Thursday, September 24, 2009

85. पुरातत्व और अवशेष.../ puraatatwa aur awshesh...

पुरातत्व और अवशेष...

*******

तुम तो जानते हो, पुरातत्वों के ज्ञाता हो
बुलंद इमारत को खंडहर बनने में सदियाँ गुजरती हैं,
तुम तो पहचानते हो, प्राचीन कलाओं के मर्मज्ञ हो
जीवंत मूर्तियाँ वक़्त की धार से विखंडित हो जाती हैं 

तुम तो समझते हो, अवशेषों के पारखी हो
हम कैसे महज़ एक पल में अपने ही अवशेष रह गए,
तुम तो मानते हो, रहस्यों के विचारक हो
हम कैसे वक़्त के विरुद्ध जीर्ण अवस्था में जीवित रह गए 

अब तुम ही बताओ, हम क्या बताएँ कि एक ख़ामोश आँधी
कैसे पल भर में सारे सपने तोड़ हमें बिखरा जाती है?
कैसे कोई बाग क्षण भर में उजड़ जाता है?
कैसे कोई पौधा ठूँठ भर रह जाता है?
कैसे आलिशान महल जर्जर बन जाता है?
कैसे ख़्वाहिशें बसने से पूर्व छीन ली जाती हैं?

तुम तो पुरातत्ववेत्ता हो, सुरक्षित रखना जानते हो
जीर्णोधार कर खंडहर को सदियों संरक्षित कर सकते हो,
तुम कला-विशेषज्ञ हो, कला को निखारना जानते हो
अपनी दक्षता से निष्प्राण मूर्तियों में जीवन्तता ला सकते हो 

या फिर तुम इतना तो कर ही सकते हो
जो भी इमारत बनाओ ठोस धरातल पर बनाओ,
ताकि लम्हा भर में कोई आँधी उसे ध्वस्त न कर सके
पौधों को सींचते रहो ताकि बेमौसम मुरझा न सके,
ख़्वाहिशों को ज़मीन-आसमान दो ताकि वो पल सके
हमें सँवारो ताकि हमारे अवशेषों में भी कोई हमें ढूँढ़ सके 

तुम अपनी समस्त ऊर्जा से इस अक्षुण्ण संपदा को सँभालो
कि वक़्त से पहले खंडहर बन जाने का अभिशाप कोई न झेले,
अपने प्रेम और विश्वास से अवशेषों को बचा कर रखो
कि युगों बाद भी अपनी निशानियाँ स्वयं हम भूल न सकें 

- जेन्नी शबनम (सितम्बर 22, 2009)

________________________________________________

puraatatwa aur awshesh...

*******

tum to jaante ho, puraatatwon ke gyaata ho,
buland imaarat ko khandhar banne mein sadiyan gujarti hain.
tum to pahchaante ho, praacheen kalaaon ke marmagya ho,
jiwant moortiyan waqt kee dhaar se vikhandit ho jati hai.

tum to samajhte ho, awsheshon ke paarkhi ho,
hum kaise mahaz ek pal mein apne hin awshesh rah gay.
tum to maante ho, rahasyon ke vichaarak ho,
hum kaise waqt ke viruddh jirn awastha mein jiwit rah gay.

ab tum hin batao hum kya batayen ki ek khaamosh aandhi,
kaise pal bhar mein saare sapne tod hamein bikhraa jaati hai?
kaise koi baag kshan bhar mein ujad jata hai?
kaise koi paudhaa thunth bhar rah jata hai?
kaise aalishaan mahal jarjar ban jata hai?
kaise khwaahishein basne se purv chheen lee jati hai?

tum to puratatwa-wetta ho, surakshit rakhna jante ho,
jirnodhaar kar khandhar ko sadiyon sanrakshit kar sakte ho.
tum kalaa-visheshagya ho, kalaa ko nikharnaa jaante ho,
apni dakshtaa se nishpraan moortiyon mein jiwantata laa sakte ho.

yaa fir tum itnaa to kar hin sakte ho
jo bhi imaarat banao thos dharatal par banao,
taaki lamhe bhar mein koi aandhi use dhwast na kar sake,
paudhon ko seenchte raho taaki bemausam murjhaa na sake,
khwaahishon ko zameen-aasmaan do taaki wo pal sake,
hamein sanwaaro taaki hamare awsheshon mein bhi koi hamein dhundh sake.

tum apni samast urjaa se is akshunna sampadaa ko sambhaalo ki
waqt se pahle khandhar ban jaane ka abhishaap koi na jhele.
apne prem aur vishwaas se awshesho ko bachaa kar rakho ki
yugon baad bhi apni nishaaniyan swayam hum bhool na saken.

- jenny shabnam (september 22, 2009)

_________________________________________________________________

2 comments:

arun c roy said...

"अपने प्रेम और विश्वास से अवशेषों को बचा कर रखो कि
युगों बाद भी अपनी निशानियाँ स्वयं हम भूल न सकें|" zindgi ke liye bahut bari seekh de rahi hain aap !
saadar!

ज्योति सिंह said...

bahut shaandar rachana .