Sunday, October 25, 2009

90. भागलपुर दंगा (24. 10. 1989) / Bhagalpur danga (24. 10. 1989)

भागलपुर दंगा (24. 10. 1989)

*******

आज से 20 साल पहले 1989 में आज ही के दिन बिहार में साम्प्रदायिक दंगा शुरू हुआ था  भागलपुर शहर में कई दिनों तक कत्ले-आम जारी रहा, शहर के कई मोहल्ले उजड़ गए, कई गाँवों के नामोनिशान मिट गए, हज़ारों लोग मारे गए  उन दहशत भरे दिनों की याद आज फिर ताज़ा हो आई  आप सभी से उस वक़्त के गहरे ज़ख्मों को बाँट रही हूँ, ये कविता नहीं है, दुखद सत्य है ...

*******

हैरान नहीं, अब तक बिसरा न पाई, वो अतीत
आहत कर देता है, आज भी, जिसका क्रूर दंश 
लाल फूल, लाल तितली, लाल परिधान, लाल रंग
लाल-रक्तिम आकाश, देख चहक उठता था मन 
शायद वक़्त के, क्रूरतम ज़ख्मी रंगों में खो गया
वो लाल रंग, जो होता था कभी, मेरा मनपसंद रंग 

कैसे भूल जाऊँ, वो थर्राती-काँपती हवा, जो बहती रही
हर कोने से चीख़ और खौफ़ से दिन-रात काँपती रही 
बेटा-भैया-चाचा सारे रिश्ते, जो बनते पीढ़ियों से पड़ोसी
अपनों से कैसा डर, थे बेखौफ़, और कत्ल हो गई ज़िन्दगी 
तीन दिन तीन युग सा बीता, पर न आया, मसीहा कोई
औरत बच्चे जवान बूढ़े, चढ़ गए सब, धर्म के आगे बली 

इंसान के, चिथड़े-चिथड़े बदन से, बहता लाल रक्त
बदन यूँ कटता, जैसे बूचड़खाने का हो, निरीह जीव 
राम-हनुमान का जाप, अल्लाह की करुण पुकार
टुकड़ा-टुकड़ा जिस्म, और माँगते रहे, रहम की भीख 
एक घूँट पानी की तड़प लिए, मर गए बेबस प्राण
मानवता के साथ ही, मर गया, हर ख़ुदा और इंसान 

दीवारों पर खून के छीटें, बिस्तर और फर्श हुआ लहुलुहान
लाशों की ढ़ेर में, छुपा इकलौता बच्चा, भी हो गया कुर्बान 
क्षत-विक्षत मांस के लोथड़े, छटपटाती बेबस अधमरी जान
जंग लगे हाथियारों से, बना फिर एक जलियाँ-वाला बाग़ 
बेघर होकर भटकते रहे, जाने कितने ज़ख्म, मन पर लिए
बिछड़ गए जो अपने, कैसे भरपाई करेगा, ख़ुदा या भगवान् 

- जेन्नी शबनम (अक्टूबर 24, 2009)

___________________________________________________

Bhagalpur danga (24. 10. 1989)

*******

aaj se 20 saal pahle 1989 mein aaj hin ke din Bihar mein saampradaayik dangaa huaa thaa. Bhagalpur shahar mein kai dinon tak katle-aam jaari raha, shahar ke kai mohalle ujad gaye, kai jaanwo ke naamonishaan mit gaye, hazaaron log maare gaye, aaj un dahshat bhare dinon kee yaad fir taazaa ho aai. aap sabhi se us waqt ke gahre zakhmon ko baant rahi hun, ye kavita nahi hai, dukhad satya hai...

*******

hairaan nahin, ab tak bisraa na paai, wo ateet
aahat kar deta hai, aaj bhi, jiskaa krur dansh.
laal phool, laal titalee, laal paridhaan, laal rang
laal-raktim aakaash, dekh chahak utha.ta tha mann.
shaayad waqt ke, krurtam zakhmee rangon mein kho gaya
wo laal rang, jo hota tha kabhi, mera manpasand rang.

kaise bhool jaaun, wo tharrati-kaanpti hawaa, jo bahti rahee
har kone se chhekh aur khauff se din-raat kaanpti rahee.
beta-bhaiya-chacha saare rishte, jo bante peedhiyon se padosi
apno se kaisa darr, they bekhauff, aur katl ho gai zindagi.
teen din teen yug sa beeta, par na aayaa, maseehaa koi
aurat bachche jawaan budhe, chadh gaye sab, dharm ke aage balee.

insaan ke, chithde-chithde badan se, bahta laal rakt
badan yun kat.ta, jaise buchadkhaane ka ho, nireeh jiv.
raam-hanumaan ka jaap, allah kee karun pukaar
tukdaa-tukdaa jism, aur maangte rahe, raham kee bheekh.
ek ghunt paani kee tadap liye, mar gaye bebas praan
maanawtaa ke sath hin, mar gayaa, har khudaa aur insaan.

deewaaron per khoon ke chheeten, bistar aur farsh hua lahuloohaan
laashon kee dher mein, chhupaa eklautaa bachchaa, bhi ho gaya kurbaan.
kshat-vikashat maans ke lothde, chhatpatati bebas adhmaree jaan
jung lage hathiyaaron se, banaa fir ek jaaliyan-walaa baag.
beghar hokar bhatakte rahe, jaane kitne zakham, man par liye
bichhad gaye jo apne, kaise bharpaai karega, khudaa ya bhagwaan.

- jenny shabnam (october 24, 2009)

__________________________________________________________________

No comments: