Tuesday, January 19, 2010

118. ओ ओशो... / O Osho...

ओ ओशो...
[ओशो के महापरिनिर्वाण दिवस पर]

*******

ओ ओशो,
न तुम मेरे गुरु
न तुम मेरे ख़ुदा,
हो तुम मेरे सखा
जैसे कोई मेरा अपना । 

तुम कहते हो -
पहले ख़ुद को पहचानो
अपनी समझ से ज़िन्दगी जानो
राह अपनी ख़ुद बनाओ
प्रेम और आनंद का उत्सव मनाओ । 

तुम राह दिखलाते नहीं
जीना भी सिखलाते नहीं
सत्य को कैसे जानूँ ?
असत्य को कैसे परखूँ ?

ज़िन्दगी जब उलझ जाती है
मन में जब खुशियाँ नाचती हैं
नहीं मिलता कोई जो मुझको सहेजे
मेरा सुख दुःख जो हर पल बाँटे । 

जब दिखता नहीं कोई रौशन पहर
हार जाता अपनी ही व्यथा से मन,
फिर ख़ुद को समेटकर सब बिसराकर
एक आस लिए पहुँच जाती तुम तक,
तुम से कहती हूँ सब रोकर हँसकर
तुम न सुनो पर कह जाती मनभर । 

परवाह नहीं लोग क्या कहते हैं मुझको
तुम्हारे शब्दों से मिलती है राहत मुझको,
तुम चाहो न चाहो कब ये मन है सोचता
तुममें ही बस ये मन है पनाह ढूँढ़ता । 

- जेन्नी शबनम (जनवरी 19, 2012)

___________________________________

O Osho...
[Osho ke mahaaparinirwaan diwas par]

*******

O Osho...
na tum mere guru
na tum mere khuda,
ho tum mere sakha
jaise koi mera apana.

tum kahate ho -
pahle khud ko pahchaano
apni samajh se zindagi jano
raah apni khud banaao
prem aur aanand ka utsav manaao.

tum raah dikhlaate nahin
jeena bhi sikhlaate nahin
satya ko kaise jaanoon ?
asatya ko kaise parkhoon ?

zindagi jab ulajh jatee hai
mann men jab khushiyaan naachti hain
nahin milta koi jo mujhko saheje
mera sukh duhkh jo har pal baante.

jab dikhta nahin koi roushan pahar
haar jaata apni hin vyatha se mann,
phir khud ko sametkar sab bisraakar
ek aas liye pahunch jati tum tak,
tum se kahti hun sab rokar hanskar
tum na suno par kah jaati mannbhar.

paravaah nahin log kya kahte hain mujhko
tumhaare shabdon se milti hai raahat mujhko,
tum chaaho na chaaho kab ye mann hai sochta
tumamen hin bas ye mann hai panaah dundhta.

- Jenny Shabnam (January 19, 2010)

____________________________________________

7 comments:

psingh said...

बहुत खुसुरत रचना
पढ़ कर अच्छा लगा
बहुत बहुत आभार

रश्मि प्रभा... said...

परवाह नहीं लोग क्या कहते हैं मुझको
तुम्हारे शब्दों से मिलती है राहत मुझको,
तुम चाहो न चाहो कब ये मन है सोचता
तुममें हीं बस ये मन है पनाह ढूंढता !
.........
सत्य की आंच पाता है

ह्रदय पुष्प said...

तुम राह दिखलाते नहीं,
जीना भी सिखलाते नहीं,
सत्य को कैसे जानूं ?
असत्य को कैसे परखूँ ?
फिर भी
परवाह नहीं लोग क्या कहते हैं मुझको
तुम्हारे शब्दों से मिलती है राहत मुझको,
तुम चाहो न चाहो कब ये मन है सोचता
तुममें हीं बस ये मन है पनाह ढूंढता!
जेन्नी जी इसे क्या कहेंगे अटूट आस्था या अन्धविश्वास?

jenny shabnam said...

psingh ji,
shukriya aapne is rachna ko saraha.

jenny shabnam said...

rashmi ji,
osho ke shabd na sirf jiwan mein prerna dete balki har kathin samay mein sath dete.
shukriya samajhne keliye.

jenny shabnam said...

kaushik ji,
ye na to atoot aastha hai na andhwishwas. main na to koi vishwaas karti na kisi ki baat maanti. osho dharmguru nahin hain, wo bahut bade vichaarak aur daarshanik hain, jinhe main koi bhagwaan nahi manti, lekin agar kabhi kisi bhagwan ko manna padaa to sabse pahle unhe hin maanungi.osho ko main apna mitra manti hun.
ye mere vichaar hain, meri apni samajh.
aap yaha aaye bahut achha laga, man se shukriya aapka.

guru said...

shukriya aapka
Your blog is great
If you like, come back and visit mine

http://dharmguru.blogspot.com/