Saturday, January 23, 2010

120. एक भ्रम चाहिए... / ek bhram chaahiye...

एक भ्रम चाहिए...

*******

मैं अभागन
जान न सकी तुमको
तुमने ही कब सुध ली हमारी,
नहीं सोचा कि कैसे रह रही हूँगी,
छोड़ दिया इस असार संसार में
स्वयं में समाहित विवश जीने केलिए । 

किस-किस से लडूँ ?
अपनी वेदना से
समाज के नियम से
या तुम्हारी अघोषित उपेक्षा से ?

सारे तर्क और तथ्य
संभावित सत्य हों
फिर भी
ये सच है कि मैं निर्मम पथ पर
अकेली नहीं चल सकती,
कोई बंधन चाहिए
कोई नाता चाहिए
कोई अपना चाहिए । 

असहमति नहीं इस सत्य से
अकेले आए हैं अकेले जाना है,
न विरोध तुम्हारी मति से
न अवरोध तुम्हारी प्रगति में
न प्रतिरोध तुम्हारी छवि से,
न कृपा चाहिए
न अधिकार चाहिए
न बलिदान चाहिए । 

बस अंतिम पड़ाव तक
कठिन डगर में
किसी अपने के साथ का
अपनत्व की बात का
मिथ्या संबल और
एक भ्रम चाहिए । 

- जेन्नी शबनम (जनवरी 16, 2010)

_________________________________


ek bhram chaahiye...

*******

main abhaagan
jaan na sakee tumko
tumne hi kab sudh li hamaari,
nahi socha ki kaise rah rahi hoongi,
chhod diya is asaar sansaar mein
swayam mein samaahit vivash jine keliye.

kis-kis se ladoon?
apni vedna se
samaaj ke niyam se
ya tumhaari aghoshit upeksha se ?

saare tark aur tathya
sambhaavit satya hon
phir bhi
ye sach hai ki main nirmam path par
akeli nahin chal sakti,
koi bandhan chaahiye
koi naata chaahiye
koi apna chaahiye.

asahmati nahin is satya se
akele aaye hain akele jaana hai,
na virodh tumhaari mati se
na avrodh tumhaari pragati mein
na pratirodh tumhaari chhavi se,
na kripa chaahiye
na adhikaar chaahiye
na balidaan chaahiye.

bas antim padaav tak
kathin dagar mein
kisi apane ke saath ka
apnatwa ki baat ka
mithya sambal aur
ek bhram chaahiye.

- Jenny Shabnam (January 16, 2010)

__________________________________________

4 comments:

मनोज कुमार said...

बस अंतिम पड़ाव तक
कठिन डगर में,
किसी अपने के साथ का
अपनत्व की बात का,
मिथ्या संबल और
एक भ्रम चाहिए !
ज़िन्दगी जीने के लिये कुछ भ्रम बहुत काम आते हैं। बहुत अच्छी रचना।

रश्मि प्रभा... said...

मिथ्या संबल और
एक भ्रम चाहिए ! .....bahut sahi

jenny shabnam said...

manoj ji,
sahi kaha aapne, ye bhram kabhi kabhi bahut kaam aate hain. meri rachna samajhne keliye bahut shukriya aapka.

jenny shabnam said...

rashmi ji,
rachna tak aane keliye bahut shukriya.