumar Sinha said...

aaj najm kaun basa hai SAB
roj naye mehman bulane parte hain........:)

hame bhi batayen??


umda.........:)

आशीष/ ASHISH said...

उम्दा.....

anoop joshi said...

bahut khoob.........

रश्मि प्रभा... said...

तूफ़ान का रूख़ मोड़ देंगे, जब भी सोचे
ख़ुद में हौसले, ख़ुद हमें हीं लाने पड़ते !
tabhi wo asar karta hai......bahut hi badhiyaa

kishor kumar khorendra said...

तन्हाइयों की बाबत, जब पूछा सबने
अपने हर अफ़साने, हमें सुनाने पड़ते !

bahut khub kaha aapne

राकेश कौशिक said...

लोग पूछते, आज नज़्म में कौन बसा है
रोज़ नए मेहमान, ''शब'' को बुलाने पड़ते !

जरुरी है - नहीं तो लोग कहेंगे वही फ़साने हमें रोज सुनने पड़ते.